गेम्स मेडल

खेल परिणाम खेल इवेंट
रियो डी जेनेरियो 2016
खेल परिणाम खेल इवेंट
रियो डी जेनेरियो 2016
#=49 Table Tennis Singles

मनिका बत्रा

भारत
टेबल टेनिस
लम्बाई
179 सीएम / 5'10''
वज़न
63 किग्रो / 138 पाउंड्स
जन्म तिथि
15 जून 1995 New Delhi, India
लिंग
महिला

मेडल संख्या

0 ओलंपिक मेडल

ओलंपिक गेम्स

1 ओलंपिक गेम्स

मनिका बत्रा जीवनी

राष्ट्रमंडल खेलों की स्वर्ण पदक विजेता, ओलंपियन और अन्य कई ख़िताब जीत चुकीं मनिका बत्रा भारतीय टेबल टेनिस के बेहतरीन सितारों में से एक हैं।

उन्होंने गोल्ड कोस्ट में साल 2018 में अपने शानदार प्रदर्शन से हलचल सी मचा दी थी, उन्होंने कुल चार पदक जीते, जिनमें से दो स्वर्ण पदक थे। राष्ट्रमंडल खेलों का वह साल उनके करियर का अब तक का सबसे सफल वर्ष रहा है।

रियो 2016 में अपना ओलंपिक डेब्यू करने से पहले, बत्रा ने 2016 के दक्षिण एशियाई खेलों में तीन स्वर्ण पदक जीते।

टेबल टेनिस हमेशा से ही उनका पहला प्यार रहा - उन्होंने अपने भाई-बहनों के साथ कम उम्र से ही इस खेल को खेलना शुरू कर दिया था – यही नहीं, दिल्ली में जन्मी बत्रा ने टेबल टेनिस पर ध्यान केंद्रित करने के लिए अपनी किशोरावस्था में मॉडलिंग के प्रस्ताव को भी ठुकरा दिया था।

ठीक उसी तरह पीवी सिंधु और साइना नेहवाल ने भी भारत में बैडमिंटन के लिए किया है, बत्रा भारत में अपने खेल का "चेहरा" बनना चाहती हैं।

बत्रा ने कहा, "टेबल टेनिस की तरह, बैडमिंटन भी भारत में बहुत प्रसिद्ध नहीं था। आज बैडमिंटन के खेल को जितना महत्व दिया जाता है, मैं भारत में टेबल टेनिस को उससे भी अधिक ऊंचाइयों तक लेकर जाना चाहती हूं।”

वास्तव में, उन्हें टेबल टेनिस बहुत पसंद है, वह अपने गले में टेबल टेनिस गेंद और बैट के आकार में एक पेन्डेंट भी पहनती हैं।

अपने आदर्श अचंत शरत कमल की तरह, जिनके साथ खेलने में वह गर्व महसूस करती हैं, बत्रा ने महज़ 21 वर्ष की आयु में ओलंपिक खेलों के लिए क्वालिफाई कर लिया। हालांकि, वह पहले दौर में ही बाहर हो गईं, इस हार ने बेहतरीन युवा खिलाड़ी को एक बड़ी सीख दी।

ओलंपिक खेलों में हिस्सा लेने के अगल वर्ष वह ITTF रैंकिंग में 104वें स्थान पर पहुंच गई, जिससे वह भारत की सर्वोच्च रैंक वाली महिला टेबल टेनिस खिलाड़ी बन गईं। इसके बाद उन्होंने मौमा दास के साथ मिलकर इतिहास रच डाला, उनकी यह जोड़ी विश्व टेबल टेनिस चैंपियनशिप के क्वार्टर-फाइनल में प्रवेश करने वाली पहली भारतीय टेबल टेनिस जोड़ी बन गई।

2018 के राष्ट्रमंडल खेलों में उन्होंने बेहद शानदार प्रदर्शन किया और बड़ी उपलब्धि हासिल की। बत्रा ने फाइनल में सिंगापुर की यू मेंगयू को हराकर महिला एकल का स्वर्ण पदक अपने नाम कर लिया।

इस जीत ने मनिका बत्रा को राष्ट्रमंडल खेलों में व्यक्तिगत स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला टेबल टेनिस खिलाड़ी बना दिया।

उन्होंने फाइनल में सिंगापुर की चार बार की स्वर्ण पदक विजेता को हराकर भारतीय महिला टीम को स्वर्ण पदक दिलाया। यह जीत और भी अधिक प्रभावशाली इसलिए रही, क्योंकि 2002 के बाद से सिंगापुर की महिला टेबल टेनिस टीम राष्ट्रमंडल खेलों में अजेय रही।

मनिका बत्रा के शानदार प्रदर्शन ने उन्हें आईटीटीएफ के ‘ब्रेकथ्रू स्टार’ ख़िताब से सम्मानित किया गया। इसी के साथ वह यह ख़िताब जीतने वाली एकमात्र भारतीय टेबल टेनिस खिलाड़ी बन गईं।

उसके बाद से उन्होंने महिलाओं के एकल में खुद को शीर्ष 100 खिलाड़ियों की सूची में शुमार कर लिया है। अब उनकी नज़र टोक्यो 2020 में अपनी जगह पक्की करने पर रहेगी।

एथलीट