गेम्स मेडल

खेल परिणाम खेल इवेंट
रियो डी जेनेरियो 2016
खेल परिणाम खेल इवेंट
रियो डी जेनेरियो 2016
#=3
Wrestling Lightweight, Freestyle (≤58 kilograms)

साक्षी मलिक

भारत
रेसलिंग
As a woman, power signifies faith. Faith to believe in your dreams and your abilities.”
लम्बाई
162 सीएम / 5'4''
वज़न
58 किग्रो / 127 पाउंड्स
जन्म तिथि
3 सितम्बर 1992 Haryana, India
लिंग
महिला

मेडल संख्या

1 ओलंपिक मेडल

ओलंपिक गेम्स

1 ओलंपिक गेम्स

साक्षी मलिक जीवनी

ओलंपिक कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक प्रतिभा की धनी हैं। रियो 2016 ओलंपिक में पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बनने के अलावा, उन्होंने धारणाओं को बदल दिया और महिला पहलवानों की आने वाली पीढ़ियों की आदर्श बन गईं।

ओलंपिक में जीता गया कांस्य पदक, उनकी अनगिनत उपलब्धियो में से एक है। जिसने कुश्ती में उनके प्रभावशाली करियर को परिभाषित किया।

साक्षी मलिक का जन्म 3 सितंबर 1992 को हरियाणा के रोहतक जिले के मोखरा गाँव में हुआ था।

अपने दादा सुबीर मलिक जो ख़ुद भी एक पहलवान थे, उन्हें देखने के बाद और उनसे प्रेरित होकर साक्षी मलिक ने रेसलिंग में आने का इरादा किया।

केवल 12 साल की उम्र में, उन्होंने ईश्वर दहिया के अंदर प्रशिक्षण शुरू किया और पांच साल बाद, उन्होंने 2009 के एशियाई जूनियर विश्व चैंपियनशिप के फ़्रीस्टाइल में 59 किग्रा भारवर्ग में रजत पदक जीतते हुए सफलता का पहला स्वाद चखा। इसके बाद 2010 विश्व जूनियर चैंपियनशिप में भी कांस्य पदक जीता।

2013 के कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप में कांस्य जीतने के बाद, साक्षी मलिक ने ग्लासगो में अगले वर्ष अपना पहला कॉमनवेल्थ गेम्स खेला और 58 किलोग्राम के फाइनल में नाइजीरिया की अमीनत अदेनियी के खिलाफ हार झेलते हुए रजत पदक से संतोष किया। इसके बाद उन्होंने 2018 में 62 किलोग्राम वर्ग में कांस्य पदक के साथ अपना दूसरा और अंतिम राष्ट्रमंडल खेल पदक जीता।

हालांकि, साक्षी मलिक की अब तक की सबसे बड़ी उपलब्धि 58 किग्रा भारवर्ग में रियो 2016 ओलंपिक में जीता गया ओलंपिक कांस्य पदक ही है।

गीता फोगाट को मंगोलिया में उनके रेपचाज राउंड से नाम वापस लेने के बाद निलंबित कर दिया गया था, जिसके बाद रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (WFI) ने साक्षी मलिक को मौक़ा दिया, और उन्होंने 58 किलोग्राम के सेमीफाइनल में चीन की ज़ांग लैन को हराकर अपने पहले ओलंपिक के लिए क्वालिफ़ाई किया था।

क्वार्टर-फ़ाइनल में रूस की वेलेरिया कोब्लोवा से हारने के बावजूद, मलिक ने मंगोलियाई पुअर्वदोरजीन ऑर्खोन के खिलाफ अपना रेपेचाज राउंड जीता।

रियो 2016 में विनेश फोगाट ने क्वार्टर फाइनल बाउट के दौरान अपने घुटने को घायल कर लिया था, जो भारतीय उम्मीदों पर पानी फेरने जैसा था। हालांकि, साक्षी मलिक ने इस सदमे को भरने के लिए कदम बढ़ाया और एशियाई चैंपियन ऐसुलु टाइनिबेकोवा को 8-5 से हराते हुए कांस्य पदक पर कब्ज़ा जमाया।

ओलंपिक पदक विजेता साक्षी मलिक लगातार एशियाई चैंपियनशिप में नियमित दावेदार रही हैं, उन्होंने 2015 और 2019 के बीच तीन कांस्य पदक और एक रजत पदक जीता।

उनकी उपलब्धियों ने महिला पहलवानों की अगली पीढ़ी के लिए प्रेरणा का काम किया है।

साक्षी मलिक फ़िलहाल भारतीय रेलवे द्वारा नियोजित और JSW स्पोर्ट्स एक्सीलेंस प्रोग्राम का एक हिस्सा है, मलिक अब शादीशुदा हैं और वह अपने जीवनसाथी सत्यव्रत कादियान (भारतीय पहलवान) के साथ अपने गृह नगर रोहतक में रहती हैं।

एथलीट