स्काउट बैसेट के साथ कैसे रहें #StayStrong

इस एपिसोड के बारे में

पैरालंपिक स्प्रिंटर स्काउट बैसेट की उम्र लगभग आठ साल थी, जब उन्होंने चीनी अनाथालय छोड़कर एक घर पहुंचीं। वह मिशिगन के एक छोटे से शहर में चली गई, जहां वह अपने देश में एकमात्र महिला थीं, जिसमें विकलांगता थी। अमेरिकी ने UCLA में एक छात्रवृत्ति के माध्यम से सफल एथलीट बनने के लिए सभी मुश्किलों पर जीत हासिल की। क्योंकि उन्हें पता था कि यह कोई सिंड्रेला कि कहानी नहीं है। कोरोना वायरस लॉकडाउन के दौरान अपने अपार्टमेंट से उन्होंने कहा कि स्काउट हमें प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना करने के बारे में बहुत कुछ सिखाता है।

अपने पसंदीदा प्लेटफार्म पर सुनें

इस एपिसोड की टॉपिक है

ओलंपिक चैनल पॉडकास्ट क्या है?

इस स्पोर्ट्स पॉडकास्ट को होस्ट किया है एड नोलेस ने, ओलंपिक चैनल पॉडकास्ट का हरेक एपिसोड आपको प्रोत्साहित और प्रेरित करता है जहां दुनिया के दिग्गज एथलीटों का इंटरव्यू हम आपके लिए लेकर आए हैं। उनके वर्कआउट और उनकी मानसिकता से समझिए कि उन्होंने इस ग्रह के सबसे मुश्किल इम्तिहानों में से एक:ओलंपिक गेम्स को कैसे सफलता के साथ पास किया है। फिर चाहे वह रेसलिंग हो, स्वीमिंग हो, फ़िगर स्केटिंग हो, वेटलिफ़्टिंग हो या फिर जिमनास्टिक हो - इस स्पोर्ट्स पॉडकास्ट के ज़रिए आप अपनी ज़िंदगी का सबसे बेहतरीन समय गुज़ारेंगे। इस पॉडकास्ट का हिस्सा 4 बार के ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता सिमोन बाइल्स, ओलंपिक चैंपियन रेसलर जॉर्डन बरो, वर्ल्ड चैंपियन स्प्रिंटर डीना एशर स्मिथ और दो बार की ओलंपिक साइकलिस्ट चैंपियन क्रिस्टीना वोगेल भी बन चुकी हैं।