फ़ीचर

क्रिस गेल के 1000 छक्कों ने जमैका के ताज में एक और हीरा जड़ा

जमैका को जाना जाता है उनके रिकॉर्ड होल्डर धावकों और क्रिकेटरों के लिए जहां से आने वाले क्रिस गेल ने टी20 क्रिकेट इतिहास में 1000 छक्कों के साथ एक नया कीर्तिमान बना डाला है।

लेखक सैयद हुसैन ·

जमैका के क्रिकेट दिग्गज क्रिस गेल (Chris Gayle) ने शुक्रवार की रात इंडियन प्रीमियर लीग में किंग्स इलेवन पंजाब (Kings-XI Punjab) के लिए खेलते हुए राजस्थान रॉयल्स (Rajasthan Royals) के ख़िलाफ़ एक इतिहास बना डाला। वह टी20 क्रिकेट इतिहास में ऐसा करने वाले पहले और एकमात्र क्रिकेटर हैं।

गेल ने ये मुक़ाम राजस्थान के युवा तेज़ गेंदबाज़ कार्तिक त्यागी (Karthik Tyagi) की गेंद मिड विकेट बाउंड्री के बाहर पहुंचाकर हासिल किया। हालांकि जमैका का ये खिलाड़ी शतक से चूक गया और 99 रन बनाकर आउट हो गए, अगर एक रन और बना लेते तो वह भी उनका इस फ़ॉर्मेट में रिकॉर्ड 22वां शतक होता।

क्रिस गेल की इस ऐतिहासिक पारी के बावजूद किंग्स-XI पंजाब को जीत न मिली हो लेकिन गेल ने अपना नाम जमैका के उन क्रिकेटरों वाली फ़ेहरिस्त में शामिल कर लिया है, जहां से माइकल होल्डिंग (Michael Holding), कर्टनी वॉल्श (Courtney Walsh) और फ़्रैंक वॉरेल (Frank Worrel) जैसे दिग्गज आते हैं।

क्रिस गेल की इस उपलब्घि के बाद सोशल मीडिया पर मानो बधाई का तांता लग गया, जिनमें उनके हमवतन जमैका के दो बार के ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता योहान ब्लेक (Yohan Blake) भी शामिल थे, ब्लेक ख़ुद भी एक क्रिकेट प्रेमी हैं।

क्रिस गेल की ये उपलब्धि जमैका के उस स्वर्णिम इतिहास को आगे बढ़ाती है, जो जमैका को वैश्विक स्तर पर एक अलग पहचान दिलाता है।

हम यहां जमैका के उन्हीं कुछ बड़े सितारों के कीर्तमानों पर एक नज़र डाल रहे हैं:

उसैन बोल्ट

संभवतः मौजूदा समय में दुनिया के सबसे मशहूर एथलीट और गेल के सबसे करीबी दोस्तों में से एक हैं, आठ बार के ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता उसैन बोल्ट (Usain Bolt)।  जिन्होंने लगभग एक दशक तक ट्रैक पर अपनी रफ़्तार से बिजली दौड़ाई है।

एथेंस 2004 में एक 18 वर्षीय खिलाड़ी के रूप में ओलंपिक की शुरुआत करने वाले बोल्ट के लिए वह सीखने का एक बेहतरीन मंच रहा, जहां से चार साल बाद विश्व मंच पर उनका वर्चस्व दिखने लगा था। उन्होंने बीजिंग 2008 में 100 मीटर और 200 मीटर की दोनों स्पर्धाओं में विश्व रिकॉर्ड बनाया और स्वर्ण पदक जीता।

बोल्ट दो और ओलंपिक - लंदन 2012 और रियो 2016 में भी ट्रैक पर अपना वर्चस्व कायम करते हुए 100 मीटर, 200 मीटर और 4 X 100 मीटर का स्वर्ण पदक जीतकर विश्व चैंपियनशिप में कई और स्वर्ण पदक अपने नाम किए।

‘लाइटनिंग बोल्ट’ 2017 में अंततः सबसे सफल ओलंपियन में से एक के रूप में रिटायर हुए और इसमें कोई शक़ नहीं है कि वह सर्वकालिक सर्वश्रेष्ठ धावक हैं

उसैन बोल्ट ने 8 बार ओलंपिक स्वर्ण पदक जीता है और उनके नाम 100 मीटर और 200 मीटर का वर्ल्ड रिकॉर्ड भी है।

शेली-एन फ़्रेज़र-प्राइस

शेली-एन फ़्रेज़र-प्राइस (Shelly-Ann Fraser-Pryce) को सर्वश्रेष्ठ महिला स्प्रिंटर्स में से एक के रूप में जाना जाता है, दो बार की ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता और नौ बार की विश्व चैंपियन शेली-एन फ़्रेज़र-प्राइस अपने आप में एक जमैका की मिसाल हैं।

उनके कारनामों ने जमैका में महिला स्प्रिंटर्स के लिए दुनिया का ध्यान आकर्षित करने में मदद की, जिसे पुरुष-प्रधान के तौर पर माना जाता था।

बीजिंग 2008 में उनका 100 मीटर का स्वर्ण एक कैरेबियाई महिला द्वारा पहला स्वर्ण पदक था और लंदन 2012 में ओलंपिक खिताब की रक्षा करते हुए वह इतिहास में केवल तीसरी महिला बन गईं।

2019 विश्व चैंपियनशिप में फ्रेजर-प्राइस के 100 मीटर के स्वर्ण जीतने के बाद वह दुनिया की एकमात्र एथलीट बन गईं थीं जिन्होंने 4 100 मीटर वर्ल्ड टाइटल जीती हो।

शेली-एन फ़्रेज़र-प्राइस दो बार की ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता रही हैं।

आसफ़ा पॉवेल

सबसे प्रमुख जमैका स्प्रिंटर्स में से एक, जो उसैन बोल्ट को भी एक प्रेरणा के रूप में संदर्भित करता है, वह हैं अनुभवी आसफ़ा पॉवेल (Asafa Powell)।

पावेल ने 100 मीटर विश्व रिकॉर्ड दो बार - 2005 और 2008 में तोड़ा - लेकिन इसे संयोग ही कहा जाएगा कि वह स्प्रिंटिंग स्पर्धाओं में अभी तक ओलंपिक स्वर्ण पदक हासिल नहीं कर पाए थे। उन्होंने दो बार 100 मीटर विश्व चैंपियनशिप का कांस्य पदक जीता, हालांकि 4x100 मीटर रिले में तीन स्वर्ण ज़रूर अर्जित किए।

लेकिन लंबे समय से चला आ रहा ये इंतज़ार आखिरकार पॉवेल के आखिरी ओलंपिक में ख़त्म हुआ। जब रियो 2016 में उन्होंने 4x100 मीटर रिले में जीत हासिल की।

योहान ब्लेक

दुनिया में दूसरा सबसे तेज इसांन और बोल्ट के उत्तराधिकारी, योहान ब्लेक ने जमैका में बेहतरीन स्प्रिंटर्स की विरासत को जारी रखा।

वह 2011 में सबसे कम उम्र के 100 मीटर विश्व विजेता बने और 4x100 मीटर में अपना पहला ओलंपिक स्वर्ण हासिल करने से पहले लंदन 2012 में 100 मीटर और 200 मीटर में ट्विन सिल्वर जीते। ब्लेक ने रियो 2016 में रिले खिताब की भी रक्षा की थी।

अभी भी मजबूत हो रहे, ब्लेक अंततः टोक्यो 2020 में स्प्रिंटिंग गोल्ड जीत सकते हैं जो एक अविश्वसनीय प्रतिभा के लिए एक शानदार इनाम होगा।