फ़ीचर

स्किपिंग, होम जिम, बेबी पार्टनर: जानें कैसे भारतीय एथलीट ख़ुद को रख रहे फिट

लॉकडाउन ने एथलीटों को अपनी रोज़मर्रा की दिनचर्या से इतर अधिक रोचक और दिलचस्प चीज़ें करने के लिए प्रोत्साहित किया है। ऐसे में कुछ एथलीट इस दौरान एक अलग स्तर पर जाकर खुद को फिट रखने के लिए अपना ही इजाद किया हुआ वर्कआउट कर रहे हैं।

लेखक ओलंपिक चैनल ·

कोरोना वायरस (COVID-19) के कारण पूरी दुनिया सहित भारत में भी लॉकडाउन जारी है। ऐसे में लोग अपने-अपने घरों पर रहते हुए विभिन्न रोचक कार्य करने की कोशिश कर रहे हैं, जिसे उन्होंने पहले कभी करने की कोशिश भी नहीं की है। यह सभी के दूसरे रचनात्मक पहलू को भी दर्शा रहा है। कुछ लोग इस दौरान नए कौशल सीख रहे हैं तो कुछ रोज़मर्रा के घरेलू कामों में अपना हाथ आज़मा रहे हैं।

भारतीय एथलीट भी इससे अछूते नहीं हैं। वह अपनी तय दिनचर्या की तुलना में कुछ अलग करने की कोशिश कर रहे हैं, ताकि खुद को चुस्त, दुरुस्त और तंदरुस्त रख सकें। ऐसे में कुछ एथलीटों ने अपनी फ़िटनेस को बरकरार रखने के लिए रोचक और दिलचस्प वर्कआउट खोज निकाले हैं।

बच्चे बनें ट्रेनिंग पार्टनर

एक ओर जहां इस लॉकडाउन ने एथलीटों को अपने परिवार और बच्चों के साथ कुछ बेहतरीन वक्त गुज़ारने का मौका दिया है, तो वहीं दूसरी ओर ऐसा लग रहा है कि कुछ एथलीटों ने अपने बच्चों में ही अपना ट्रेनिंग पार्टनर ढूंढ लिया है।

भारतीय पहलवान और ओलंपिक पदक विजेता योगेश्वर दत्त (Yogeshwar Dutt) और मुक्केबाज़ निकहत ज़रीन (Nikhat Zareen) और उनकी साथी भारतीय मुक्केबाज़ ज्योति गुलिया (Jyoti Gulia) ने बच्चों के साथ वर्कआउट करने की दिलचस्प कोशिश की है। वाकई यह देखना बेहद रोमांचक है।

बंद पड़े जिम नहीं बनें फ़िटनेस के बाधक

लॉकडाउन के इस समय में देश के अधिकांश लोगों के फ़िटनेस पर असर पड़ना जहां निश्चित लग रहा हैं, वहीं भारतीय पहलवान बजरंग पूनिया (Bajrang Punia) को इससे कोई फर्क नहीं पड़ रहा है। 26 वर्षीय इस पहलवान ने अपने कड़े प्रशिक्षण की दिनचर्या को अपने घर पर रहते हुए भी जारी रखने का फैसला किया है।

उनकी फिटनेस और स्फूर्ति को देखते हुए कोई भी आसानी से कह सकता है कि वह पहले से कहीं अधिक फिट नज़र आ रहे हैं।

स्किपिंग ट्रेनिंग

आमतौर पर जीवन की समस्याओं को पीछे छोड़कर निकल जाना आसान नहीं होता है। हर किसी की अपने काम और घर के प्रति जिम्मेदारियां होती हैं। हालांकि, भारतीय एथलीटों के लिए मौजूदा हालात पहले जैसे नहीं रहे हैं। लॉकडाउन ने उन्हें अपने घरों के अंदर रहने पर मजबूर कर दिया है।

ऐसे में एथलीट लांघने की यानी स्किपिंग ट्रेनिंग से खुद को फिट रख रहे हैं। देखें कैसे उनकी ट्रेनिंग उन्हें फिट रखने में सहायक सिद्ध हो रही है।

फिट रहने के लिए अपनाए आसान तरीके 

इस वक्त घर के बाहर की स्थिति बहुत अच्छी नहीं है। ऐसे में भारतीय शूटर अपूर्वी चंदेला (Apurvi Chandela) और भारतीय बैडमिंटन स्टार अश्विनी पोनप्पा (Ashwini Ponappa) ने अपनी फिटनेस को बनाए रखने के लिए आम चीज़ों पर ध्यान देने का फैसला किया है।

हालांकि, उनकी इस दिनचर्या से उनके पड़ोसी थोड़े नाराज़ हो सकते हैं, अश्विनी पोनप्पा के पार्टनर निश्चित रूप से इसका बुरा नहीं मानेंगे!

फ़िटनेस के दीवाने

कोई अगर यह सोचता है कि एथलीटों को खेल से दूर रखा जा सकता है तो यह सोचना गलत हो सकता है। हम जैसे आम लोगों के लिए भले ही यह वास्तव में मुश्किल हो सकता है। लेकिन खिलाड़ियों के लिए कुछ भी नामुमकिन नहीं है। अचंत शरत कमल (Achanta Sharath Kamal), रानी रामपाल (Rani Rampal) और अभिषेक वर्मा (Abhishek Verma) ने अपने घरों पर ही खेल क्षेत्रों का निर्माण कर किया है।