साइना नेहवाल बनाम पीवी सिंधु: बैडमिंटन प्रतिद्वंदिता का एक शानदार उदाहरण

दोनों ओलंपिक मेडल विजेताओं, साइना नेहवाल और पीवी सिंधु का जब-जब सामना हुआ है तब-तब दर्शकों को शीर्ष स्तर का बैडमिंटन खेल प्रदर्शन देखने को मिला है।

एक खेल में दिग्गज होना किसी भी खिलाड़ी के लिए गर्व की बात होती है। ऐसे में देश में जब भी बैडमिंटन के खेल की बात आती है तो साइना नेहवाल (Saina Nehwal) और पीवी सिंधु (PV Sindhu) का नाम सबसे पहले आता है।

2012 के लंदन ओलंपिक में अगर साइना नेहवाल ने कांस्य पदक जीतकर क्रिकेट के दीवाने देश की दिलचस्पी इस खेल में नहीं जगाई होती, तो चार साल बाद रियो ओलंपिक में शानदार प्रदर्शन के साथ पीवी सिंधु के रजत पदक जीतने की कल्पना भी नहीं की जा सकती थी।

भारतीय बैडमिंटन की इस जोड़ी की बढ़ती लोकप्रियता ने देश में चर्चा का माहौल बनाया। सीधे शब्दों में कहें तो दोनों साइना और सिंधु युवा पीढ़ी के लिए एक सही मिसाल हैं।

साइना नेहवाल को तैयार करने वाले नेशनल कोच पुलेला गोपीचंद के सानिध्य में ट्रेनिंग ले रही युवा सिंधु ने कहा, “भले ही लोग मेरी तुलना साइना से करें, लेकिन कभी भी इससे मेरे आगे बढ़ने में कोई बाधा नहीं आई।”

उन्होंने आगे कहा, “कोर्ट में हम प्रतिद्वंदी होते हैं और हम दोनों ही जो भी मैच खेलते हैं उसे जीतना चाहते हैं। लेकिन खेल के मैदान के बाहर हम अच्छे दोस्त हैं और हम इस दोस्ती को बनाए रखना चाहेंगे। मेरा मानना है कि सबसे बेहतर बनने के दौरान हमारे बीच हमेशा सही प्रतियोगिता हो।”

कौन खिलाड़ी किससे बेहतर है, इस मुद्दे पर बहस के बावजूद साइना नेहवाल और पीवी सिंधु के बीच कुछ दिलचस्प और यादगार मुक़ाबले देखने को मिले हैं। आइए उनपर एक नज़र डालते हैं...

पहला मुक़ाबला: 2017 इंडिया ओपन सुपरसीरीज़

पीवी सिंधु ने सीनियर प्रो में पहली बार लखनऊ में 2014 के सैयद मोदी इंटरनेशनल जीपी गोल्ड के फाइनल में साइना नेहवाल का सामना किया था।

बीते कुछ वर्षों में साइना नेहवाल और पीवी सिंधु के बीच कुछ करीबी मुक़ाबले देखने को मिले हैं।
बीते कुछ वर्षों में साइना नेहवाल और पीवी सिंधु के बीच कुछ करीबी मुक़ाबले देखने को मिले हैं।बीते कुछ वर्षों में साइना नेहवाल और पीवी सिंधु के बीच कुछ करीबी मुक़ाबले देखने को मिले हैं।

वह मैच सिंधु की योजना के अनुसार नहीं रहा, क्योंकि साइना नेहवाल ने बड़े ही आराम से 21-14, 21-17 से जीत हासिल कर ख़िताब को अपने नाम कर लिया था। तीन साल बाद इंडिया ओपन सुपरसीरीज में पीवी सिंधु ने शानदार वापसी की।

धीरे-धीरे गुजरते वक़्त के साथ सिंधु का खेल और आत्मविश्वास बढ़ता गया और ओलंपिक रजत पदक प्रदर्शन के बाद सिंधु ने साइना नेहवाल के साथ इंडिया ओपन के क्वार्टर-फाइनल में प्रवेश किया।

21 वर्षीय सिंधु ने आक्रामक रूप से शुरुआत की और अपने पहले बुलेट जैसे शॉट के साथ ही नेहवाल को अपनी बेहतरी का अहसास दिला दिया। साइना ने अंतर को कम करने के लिए कुछ अच्छी रैली की, लेकिन सिंधु की शानदार फॉर्म ने उन्हें कोई मौका नहीं दिया और पहले गेम को 19 मिनट में ही 21-16 से जीत लिया।

दूसरे गेम में लगा कि सिंधु जल्द ही आसानी से साइना को हरा देंगी, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। लंदन 2012 की पदक विजेता ने अपनी रणनीति में बदलाव किया और अपनी शानदार वापसी से सिंधु के लिए मुश्किल खड़ी कर दी। सिंधु को इस वापसी की बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी।

तीसरे गेम में सिंधु ने फिर से अपना ज़ोर लगाते हुए खेल की शुरुआत की। इस बार साइना हैरान थीं, क्योंकि सिंधु ने अंतर बढ़ाने के लिए कुछ शानदार शॉट लगाए थे। अंततः ऊर्जा से भरपूर यह मैच समाप्त होने के साथ ही यादगार बन गया।

मैच का परिणाम: पीवी सिंधु ने साइना नेहवाल को 21-16, 22-20 से हराया।

"कुल मिलाकर यह एक बहुत ही अच्छा मैच रहा... जब वह 20-19 से आगे चल रही थीं, तब भी मुझे विश्वास था कि मैं इसे पार कर सकती हूं, मैं यह कर सकती हूं। साइना कोई बहुत ख़ास नहीं हैं कि जिनके ख़िलाफ मुझे जीतना ही है। मैं प्रत्येक खिलाड़ी के खिलाफ अपना 100 फीसदी देना चाहूंगी।” - पीवी सिंधु

गोल्ड कोस्ट का यादगार मैच: 2018 कॉमनवेल्थ गेम्स

बीते कुछ वर्षों में पीवी सिंधु की कड़ी मेहनत और आगे बढ़ने की उनकी भूख ने उन्हें साइना नेहवाल से आगे निकलकर भारतीय बैडमिंटन पर हावी होने में मदद की है।

हालांकि, मुक़ाबलों के दौरान साइना की चोटें चिंता का प्रमुख कारण रही हैं। लेकिन समय के साथ उन्होंने अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में फिर से खुद को साबित किया। ऐसा ही एक उदाहरण गोल्ड कोस्ट में हुए 2018 राष्ट्रमंडल खेलों में महिला एकल का फाइनल था।

12 महीनों तक अपनी कमर, कूल्हे और घुटने की चोट की वजह से खेल से दूर रहने के बाद साइना नेहवाल से ऑस्ट्रेलिया में बहुत कम उम्मीदें थीं।

लेकिन चैंपियन शटलर ने न केवल मिश्रित टीम स्पर्धा में भारत को स्वर्ण पदक दिलाने में मदद की, बल्कि पीवी सिंधु के खिलाफ जीत के साथ एक बार फिर महिला एकल विजेता बनीं।

गोल्डकोस्ट में साइना ने अपने अनुभव और मानसिक तौर पर मज़बूती के साथ एक शानदार प्रदर्शन को प्रदर्शित किया।

साइना पहले शॉट से ही आक्रामक नज़र आईं। ऐसा लगा मानो उन्हें एक शानदार सेमी-फाइनल के बाद कोई थकान ही नहीं थी। अपने जबरदस्त शॉट्स के साथ उन्होंने सभी का ध्यान आकर्षित किया, जबकि सिंधु शुरुआत से ही अपनी फॉर्म के लिए संघर्ष करती नज़र आईं।

साइना ने शुरुआती गेम 21-18 से अपने नाम कर लिया। सिंधु ने उसे दूसरे गेम में बढ़त के लिए कुछ अच्छे प्रयास किए, यह दिन साइना नेहवाल का था। उन्होंने मैच जीतने के लिए शानदार वापसी की और 17-18 स्कोर के समय 64 शॉट्स की एक शानदार रैली को प्रतियोगिता का मुख्य आकर्षण बना दिया।

सिंधु ने अपने डीप शॉट्स पर भरोसा किया, जबकि नेहवाल कुछ स्मार्ट ड्रॉप शॉट्स से जवाब देती हुई नज़र आईं। सिंधु की युवा आक्रामकता साइना के अनुभव के आगे कमज़ोर पड़ गई।

मैच का परिणाम: साइना नेहवाल ने पीवी सिंधु को 21-18, 23-21 से हराया

“उसके साथ खेलने से पहले सैकड़ों चीजें मेरे सिर से होकर गुजरीं। अगर मैं हार गई तो सबसे पहली बात लोग कहेंगे कि लो साइना हार गई... लगता है साइना बूढ़ी हो रही है... साइना को रिटायर हो जाना चाहिए... 'मुझे लगा कि ऐसी 100 चीजें हैं जो मेरे लिए लिखी जाएंगी। उसके लिए ऐसे सवाल नहीं उठेंगे क्योंकि उसने (पीवी सिंधु) अभी शुरुआत की है।” - साइना नेहवाल

साइना और सिंधु के अन्य मुक़ाबले

इस भारतीय जोड़ी का सामना तीन अन्य मौकों पर हुआ है।

2017 में बैडमिंटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया (BAI) के सीनियर नेशनल चैंपियनशिप को फिर से शुरू करने के बाद से साइना नेहवाल और पीवी सिंधु चर्चा में बनी रही हैं।

नागपुर में नेशनल चैंपियनशिप के 2017 संस्करण में नेहवाल ने 21-17, 27-25 जीत के साथ खिताब जीतने से पहले कुछ शानदार बैडमिंटन प्रदर्शन के साथ सभी का मनोरंजन किया।

2018 इंडोनेशिया मास्टर्स में साइना नेहवाल एक बार फिर अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के साथ 21-13, 21-19 से जीत दर्ज की थी।

साइना नेहवाल बनाम पीवी सिंधु के यादगार मैचों के परिणाम

2014 सैयद मोदी इंटरनेशनल जीपी गोल्ड: साइना नेहवाल ने पीवी सिंधु को 21-14, 21-17 से हराया

2017 इंडिया ओपन सुपरसीरीज: पीवी सिंधु ने साइना नेहवाल को 21-16, 22-20 से हराया

2017 नेशनल चैंपियनशिप: साइना नेहवाल ने पीवी सिंधु को 21-17, 27-25 से हराया

2018 इंडोनेशिया मास्टर्स: साइना नेहवाल ने पीवी सिंधु को 21-13, 21-19 से हराया

2018 राष्ट्रमंडल खेल: साइना नेहवाल ने पीवी सिंधु को 21-18, 23-21 से हराया

2019 नेशनल चैंपियनशिप: साइना नेहवाल ने पीवी सिंधु को 21-18, 21-15 से हराया

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!