आइसोलेशन डायरीज़: भारतीय बॉक्सर मनीष कौशिक इनडोर क्रिकेट और रामायण के साथ बिता रहे हैं समय

अपने पहले ओलंपिक गेम्स के लिए क्वालिफ़ाई कर चुके बॉक्सर मनीष कौशिक फिलहाल घर पर रामायण देख कर समय व्यतीत कर रहे हैं। 

भारतीय बॉक्सर मनीष कौशिक (Manish Kaushik) ने कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 (Commonwealth Games 2018) में गोल्ड और वर्ल्ड चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज़ जीत कर अपनी प्रतिभा का प्रमाण दिया। इतना ही नहीं मार्च 2020 में उन्होंने अपने पहले ओलंपिक गेम्स के लिए भी क्वालिफाई कर लिया है। यह उपलब्धि उन्होंने एशियन बॉक्सिंग ओलंपिक क्वालिफायर्स (Asian boxing Olympic qualifiers) के दौरान हासिल की।

अब जब कोरोना वायरस (COVID-19) के चलते खेल जगत को रोक दिया गया है तो ऐसे में ओलंपिक चैनल ने मनीष से बातचीत की। भिवानी के गांव देवसर में रह रहे इस बॉक्सर ने बताया कि बिना इंटरनेट के भी कैसे ज़िंदगी का मज़ा लिया जा सकता है।

मनीष के साथ बातचीत के कुछ अंश:

आखिरी बार अप कब इतने लंबे समय के लिए घर में थे?

मुझे याद नहीं है, शायद 5 से 6 साल पहले जब मैं स्कूल में था।

आप घर पर कैसे समय बिता रहे हैं?

मैं संयुक्त परिवार में रहता हूं और मेरे पास बात करने के लिए बहुत से लोग हैं। मैं अपने छोटे भाई बहनों के साथ खेलता हूं। घर में क्रिकेट खेलना मुझे बहुत पसंद है।

घर का ऐसा कोई काम जो आप नहीं कर पाते?

मैं पहले भी ऐसा कोई काम नहीं करता था तो स्थिति मेरे लिए लगभग वही है।

कोई टीवी सीरीज़ या किताब के ज़रिए आप अपना समय व्यतीत कर रहे हैं?

मैं आजकल दूरदर्शन पर रामायण (पौराणिक कार्यक्रम) देख रहा हूं।

(दूरदर्शन एक भारतीय प्रसारणकर्ता है जहां रामायण दिखाई जा रही है)

किसी व्यक्ति को आप वीडियो कॉल करते हैं?

मैं ज़यादा इंटरनेट का प्रयोग नहीं करता इसलिए वीडियो कॉल पर बात नहीं हुई। हां, BFI सेशन में मैं हमेशा भाग लेता हूं।

क्या अप घर पर वर्कआउट करते हैं?

मैं काफी कुछ करता हूं। साइकिलिंग, स्किपिंग और अन्य वेट ट्रेनिंग भी। मैं ऐसे किसी ख़ास रूटीन का पालन नहीं कर रहा।

क्या आप किसी डाइट को फॉलो कर रहे हैं?

ट्रेनिंग के दौरान मैं जिस डाइट को फॉलो करता था अब वैसा नहीं कर पा रहा हूं। हालांकि मैं ज़्यादा से ज़्यादा घर का खाना खा रहा हूं, साथ ही ज़्यादा से ज़्यादा फलों का सेवन भी कर रहा हूं।**

लॉकडाउन समाप्त होने के बाद कौन सा काम है जो अप सबसे पहले करना चाहेंगे?

लॉकडाउन खुलने के बाद मैं नेशनल कैंप से जुड़ना चाहूँगा जो कि हालात खराब होने के कारण रह गया है और साथ ही मैं ओलंपिक की तैयारियों में जुट जाउँगा।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!