फ़ीचर

सुनील छेत्री: ISL में भारतीय गोल मशीन

पांच संस्करण में 39 गोल के साथ भारतीय फ़ुटबॉल के पोस्टर बॉय इंडियन सुपर लीग में सबसे शीर्ष पर बैठे हैं।

लेखक सैयद हुसैन ·

भारतीय फ़ुटबॉल में सुनील छेत्री (Sunil Chhetri) लंबे समय से उस मुक़ाम पर पहुंचे हुए हैं, जहां से भारत में फ़ुटबॉल की एक पहचान बन गए हैं।

पिछले दो दशकों में सुनील छेत्री ने अनेक रिकॉर्ड्स अपने नाम किए हैं, जिसमें भारत की ओर से सबसे ज़्यादा अंतर्राष्ट्रीय मैच (115) खेलना भी शामिल है। इसके अलावा भारत के लिए सबसे ज़्यादा अंतर्राष्ट्रीय गोल करने का रिकॉर्ड (72) भी सुनील के ही नाम है, इस मामले में तो वह बस दिग्गज क्रिस्टियानो रोनाल्डो (Cristiano Ronaldo) से ही पीछे हैं।

सुनील छेत्री के इन अंतर्राष्ट्रीय कीर्तिमानों की झलक उनके घरेलू फ़ुटबॉल प्रदर्शन में भी दिखती है।

शुरुआती सालों में सुनील छेत्री ने I-League में भी अपना जलवा बिखेरा था, 2017 में वह इस लीग में सबसे ज़्यादा गोल करने वाले भारतीय खिलाड़ी रहे थे। 2015 में इंडियन सुपर लीग (ISL) में जुड़ने के बावजूद आई-लीग में उनके प्रदर्शन पर कोई असर नहीं पड़ा था।

ISL में सुनील छेत्री सबसे ज़्यादा गोल करने वाले भारतीय हैं।

2015 और 2016 में मुंबई सिटी एफ़सी के लिए खेलने वाले सुनील उसके बाद से बेंगलुरु एफ़सी का हिस्सा हैं। सुनील छेत्री ने न सिर्फ़ कई सारे गोल किए हैं बल्कि कई बार अकेले दम पर अपनी टीम को भी जीत दिलाई है।

ISL में सुनील छेत्री के किए गए कुछ बेहतरीन प्रदर्शनों पर डालते हैं एक नज़र

सुनील छेत्री का पहला ISL गोल

सुनील छेत्री इंडियन सुपर लीग का पहला साल नहीं खेल पाए थे क्योंकि तब आई-लीग में उनकी टीम बेंगलुरु एफ़सी ने उन्हें रिलीज़ करने से इंकार कर दिया था। हालांकि एक साल बाद जब ISL के लिए एक अलग से विंडो बनाया गया तो फिर उन्हें ISL में खेलने का मौक़ा मिला।

उन्हें अपने साथ जोड़ने के लिए मुंबई एफ़सी ने 1 करोड़ 20 लाख रुपये ख़र्च किए थे, अंतर्राष्ट्रीय मैचों में व्यस्त रहने की वजह से शुरुआती मैचों में वह टीम के साथ नहीं थे।

उस सीज़न के चौथे मैच में दिल्ली डायनोमोज़ के ख़िलाफ़ खेलते हुए सुनील छेत्री ने दो गोल करते हुए मुंबई को जीत दिलाई थी।

ISL मैच में सुनील छेत्री का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन

वैसे तो सुनील छेत्री ने आईएसएल में कई यादगार प्रदर्शन किए हैं, लेकिन उनकी दो हैट्रिक सबसे शानदार पलों में से एक है।

पहली हैट्रिक तो सुनील के पहले ही सीज़न में आई थी जब मुंबई एफ़सी की ओर से खेलते हुए 2015 में उन्होंने नॉर्थईस्ट यूनाइटेड एफ़सी के ख़िलाफ़ ये कारनामा किया था।

आईएसएल में किसी भी भारतीय खिलाड़ी द्वारा ये पहली हैट्रिक थी, जिसके दम पर मुंबई ने मुक़ाबला 5-1 से अपने नाम किया था।

सुनील छेत्री ने अपनी दूसरी हैट्रिक 2017-18 के सीज़न में एफ़सी पुणे सिटी के ख़िलाफ़ लगाई थी। ये बेंगलुरु एफ़सी का भी पहला आईएसएल सीज़न था और सुनील छेत्री अब बेंगलुरु की ओर से खेल रहे थे। उनके इस प्रदर्शन के दम पर बेंगलुरु फ़ाइनल में जगह बना चुकी थी।

पुणे, नॉर्थईस्ट के ख़िलाफ़ कमाल का प्रदर्शन

सुनील छेत्री ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन एफ़सी पुणे सिटी के ख़िलाफ़ किया था, हालांकि ये टीम अब आईएसएल का हिस्सा नहीं है। इसके अलावा सुनील छेत्री का एक और सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नॉर्थईस्ट यूनाइटेड के विरुद्ध आया था, ज़ाहिर है सुनील को इन दोनों ही टीमों के ख़िलाफ़ खेलना पसंद था।

एफ़सी पुणे सिटी के ख़िलाफ़ छेत्री ने 7 मुक़ाबले खेले जिसमें उन्होंने 6 गोल दागे हैं, 6 में से उनके 3 गोल फ़्री किक्स से आए हैं जबकि एक पेनल्टी शॉट की मदद से दागा है।

ठीक यही तस्वीर नॉर्थईस्ट यूनाइटेड के ख़िलाफ़ भी दिखाई देती है, अब तक उन्होंने नॉर्थईस्ट के विरुद्ध 10 मैच खेले हैं और इनमें 6 गोल दाग चुके हैं।

इस फ़ेहरिस्त में अगला नंबर चेन्नईयन एफ़सी का आता है, दो बार के ISL चैंपियन के ख़िलाफ़ उन्होंने 9 मैचों में 5 गोल दागे हैं।

सुनील छेत्री का सर्वश्रेष्ठ ISL सीज़न

भारतीय फ़ुटबॉल टीम के कप्तान सुनील छेत्री ने वैसे तो अब तक ISL के पांच संस्करणों में शिरकत की है लेकिन उनका बेस्ट रहा है 2017-18 का सीज़न।

बेंगलुरु का ये पहला सीज़न था और सुनील छेत्री इस सीज़न से बेंगलुरु के साथ जुड़ चुके थे। इस सीज़न में बेंगलुरु एफ़सी ने लीग में पहला स्थान हासिल किया था और फ़ाइनल में भी प्रवेश किया था।

बेंगलुरु ने इस सीज़न में 21 मैचों में कुल 40 गोल किए थे, जिसमें सुनील छेत्री ने 14 गोल दागे थे और दो में एसिस्ट किया था। इस सीज़न में वह गोल्डेन बूट की रेस में भी शामिल रहे थे।