फ़ीचर

युकी भांबरी के स्पोर्टिंग हीरो: स्टाइलिश, ऑलराउंड ‘पिस्टल पीट सम्प्रास’

भांबरी बचपन से ही पीट सम्प्रास जैसे शांत और शानदार बनना चाहते हैं, वह उस पल को कभी नहीं भूल सकते जब पीट सम्प्रास ने उन्हें टेनिस के गुर सिखाए।

लेखक सैयद हुसैन ·

भले ही रोजर फ़ेडरर (Roger Federer) को अब किंग ऑफ़ ग्रास के नाम से जाना जाता है लेकिन इससे पहले ये ख़िताब अमेरिका के पीट सम्प्रास (Pete Sampras) के सिर था।

सम्प्रास की ताक़तवर सर्विस और रफ़्तार से भरे ख़ूबसूरत रिटर्न्स उन्हें घास पर तेज़ टेनिस खेलने में मदद करता था, यही वजह थी कि उनके नाम 7 विंबलडन ख़िताब है जो उस समय का रिकॉर्ड भी था।

सम्प्रास को सर्वकालिक सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक माना जाता है, 90 के दशक में ग्रास और हार्ड कोर्ट पर पीट सम्प्रास का दबदबा क़ायम था। सम्प्रास के नाम 2009 तक सबसे ज़्यादा 14 ग्रैंड स्लैम ख़िताब का रिकॉर्ड भी था, जिसे रोजर फ़ेडरर ने तोड़ डाला।

पीट सम्प्रास के बेहतरीन खेल और शांत स्वभाव की वजह से पूरी दुनिया में उनके फ़ैंस की कमी नहीं है, और उन्हीं में से एक हैं भारत के टेनिस स्टार युकी भांबरी (Yuki Bhambri) जो सालों से सम्प्रास के मुरीद हैं।

ओलंपिक चैनल के साथ हुई बातचीत में युकी भांबरी ने अपने आदर्श पीट सम्प्रास के बारे में कहा, “मैंने टेनिस देखना जब शुरू किया था तो सम्प्रास चरम पर थे और तभी से ही मैं उनका फ़ैन बन गया था।“

“जहां तक मुझे याद है मैंने पहली बार उन्हें टीवी पर तब देखा था जब वह अपने तीसरे विंबलडन ख़िताब को जीत रहे थे। हमारा पूरा परिवार हर साल जुलाई में साथ बैठकर विंबलडन देखता था, और सम्प्रास लगातार इसे जीतते रहते थे। तभी से ही मैंने उनका अपना आदर्श मान लिया था और उनको देखकर ही बड़ा हुआ।"

पीट सम्प्रास के नाम 7 विंबलडन ख़िताब है।

एक बेहतरीन खिलाड़ी

पीट सम्प्रास की ख़ासियत थी उनकी ताक़तवर सर्विस, जिसकी वजह से उनका नाम ‘पिस्टल पीट’ भी पड़ गया था।

सम्प्रास किसी भी परिस्थिति से मैच छीन लाने की ताक़त रखते थे, साथ ही साथ उनके फ़ोरहैंड और बैकहैंड भी लाजवाब थे। यही वजह है कि उन्हें एक ऑलराउंड खिलाड़ी माना जाता था और उनका यही स्टाइल युकी भांबरी को पसंद है।

“उनके खेलने का अंदाज़ अद्भुत था, सम्प्रास के पास सिर्फ़ तेज़ और ताक़तवर सर्विस नहीं थी बल्कि वह एक आक्रामक खिलाड़ी भी थे। उनके खेलने की कला क़ाबिल-ए-तारीफ़ थी और यही मुझे पसंद था।“

पीट सम्प्रास अपनी सर्विस और बेहतरीन वॉली के लिए जाने जाते थे।

शांत रहना सफलता का राज़

अपने रैकेट से बेहतरीन खेल के साथ-साथ एक और चीज़ थी जो सम्प्रास की ख़ायिसत थी, और वह था उनका शांत स्वभाव।

चाहे जीत हो या हार सम्प्रास के चेहरे से उनकी भावना को समझ पाना नामुमकिन था। वह हर स्थिति में ख़ुद को शांत रखते थे, सम्प्रास की इस आदत को युकी भांबरी ख़ुद में ढालना चाहते हैं।

“दबाव की स्थिति से भी सम्प्रास कई बार शानदार खेल दिखाने में माहिर थे और इसकी वजह उनका शांत स्वभाव था।“

इस भारतीय टेनिस खिलाड़ी का सपना तब सच हो गया था जब उन्होंने कोर्ट पर साक्षात पीट सम्प्रास के साथ खेला था।

“मुझे एक बार डबल्स में उनके साथ खेलने का मौक़ा मिला था, और ये 2009 में एक प्रदर्शनी मैच के दौरान आया था। दूसरी ओर आंद्रे अगासी थे, और ये मेरी ज़िंदगी का सबसे शानदार लम्हा है।“

“ये सच है कि तब सम्प्रास काफ़ी सालों से खेल से दूर थे, लेकिन उन्होंने मेरे खेल को देखने के बाद मुझे कुछ टिप्स भी दिए थे जिससे मैं और बेहतर खेल सकूं। मैंने उनसे उनकी सर्विस के बारे में भी पूछा था। कोर्ट के बाहर भी सम्प्रास ठीक वैसे ही थे जैसे वह कोर्ट पर थे।“

एक समय युकी भांबरी की विश्व रैंकिंग 83 थी लेकिन इसके बाद उनके घुटने में गंभीर चोट लगी थी जिसकी वजह से 2018 से वह कोर्ट से दूर हैं।

शुरुआत में उनका सही इलाज नहीं हो पा रहा था, लेकिन फिर राफ़ेल नडाल (Rafael Nadal) के डॉक्टर से मुलाक़ात के बाद युकी भांबरी अब अपनी चोट से उबर रहे हैं।

इसके बाद पूरे विश्व में लगा लॉकडाउन भी युकी भांबरी के लिए उन्हें चोट से उबरने में मदद की तरह रहा। भांबरी की नज़र अब जनवरी 2021 से एक बार फिर कोर्ट में वापसी पर है।

अगर सब कुछ ठीक रहा तो फिर भांबरी फ़रवरी में होने वाले ऑस्ट्रेलियन ओपन में नज़र आ सकते हैं, जहां उन्हें उनकी रैंकिंग की वजह से प्रवेश मिल सकता है।