फ़ीचर

IPL टीम गाइड: हर टीम की विस्तार से जानकारी के साथ खिलाड़ियों के नाम 

सनराइज़र्स हैदराबाद की निरंतरता, चेन्नई सुपरकिंग्स का अनुभव, RCB का जलवा, KKR के कैरिबियन बॉयज़ और MI आपके लिए लाया है ढेर सारा मनोरंजन और ड्रामा।

लेखक जतिन ऋषि राज ·

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) का बिगुल अब बजने ही वाला है। शनिवार, 19 सितंबर से विश्व की सबसे बड़ी और सफल टी-20 लीग का आगाज़ होगा और इस बार यह लीग यूनाइटेड अरब अमीरात में आयोजित की जा रही है।

ग़ौरतलब है कि IPL की शुरुआत साल 2008 में हुई थी। साल 2007 मेंस टी-20 वर्ल्ड कप का पहला संस्करण भारत ने पाकिस्तान को हराकर जीता था और उसके ठीक बाद भारत में IPL ने कदम रखे और उसके बाद यह लीग इतिहास के पन्नों में नए अध्याय जोड़ती चली गई।

IPL ने बहुत से क्रिकेटरों को अपने खेल को बदल कर टी-20 में मास्टरी करने का मौका दिया ताकि वह इस फॉर्मेट से भी जुड़ कर आगे तक जा सकें।

IPL से प्रेरित हो कर बाकी देशों ने भी अपनी घरेलू लीग को जन्म दिया है। ऑस्ट्रेलिया की बिग बैश, वेस्ट इंडीज़ की कैरेबियन प्रीमियर लीग और इंग्लैंड की टी-20 ब्लास्ट अब इस फेहरिस्त में शामिल हैं।

कोरोना वायरस (COVID-19) की वजह से अब IPL को घर बैठ कर ही देखा जा सकते है तो ऐसे में ओलंपिक गेम्स के प्रशंसक भी इसका खूब लुत्फ़ उठा सकते हैं। ओलंपिक चैनल आपके लिए अपनी पसंदीदा टीम चुनने का एक कारण लाई है। चलिए शुरू करते हैं।

अगर आपको माइकल फ़ेल्प्स जैसा एक तगड़ा चैंपियन देखना है तो आप मुंबई इंडियंस की टीम को चुन सकते हैं।

मुंबई इंडियंस ने IPL का ख़िताब 4 बार जीता है।

मुंबई इंडियंस - माइकल फ़ेल्प्स

माइकल फ़ेल्प्स (Michael Phelps) सबसे ज़्यादा सफल ओलंपियन में से एक हैं और वहीं IPL की बात की जाए तो यही औदा मुंबई इंडियंस को भी दिया जाता है। जहां माइकल फ़ेल्प्स के नाम 23 ओलंपिक गोल्ड मेडल हैं तो वहीं IPL के इतिहास में मुंबई इंडियंस के नाम सबसे ज़्यादा यानी 4 खिताब हैं।

फ़ेल्प्स को भी हार न मानने वाला खिलाड़ी कहा जाता है और वहीं मुंबई इंडियंस भी मैदान पर खेल ख़त्म होने तक लड़ा करती है।

MI और फ़ेल्प्स दोनों ही शुरूआती दौर में अपने प्रतिद्वंदियों से नीचे लगते हैं लेकिन जैसे जैसे समय आगे बढ़ता है वैसे-वैसे वे मानों खिताब की ओर बढ़ते दिखाई देते हैं।

मुंबई इंडियंस के कप्तरोहित शर्मा (Rohit Sharma) इस टीम की जान हैं पर साथ ही तेज़ गेदबाज़ जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah), कायरान पोलार्ड (Kieron Pollard) और क्विंटन डी कॉक (Quinton de Kock) जैसे खिलाड़ी इस टीम को पूरा करते हैं।

चेन्नई सुपर किंग्स एकमात्र ऐसी टीम है जिसने IPL का खिआब लगातार दो बार जीता हो। सीएसके ने 2010 और 2011 में यह कारनाम किया था।

चेन्नई सुपर किंग्स - इलियड किपचोगे

अगर आप इलियड किपचोगे (Eliud Kipchoge) के प्रशंक हैं और आपको लंबे मैराथन को सब्र से ख़त्म होते देखना अच्छा लगता है तो यकीनी तौर पर चेन्नई सुपर किंग्स के मुकाबले आपके लिए ही बनें हैं।

किपचोगे ने एथेंस 2004 में 5000 मीटर में ब्रॉन्ज़ मेडल हासिल किया था और बीजिंग 2008 में सिल्वर। इसके बाद अपने कौशल को और ज़्यादा निखारते हुए उन्होंने रियो 2016 में गोल्ड मेडल पर अपने नाम की मुहर लगा दी थी। यह सफलता का एक लंबा पथ था जहां बिना डरे वह चलते गए और कामियाबी उनके हिस्से आती गई।

CSK की कहानी मानों ऐसी ही चल रही थी। IPL के पहले साल यानी 2008 में वह फाइनल में राजस्थान रॉयल्स से हार गए थे और उसके आगले साल उन्होंने प्लेऑफ तक का सफ़र तय किया था। अपने कौशल को बेहतर करते हुए 2010 में उन्होंने चैंपियनशिप को जीत कर बता दिया कि आत्मविश्वास और लगन आपको एक विजेता ही बनाता है।

किपचोगे की बात करें तो आगे चल कर वह ऐसे पहले एथलीट बनें जिन्होंने मैराथन में 2 घंटे के समय को भी मात दी। इसी तरह CSK भी वह पहली टीम बनीं जिन्होंने दो साल लगातार जीत कर अपने खिताब को वापस अपने हक में किया।

इस लीग की दूसरी सबसे सफल टीम है चेन्नई सुपर किंग्स। अगर आप CSK के प्रशंसक हैं तो आपको पता होगा कि यह टीम हर मुकाबले को धीरे-धीरे आगे बढ़ाती है और मौका लगने पर अपने कब्ज़े में कर लेती है। मानों यह एक मैराथन चल रहा हो।

इस टीम को धीरे खेलने में मज़ा आता है। CSK मुकाबलों को आखिर तक ले जाती है और फिर जीत की दहाड़ लगाती है। ठीक ऐसा ही मैराथन में भी होता है कि एथलीट शुरुआत तो धीरे करते हैं लेकिन अंत में जा कर उनकी रणनीति एक दम से बदल जाती है।

हालही में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले चुके महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) इस टीम के कप्तान हैं और ख़ास बात तो यह है कि इन्होने इस टीम को हर बार प्लेऑफ में क्वालिफाई करवाया है। ऐसा करने वाली यह एकमात्र टीम है।

टी-20 को युवाओं का खेल कहा जाता है लेकिन शेन वाटसन (Shane Watson), ड्वेन ब्रावो (Dwayne Bravo) और अम्बाती रायुडु (Ambati Rayudu) ने मिलकर यह बता दिया कि खेल कोई भी हो आपका अनुभव हमेशा कारगर साबित होता है।

कोलकाता नाईट राइडर्स: सुशील कुमार

जब किसी पहलवान के पास ताकत होती है तब उसे मुकाबले जीतने के लिए तकनीक की ही ज़रूरत होती है। भारत की ओर से दो बार ओलंपिक मेडल जीतने वाले सुशील कुमार (Sushil Kumar) मानों इस टीम की छवि को दर्शाते हैं। अपनी ताकत और तकनीक से न केवल उन्होंने पदक हासिल किए हैं बल्कि उन्होंने अपने कौशल का प्रमाण पूरी दुनिया के आगे पेश किया है।

IPL में एक ऐसी ही टीम है जो ताकत और तकनीक से लैस है और वह है कोलकाता नाईट राइडर्स। अगर आपको यह दो खूबियां आकर्षित करती है तो यह टीम आपके लिए ही बनी है।

KKR अपने ताकतवर खिलाड़ी आंद्रे रसेल (Andre Russell) और विस्फोटक सुनील नारेन (Sunil Narine) पर बहुत ज़्यादा निर्भर करती है। यह दोनों खिलाड़ी तेज़ी से रन बनाने के लिए जाने जाते हैं और साथ ही अपनी गेंदबाजी से भी मुक़ाबले को पलट देते हैं।

अब बात करते हैं तकनीक की, इसमें युवा शुबमन गिल (Shubman Gill) और कप्तान दिनेश कार्तिक (Dinesh Karthik) का नाम शामिल है। क्रिकेटिंग शॉट पर निर्भर करते इन दोनों खिलाड़ियों का खेलने का अंदाज़ बहुत बढ़िया और वे हमेशा तकनीक का सहारा लेकर ही आगे बढ़ते हैं।

साल 2012 और 2014 में विजेता रह चुकी यह टीम हर साल मज़बूत दावेदारी पेश करती है। ताकत और तकनीक के मिश्रण के साथ खेल रही यह टीम अपने तीसरे खिताब के लिए IPL 2020 में खेलती नज़र आएगी।

2016 की विजेता सनराइजर्स हैदराबाद लीग की सबसे कंसिस्टेंट टीमों में से एक हैं।

सनराइजर्स हैदराबाद – पीवी सिंधु

अगर साइना नेहवाल (Saina Nehwal) लंदन ओलंपिक गेम्स में ब्रॉन्ज़ मेडल जीत कर भारत में बैडमिंटन की रूचि बढ़ाई है तो पीवी सिंधु (PV Sindhu) ने रियो 2016 में सिल्वर मेडल हासिल कर इस खेल को एक नया मोड़ दिया है। इतना ही नहीं अपने संघर्ष के बाद सिंधु ने खुद को विश्व विजेता तक बना दिया।

इसमें कोई दोहराय नहीं हैं कि सिंधु अपने शहर की टीम सनराइजर्स हैदराबाद की प्रशंक हैं। पुराने चैंपियन डेक्कन चार्जर्स से जन्मी सनराइजर्स हैदराबाद पहली बार IPL का हिस्सा साल 2013 में बनीं। देखते ही देखते इस टीम ने अपनी एक अलग जगह बना ली और बता दिया कि यह टीम इस लीग की भविष्य की बेहतरीन टीमों में से एक हैं।

इस टीम की जीत का ज़्यादा श्रेय अगर किसी को जाता है तो वह हैं उनके कप्तान डेविड वार्नर (David Warner)।

साथ ही भारतीय गेंदबाज़ भुवनेश्वर कुमार (Bhuvneshwar Kumar), बेहतरीन लेग स्पिनर राशिद खान (Rashid Khan) और 2019 वर्ल्ड कप विजेता जॉनी बेयरस्टो (Jonny Bairstow) भी इस टीम के मुख्य खिलाड़ियों में से एक हैं। इतना ही नहीं बल्कि केन विलियमसन (Kane Williamson) का इस टीम में होना इस टीम को IPL 2020 के खिताब के और नज़दीक ले जाता है।

राजस्थान रॉयल्स - भारतीय हॉकी टीम

ओलंपिक के शुरूआती दौर में भारतीय राष्ट्रीय पुरुष हॉकी टीम का दबदबा देखते ही बनता था। एक के बाद एक गोल्ड मेडल जीतना मानों इस टीम की आदत सी बन गई थी लेकिन अब पिछले कई दशकों से यही टीम अंडरडॉग के रूप में खेलती है।

ऐसी ही कुछ समानताएं IPL टीम राजस्थान रॉयल्स में भी हैं जिन्होंने इस लीग का पहला संस्करण अपने नाम किया था लेकिन उसके बाद से ज़्यादा कुछ कर नहीं पाई है।

हालांकि 2020 IPL में स्टीव स्मिथ (Steve Smith) इस टीम कमान एक बार फिर संभालेंगे और मानों यह टीम इस बार सिर्फ एक चीज़ के लिए लड़ रही है और वह है जीत।

स्मिथ विश्व के सबसे बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक हैं और अब आखिरकार उन्हें इस टीम को पूरे संस्करण के लिए सौंपा जा रहा है। इनका साथ देंगेजोस बटलर (Jos Buttler) और बेन स्टोक्स (Ben Stokes) जैसे दिग्गज खिलाड़ी
इतना ही नहीं, युवा खिलाड़ी यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) ने काफी सुर्खियां बटोरी हैं और वह भी इसी टीम की ओर से खेलते हुए नज़र आएंगे। इन्ही के साथ घरेलु हीरो श्रेयस गोपाल (Shreyas Gopal) भी अपनी फिरकी के जादू से अपना जौहर दिखाएँगे और एक बार फिर यह टीम हल्ला बोलने की कोशिश करेगी।

IPL 2020 में दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान होंगे श्रेयस अय्यर।

दिल्ली कैपिटल्स – दुती चंद

रिकॉर्ड बनाती धावक, दुती चंद (Dutee Chand) ने भारतीय एथलेटिक्स को एक नया मकाम दिया है। इतना ही नहीं ओलंपिक विजेता इलेन थॉम्पसन-हेरा (Elaine Thompson-Herah) भी दुती की तारीफ करती हुई नहीं थकीं।

24 वर्षीय दुती को ओलंपिक में भाग लेने का अनुभव भी है। रियो 2016 और बाकी इवेंट में भाग ले चुकी इस भारतीय धावक का सफ़र IPL की टीम दिल्ली कैपिटल्स से मेल खाता है। इस टीम में भी कई ऐसे युवा खिलाड़ी हैं जिन्हें IPL समेत बाकी बड़ी प्रतियोगिताओं में भी स्पर्धा करते हुए देखा गया है।

एक तरफ युवा कप्तान श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer), ऋषब पंत (Rishabh Pant), पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw), कगिसो रबाडा (Kagiso Rabada) जैसे खिलाड़ी इस टीम को स्फूर्ति देते हैं।

वहीं दूसरी ओर शिखर धवन (Shikhar Dhawan), अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane), रविचंद्रन आश्विन (Ravichandran Ashwin) और इशांत शर्मा (Ishant Sharma) इस टीम को वह संतुलन और लय प्रदान करते हैं जिस वजह से किसी भी लीग को जीता जाता है।

अब देखना यह होगा कि मनमुताबिक़ बदलाव करने के बाद भी क्या दिल्ली कैपिटल्स अपना पहला IPL खिताब जीत पाएगी।

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर - मैरी कॉम

अगर आपको बॉक्सिंग के खेल की आक्रामकता और स्फूर्ति पसंद है तो उस लिहाज़ से रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर आपकी बहुत बढ़िया साथी बन सकती है। इस टीम को भारतीय दिग्गज मुक्केबाज़ मैरी कॉम (MC Mary Kom) दर्शाती हैं।

मैरी कॉम रिंग में ऊर्जा, स्फूर्ति और अलग-अलग मूव को दिखाना पसंद लारती हैं। इसी तरह RCB कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) भी हमेशा जोश और उर्जा से भरे दिखाई देते हैं।

अपने जोश के लिए और तेज़ी से रन बनाने के लिए जाने जाने वाले कोहली इस टीम में सबसे अहम भूमिका निभाते हैं और यही वजह है कि इस टीम से उम्मीदें भी बढ़ जाती हैं।

लंबे छक्के मारने वाले एबी डी विलियर्स (AB de Villiers) और अपनी चालाक फिरकी का जाल बुनने वाले युजवेंद्र चहल (Yuzvendra Chahal) इस टीम की जान हैं। यह तीन और बाकी सभी खिलाड़ी IPL 2020 में अपना पहला खिताब इतने की पूरी कोशिश करेंगे।

किंग्स XI पंजाब - उसैन बोल्ट

विश्व में हर कोई उसैन बोल्ट (Usain Bolt) का नाम जानता है। किसी भी वजह से अगर उनके ओलंपिक के आंकड़ों से वंचित हैं तो भी आप उनके फ्री स्टाइल और मस्ती के कारण उनकी प्रशंसा करेंगे।

किंग्स XI पंजाब एक ऐसी टीम है जिसके पास लीग से जुड़े सभी लुभावने मसाले हैं और उनके कई ऐसे खिलाड़ी हैं जो बोल्ट की तरह ही मन मौजी और गुणी भी हैं, क्रिस गेल (Chris Gayle) को भी इन्हों चीज़ों के लिए जाना जाता है और उनके खेलने के तरीके से भी हर कोई वाकिफ है। वहीं दूसरी ओर जैसा स्वभाव और आकर्षण इनके कप्तान केएल राहुल (KL Rahul) और अहम खिलाड़ी मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) लाते हैं वह भी दर्शकों को काफी पसंद आता है।

अपने ही पूर्व कप्तान और विस्फोटक बल्लेबाज़ ग्लेन मैक्सवेल (Glenn Maxwell) को भी किंग्स XI पंजाब ने दोबारा शामिल किया है और सभी जानते हैं कि अपने दिन पर वह क्या कर सकते हैं। इनके अलावा इस टीम में क्रिस जॉर्डन (Chris Jordan), जिमी नीशम (Jimmy Neesham) और शेल्डन कॉटरेल (Sheldon Cottrell) एक अहम भूमिका निभाते हुए नज़र आएंगे।

साल 2014 में इस टीम ने फाइनल तक का सफ़र तय किया था लेकिन कोलकाता नाईट राइडर्स के हाथों इन्हें हार नसीब हुई। यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या इस बार पंजाब के शेर बाज़ी मारेंगे।