फ़ीचर

स्टेफी ग्राफ के गोल्डन स्लैम से लेकर रोजर फेडरर के अविश्वसनीय सफर तक, दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों को जानिए 

खेल में समय समय पर नए चेहरों को नियमित रूप से देखा जाता है, लेकिन इन चैंपियनों ने टेनिस में कुछ असाधारण उपलब्धियों के साथ अपनी अलग ही जगह बनाई है।

लेखक विवेक कुमार सिंह ·

पिछले कुछ सालों में टेनिस ने कई विश्वस्तरिय खिलाड़ियों को जन्म दिया है।  

शुरुआती सालों में भले ही वो महान खिलाड़ी रॉड लेवर (Rod Laver) और मार्गरेट कोर्ट (Margaret Court) हो या जॉन मैकनरो (John McEnroe), ब्योर्न बोर्ग (Bjorn Borg), पीट सैम्प्रास (Pete Sampras), आंद्रे अगासी (Andre Agassi) और क्रिस एवर्ट (Chris Evert), इस खेल में हमेशा किसी न किसी ने अपना वर्चस्व बनाया है और फिर उसे दूसरे के लिए छोड़ कर चले गए।

तो चलिए कुछ सितारों पर नज़र डालते हैं जिन्होंने समय समय पर अपने खेल और उपलब्धियों से इस खेल में अपना वर्चस्व बनाया है।

रोजर फेडरर

टेनिस के महान खिलाड़ियों की कोई सूची इस खिलाड़ी के बिना पूरी नहीं हो सकती है। 1998 में प्रोफेशनल टेनिस में आने के बाद रोजर फेडरर (Roger Federer) ने अपने खेल से दुनिया को मंत्रमुग्ध कर दिया है, उन्होंने 20 ग्रैंड स्लैम खिताब जीता है, ये एक ऐसा रिकॉर्ड है, जो उनके कट्टर प्रतिद्वंद्वी राफेल नडाल ने ही हासिल किया है।

रोजर फेडरर ने अपना पहला ग्रैंड स्लैम 2003 में विंबलडन में जीता था। सेमीफाइनल में उन्होंने एंडी रोडिक को हराया और उसके बाद मार्क फिलॉफिसिस के खिलाफ आसान जीत मिली थी। 

इन वर्षों में स्विस लिजेंड ने ग्रैंड स्लैम खिताब जीतने की कला में महारत हासिल कर ली, जिसमें विंबलडन उनका पसंदीदा जगह रहा है। रोजर फेडरर ने रिकॉर्ड विंबलडन में आठ खिताब जीते हैं।

अपने प्रदर्शन के कारण वो अक्सर रैंकिंग में शीर्ष पर रहे। रोजर फेडरर अपने करियर में 310 सप्ताह तक दुनिया के नंबर 1 स्थान पर रहे हैं, जो किसी भी टेनिस खिलाड़ी द्वारा सबसे अधिक है। स्विस दिग्गज लगातार 237 हफ्तों तक दूनिया के नंबर वन खिलाड़ी भी रहे हैं।

फेडरर के पास एटीपी टूर पर 1,000 से अधिक जीत हैं, 2015 में ब्रिस्बेन इंटरनेशनल में उनकी 1000 वीं जीत मिली थी। जिससे वो जिमी कॉनर्स और इवान लेंडल के साथ 1000 से अधिक जीत हासिल करने वाले ओपन एरा में दुनिया के तीसरे खिलाड़ी बन गए। 

बीजिंग ओलंपिक 2008 में पुरुषों के डबल्स में स्वर्ण और लंदन 2012 से सिंगल्स में रजत जीतकर रोजर फेडरर ने दिखा दिया कि वो सर्वश्रेष्ठ टेनिस खिलाड़ी हैं। 

राफेल नडाल 

यदि कोई ऐसा व्यक्ति है जो रोजर फेडरर की उपलब्धियों को चुनौती दे सकता है, तो वो हैं फेडरर के करीबी दोस्त राफेल नडाल (Rafael Nadal)।

स्पेन के मल्लोर्का में जन्मे इस खिलाड़ी ने 2001 में प्रोफेशनल खिलाड़ी बने और 2005 में फ्रेंच ओपन में अपना पहला ग्रैंड स्लैम जीता।

डेविस कप खिताब को खिताबी जीत दिलाने से एक साल पहले इस युवा खिलाड़ी ने क्ले-कोर्ट सीजन में शानदार प्रदर्शन किया और उन्होंने लगातार 24 एकल मैच जीते थे। फ्रेंच ओपन में पहली बार उतरने से पहले ही नडाल फेवरेट थे। 

स्पैनियिस खिलाड़ी ने निराश नहीं किया और उन्होंने सेमीफाइनल में शीर्ष वरीयता प्राप्त रोजर फेडरर को हराया और फिर फाइनल में मारियानो पुएर्टा को हरा दिया और अपने पहले ही प्रयास में रॉलेंड गैरोस को जीतने वाले सिर्फ दूसरे पुरुष खिलाड़ी बने।

राफेल नडाल ने 2005 के फ्रेंच ओपन में अपना पहला ग्रैंड स्लैम जीता।

पेरिस स्लैम के साथ नडाल का संबंध सालों तक जारी रहा है, उन्होंने रॉलेंड गैरोस को 13 बार रिकॉर्ड जीता है। 2010 में वो फ्रेंच ओपन, विंबलडन और ऑस्ट्रेलियन ओपन में जीत के साथ एक कैलेंडर वर्ष में तीनों सतहों पर एक स्लैम जीतने वाले पुरुष सर्किट में एकमात्र खिलाड़ी बन गए।

स्पैनिस खिलाड़ी ने ओपन एरा में क्ले पर 81 जीत हासिल कर सिंगल्स में सबसे लंबे समय तक जीत का रिकॉर्ड बनाया और सबसे अधिक क्ले कोर्ट खिताब (60) का रिकॉर्ड भी बनाया।

नडाल ने मोंटे-कार्लो मास्टर्स और बार्सिलोना ओपन दोनों क्ले-कोर्ट इवेंट रिकॉर्ड 11 बार जीता है।

नडाल की बदौलत स्पेन को डेविस कप खिताब पांच बार (2004, 2008, 2009, 2011 और 2019) जीतने में मदद मिली है। नडाल ने बीजिंग 2008 में पुरुष सिंगल्स में खिताबी जीत हासिल की और रियो 2016 में पुरुष डबल्स का स्वर्ण पदक जीता।

नोवाक जोकोविच

दिग्गजों की इस सूची में सर्बिया के नोवाक जोकोविच ने दुनिया के शीर्ष खिलाड़ियों के बीच खुद को शामिल करने का कोई मौका नहीं छोड़ा है।

2003 में प्रोफेशनल खिलाड़ी बने जोकोविच को ऑस्ट्रेलियन ओपन में ग्रैंड स्लैम खिताब जीतने में पांच साल लग गए, हालांकि उन्होंने फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

लोगों के प्यार ने उन्हें जोकर नाम दे दिया, उनके पास 17 ग्रैंड स्लैम खिताब, पांच एटीपी फाइनल खिताब है। यही नहीं उनके नाम पर 81 टूर खिताब जीत के अलावा 36 एटीपी मास्टर्स 1000 खिताब भी हैं, जो एक विश्व रिकॉर्ड है।

नोवाक जोकोविच रॉड लेवर के बाद सिर्फ दूसरे पुरुष खिलाड़ी हैं, जिन्होंने एक बार में सभी चार ग्रैंड स्लैम खिताब जीता है। सर्बिया के इस खिलाड़ी ने 2015 में विंबलडन और यूएस ओपन जीतने से पहले ऑस्ट्रेलियन ओपन और फ्रेंच ओपन में जीत हासिल कर ये उपलब्धि हासिल की।

2018 में जोकोविच ने सिनसिनाटी मास्टर्स में जीत के साथ सभी नौ एटीपी वर्ल्ड टूर मास्टर्स 1000 इवेंट जीतकर एक कैरियर गोल्डन मास्टर्स भी पूरा किया।

उनके निरंतर प्रदर्शन ने रैंकिंग में उन्हें अक्सर सिर्फ स्थान पर रखा।

सेरेना विलियम्स 

अगर रॉजर फेडरर पुरुषों के टेनिस में सबसे सफल स्टार रहे हैं, तो सेरेना विलियम्स ने महिला वर्ग में वैसी ही विजय और रिकॉर्ड की विरासत बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।

हालांकि अमेरिका की इस महान खिलाड़ी ने आधिकारिक रूप से 1995 में 14 साल की उम्र में प्रोफेशनल खिलाड़ी बन गई थीं। लेकिन सेरेना विलियम्स डब्ल्यूटीए में उम्र सीमा की वजह से प्रतिस्पर्धा नहीं कर सकती थीं। 

1999 में, उस समय की 18 वर्षीय सेरेना विलियम्स 1958 में एलथिया गिब्सन के बाद यूएस ओपन खिताब के जीतने वाली सिर्फ दूसरी अफ्रीकी-अमेरिकी महिला बनीं और तीन साल में कुछ शानदार प्रदर्शन के साथ एक कैलेंडर स्लैम पूरा किया।

अमेरिका की इस महान खिलाड़ी ने महिला वर्ग में ओपन एरा में सबसे अधिक ग्रैंड स्लैम खिताब (23) जीते हैं और मार्गरेट कोर्ट (24) के रिकॉर्ड की बराबरी कर सकती हैं।

सेरेना विलियम्स ने लंदन 2012 में सिंगल्स स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता है, सेरेना ने अपनी बहन के साथ मिलकर 2000, 2008 और 2012 में खेलों में तीन डबल्स खिताब जीते हैं।

सेरेना विलियम्स 2002 और 2017 के बीच आठ अलग-अलग मौकों पर डब्ल्यूटीए रैंकिंग में शीर्ष पर काबिज खिलाड़ी रही हैं, कुल 319 सप्ताह तक नंबर वन पर रही हैं। उनसे अधिक समय तक स्टेफी ग्राफ (377) और मार्टिना नवरातिलोवा (332) ही  नंबर वन पर रही हैं।

स्टेफी ग्राफ 

इस सूची में अगला सितारा वो है, जो ओपन एरा के शुरुआती वर्षों में महिला टेनिस पर हावी रही थीं। 

1982 में प्रोफेशन खिलाड़ी बनने के बाद जर्मनी की स्टेफी ग्राफ को दुनिया भर से अपनी खेल शैली के लिए सराहना मिली।

उनकी बहुमुखी प्रतिभा और किसी भी खेल की सतह के अनुकूल होने की क्षमता ने उन्हें अपनी पीढ़ी के सबसे सफल खिलाड़ियों में से एक बना दिया। ये माना जाता था कि स्टेफी ग्राफ की वजह से सेरेना विलियम्स जैसे खिलाड़ियों को महारत हासिल करने का रास्ता मिला।

 इस जर्मन ने 22 ग्रैंड स्लैम खिताब जीते है, जो एक विश्व रिकॉर्ड था, जिसे सेरेना विलियम्स ने बाद में तोड़ दिया। वो एक स्वर्ण स्लैम पूरा करने वाली इतिहास की एकमात्र खिलाड़ी हैं। स्टेफी ग्राफ ने 1988 में ये उपलब्धि हासिल की जब उन्होंने अपने सीज़न में शीर्ष स्थान हासिल किया और सियोल ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीता।

Steffi Graf wins the Golden Slam at Seoul 1988

Seoul 1988- Tennis Women Final Graf v Sabatini Highlights. Graf wins the Go...

इसके अलावा 51 वर्षीय मार्गरेट कोर्ट के साथ सिर्फ दो खिलाड़ी हैं, जिन्होंने अपने करियर में पांच बार स्लैम पूरा किया। इस जर्मन खिलाड़ी को 988, 1989, 1993, 1995 और 1996 में जीत मिली थी। 

स्टेफी ग्राफ दुनिया की पहली खिलाड़ी हैं जो 1987 से 1990 तक टेनिस की निर्विवाद शीर्ष खिलाड़ी रही थीं। अपने करियर के दौरान, वो 377 सप्ताह तक शीर्ष पर रहीं, जो कि किसी भी खिलाड़ी द्वारा सबसे अधिक है। 

मार्टिना नवरातिलोवा 

मार्टिना नवरातिलोवा सिंगल्स खिलाड़ी और 200 हफ्तों के लिए डबल्स में शीर्ष स्थान पर रहने वाली एकमात्र टेनिस खिलाड़ी हैं। 

उनकी टेनिस का सफर 1975 में शुरू हुआ और 2006 तक चला, 64 वर्षीय मार्टिना नवरातिलोवा ने अगली पीढ़ी को प्रेरित करने के लिए एक स्थायी विरासत छोड़ गई। 

उन्होंने 18 ग्रैंड स्लैम सिंगल्स खिताब जीता है और 31 प्रमुख महिला डबल्स खिताब भी अपने नाम किया है। जो एक सर्वकालिक रिकॉर्ड है। उन्होंने 10 प्रमुख मिक्स डबल्स खिताब भी अपने नाम किया है, जिनमें से दो भारत के लिएंडर पेस के साथ आया है।

मार्टिना नवरातिलोवा ने तीन दशक से अधिक के करियर में 18 ग्रैंड स्लैम सिंगल्स खिताब जीते हैं।

एक बार पेस ने कहा था, "वो खिलाड़ियों को प्रेरित करती हैं। नवरातिलोवा ने फिटनेस और जिम के काम को एक नए स्तर पर पहुंचाया। नवरातिलोवा के साथ तीन साल से अधिक समय तक खेलना और समय के साथ उसके करीब होने से मुझे अपने करियर में आगे बढ़ने में मदद मिली है, 46 साल की उम्र में मैं खुद को फिट रखने के लिए कुछ न कुछ करता रहता हूं।

ग्रास कोर्ट पर खेलते हुए मार्टिना नवरातिलोवा अक्सर दुनिया की नंबर वन खिलाड़ी रही। स्टेफी ग्राफ के बाद वो सबसे लंबे समय तक (332 सप्ताह) शीर्ष पर रहने का रिकॉर्ड बनाया है।