बॉक्सिंग ओलंपिक क्वालिफिकेशन - अम्मान | छठा दिन - लाइव ब्लॉग

एशिया और ओशिनिया क्वालिफायर्स के छठे दिन के हर एक मुक़ाबले का लाइव अपडेट, वीडियो हाइलाइट्स, और प्रतिक्रियाएं। ओलंपिक चैनल आपके लिए ‘रोड टू टोक्यो 2020’ से संबंधित सभी एक्शन लेकर आ रहा है।

नमस्कार! आप सभी का जॉर्डन के अम्मान में चल रहे एशिया/ओशिनिया ओलंपिक बॉक्सिंग क्वालिफिकेशन टूर्नामेंट के छठे दिन स्वागत है।

आप इस टूर्नामेंट का लाइव टेलीकास्ट यहीं ओलंपिक चैनल पर देख सकते हैं। इसके आलावा पहली बार खासतौर पर आपके लिए हिंदी में बॉक्सिंग की कमेंट्री भी यहां उपलब्ध है।

लाइव ब्लॉग – छठा दिन – रविवार, 8 मार्च

नए अपडेट हासिल करने के लिए कृपया पेज रिफ्रेश करें... सभी समय भारतीय समयानुसार (IST)

12:21 - आज के सभी क्वार्टर-फाइनल मुकाबले समाप्त हुए और हम आपसे विदा लेते हैं। आज भारत के पांच मुक्केबाज़ों ने 2020 ओलंपिक का टिकट हासिल कर सभी देशवासियों को एक शानदार तोहफा दिया। कल मैरी कॉम के मुकाबले के लिए एक बार फिर हमसे जुड़िए। शुभ रात्रि!

12:09 - ऐहेमैती माईमैती (चीन) बनाम कुन्बाबायेव कामश्येबेक (2, कज़ाकिस्तान) - मेंस सुपर-हेवीवेट (+91किग्रा)

शाम के सत्र का आखिरी मुकाबला मेंस सुपर-हेवीवेट में चीन के ऐहेमैती माईमैती और कज़ाकिस्तान के दूसरी वरीयता प्राप्त कामश्येबेक के बीच शुरू हुआ। तीनों ही राउंड में ब्लू कॉर्नर पर काबिज़ कामश्येबेक अपने प्रतिद्वंदी मुक्केबाज़ पर थोड़ा हावी नज़र आए। दोनों ही मुक्केबाज़ लगातार थकान के कारण क्लिंच में जाते रहे। अंततः जजों ने 5-0 से एक पक्षीय निर्णय कामश्येबेक के पक्ष में सुनाया।

23:50 - हुनी ज्यूतिस (3, ऑस्ट्रेलिया) बनाम माऊ ल्यूला (न्यूज़ीलैंड) - मेंस सुपर-हेवीवेट (+91किग्रा)

मेंस सुपर-हेवीवेट का यह मुकाबला न्यूज़ीलैंड के माऊ ल्यूला और ऑस्ट्रेलिया के तीसरी वरीयता प्राप्त जस्टिस हनी के बीच शुरू हुआ। ब्लू कॉर्नर पर काबीज़ न्यूज़ीलैंड के मुक्केबाज़ अच्छे पंच कनेक्ट करने में नाकामयाब रहे। जस्टिस हनी ने अपनी वरीयता के मुताबिक ही बेहतरीन प्रदर्शन किया और जजों ने ऑस्ट्रेलिया के मुक्केबाज़ के पक्ष में 5-0 से Unanimous Decision (एक पक्षीय निर्णय) सुनाया।

23:32 - डैवी ओटगोंबयान (मंगोलिया) बनाम सतीश कुमार (4, भारत) - मेंस सुपर-हेवीवेट (+91किग्रा)

राष्ट्रमंडल खेलों के रजत पदक विजेता सतीश कुमार (91 किग्रा) मेंस सुपर-हेवीवेट के इस क्वार्टर-फाइनल मुकाबले में मंगोलिया के डैवी ओटगोंबयान के खिलाफ रिंग में हैं। 

पहला राउंड: सतीश अपनी लम्बाई और पहुंच का फायदा उठाते हुए फिट और बेहतर नज़र आए। उन्होंने अच्छा लेफ्ट हुक, लेफ्ट स्ट्रेट और राइट अपरकट लगाने में सफल रहे। जजों ने एक पक्षीय निर्णय 5-0 से सतीश के पक्ष में सुनाया। 

दूसरा राउंड: रेड कॉर्नर पर काबिज़ मंगोलिया के मुक्केबाज़ प्रोफेशनल बॉक्सिंग से अमेच्योर बॉक्सिंग में वापस लौटे हैं। सतीश लगातार अच्छे पंच लगाने में सफल रहे। सतीश ने एक तगड़ा राइट स्ट्रेट लगाया, जिससे उनके प्रतिद्वंदी ओटोंगबयार अचेत नज़र आए। जजों ने एक पक्षीय निर्णय 5-0 से सतीश के पक्ष में सुनाया। 

तीसरा राउंड: सतीश इस राउंड में भी तेज़ और आक्रामक नज़र आए। मंगोलिया के मुक्केबाज़ जूझते रहे और महज़ एक या दो पंच ही कनेक्ट कर पाए। इसके बाद सतीश ने अच्छा मूवमेंट करते हुए एक तगड़ा अपरकट लगाया। जजों ने Unanimous Decision (एक पक्षीय निर्णय) (5-0) (30-24, 30-25, 30-25, 30-25, 30-25) से भारत के सतीश के पक्ष में सुनाया। इसी के रविवार के दिन कुछ पांच भारतीय मुक्केबाज़ 2020 ओलंपिक टिकट हासिल करने में कामयाब रहे।

23:18 - जालोलोव बाखोदिर (1, उज़्बेकिस्तान) बनाम लात्यपोव दानिस (बहरीन) - मेंस सुपर-हेवीवेट (+91किग्रा)

मेंस सुपर-हेवीवेट का यह मुकाबला बहरीन के लात्यपोव दानिस और उज़्बेकिस्तान के पहली वरीयता प्राप्त जालोलोव बाखोदिर के बीच शुरू हुआ। रूस में हुए वर्ल्ड चैंपियनशिप के गोल्ड मेडल विजेता ने आक्रामक रुख अपनाते हुए तगड़े पंच लगाए। तीसरे राउंड में कद-काठी में छोटे मुक्केबाज़ लात्यपोव जुझारू दिखे। हालांकि रेड कॉर्नर पर काबिज़ उज़्बेकिस्तान के मुक्केबाज़ अपनी लम्बाई और पहुंच का फायदा उठाते हुए अच्छे पंच कनेक्ट करने में सफल रहे। जजों ने एक पक्षीय निर्णय 5-0 से बाखोदिर जालोलोव के पक्ष में सुनाया।

23:00 - तोहेटा एर्बिएक टैंगलैथन (चीन) बनाम ब्लू मौसावी सईदशाहीन (2, ईरान) - मेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

मेंस मिडिलवेट का यह मुकाबला चीन के तोहेटा एर्बिएक टैंगलैथन और ईरान के दूसरी वरीयता प्राप्त मौसावी सईदशाहीन के बीच शुरू हुई। दोनों ही मुक्केबाज़ों के बीच मुकाबला कांटे का रहा। रेड कॉर्नर पर काबिज़ चीन के मुक्केबाज़ ने अच्छे पंच कनेक्ट किए। जजों ने स्प्लिट निर्णय चीन के मक्केबाज़ के पक्ष में सुनाया।

22:44 - काखरामोनोव फ़नत (उज़्बेकिस्तान) बनाम अमानकुल अबिल्खान (कज़ाकिस्तान) - मेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

मेंस मिडिलवेट का यह मुकाबला कज़ाकिस्तान के अमानकुल और उज़्बेकिस्तान के काखरामोनोव फ़नत के बीच शुरू हुआ। ब्लू कॉर्नर पर कॉबिज़ साउथपॉ बॉक्सर कज़ाकिस्तान के अमानकुल ने राइट अपरकट और लेफ्ट स्ट्रेट के अच्छे कॉम्बिनेशन पंच लगाए। जजों ने अंततः एक पक्षीय निर्णय 5-0 से अमानकुल अबिल्खान के हक में सुनाया।

भारतीय मुक्केबाज़ आशीष कुमार ने सेमीफाइनल में अपनी जगह बनाते हुए हासिल किया 2020 ओलंपिक का टिकट
भारतीय मुक्केबाज़ आशीष कुमार ने सेमीफाइनल में अपनी जगह बनाते हुए हासिल किया 2020 ओलंपिक का टिकटभारतीय मुक्केबाज़ आशीष कुमार ने सेमीफाइनल में अपनी जगह बनाते हुए हासिल किया 2020 ओलंपिक का टिकट

22:28 - मुस्किता मैखेल रॉबर्ड (इंडोनेशिया) बनाम आशीष कुमार (भारत) - मेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

मेंस मिडिलवेट का यह मुकाबला इंडोनेशिया के मुस्किता मैखेल रॉबर्ड और भारत के आशीष कुमार के बीच शुरू हुआ। आशीष क्वार्टर-फाइनल के इस मुकाबले में पहुंचने से पहले दो बाउट जीत चुके हैं। 

पहला राउंड: रेड कॉर्नर पर लम्बी कद-काठी के मुक्केबाज़ मुस्किता मैखेल रॉबर्ड के खिलाफ हिमाचल प्रदेश से आने वाले आशीष कुमार ने अच्छी शुरुआत की और जबरदस्त बॉडी पंच थ्रो किए। आशीष ने लेफ्ट अपरकट और राइट स्ट्रेट लगाने में कामयाब रहे। पैरों का ज्यादा मूवमेंट करते हुए पूरे रिंग में भारत के मुक्केबाज़ ने मुस्किता पर पंच कनेक्ट करने की कोशिश की। जजों ने स्प्लिट निर्णय 4-1 से आशीष के पक्ष में सुनाया। 

दूसरा राउंड: मैस्किता बेल बजते ही आक्रामक नज़र आए। आशीष ने एक अच्छा लेफ्ट जैब लगाया। क्लिंच में भी जाते हुए आशीष ने बॉडी पर अच्छे पंच थ्रो किए। जज़ो ने एक पक्षीय निर्णय 5-0 से आशीष के पक्ष में सुनाया।

तीसरा राउंड: इंडोनेशिया के मुक्केबाज़ ने आखिरी राउंड में आक्रामक शुरुआत की। हालांकि 30 सेकेंड बाद ही आशीष ने राइट जैब और लेफ्ट स्ट्रेट का कॉम्बिनेशन लगाने में सफल रहे। आशीष पूरी तरह से बेहतर और तेज़ नज़र आए। जज़ो ने Unanimous Decision (एक पक्षीय निर्णय) (5-0) (30-27, 30-27, 30-26, 30-24, 30-28) से भारत के आशीष कुमार के पक्ष में सुनाया। इसी के साथ उन्होंने टोक्यो 2020 का टिकट भी हासिल कर लिया है।

22:11 - मार्सेल यूमिर (1, फिलीपींस) बनाम ओटगोंबातर ब्याम्बा-एर्डीन (मंगोलिया) - मेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

मेंस मिडिलवेट का यह मुकाबला मंगोलिया के ब्याम्बा अर्डीन और फिलीपींस की पहली वरीयता प्राप्त मार्सेल यूमिर के बीच शुरू हुआ। पहले और दूसरे राउंड में दोनों मुक्केबाज़ आक्रामक रहे और जबरदस्त पंच थ्रो किए। हालांकि रेड कॉर्नर पर बने फिलीपींस के मुक्केबाज़ ने लेफ्ट और राइट पंचों के कॉम्बिनेशन ने मंगोलिया के मुक्केबाज़ को पस्त कर दिया।

तीसरे राउंड में मार्सेल के पंचों ने मंगोलिया के मुक्केबाज़ को आउटक्लास (अचेत) कर दिया। यानी उनके प्रतिद्वंदी थोड़े मुश्किल में नज़र आए। ऐसा देखते हुए रेफरी ने मुकाबले को बीच में ही रोक दिया। जजों ने RSC - रेफरी स्टॉप्ड कॉन्टेस्ट के तहत मार्सेल यूमिर को विजेता घोषित कर दिया।

21:57 - सोंग सुयोन (दक्षिण कोरिया) बनाम पार्कर कैटलिन (2, ऑस्ट्रेलिया) - वुमेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

वुमेंस मिडिलवेट का यह मुकाबला दक्षिण कोरिया की सोंग सुयोन और ऑस्ट्रेलिया की दूसरी वरीयता प्राप्त पार्कर कैटलिन के बीच शुरू हुआ। शुरुआती दोनों राउंड में ब्लू कॉर्नर पर काबिज़ ऑस्ट्रेलिया की मुक्केबाज़ ने अच्छी शुरुआत की और 1-2 (लेफ्ट- राइट) पंचों का बेहतरीन कॉम्बिनेशन लगाया। 

तीसरे राउंड में भी दक्षिण कोरिया की मुक्केबाज़ सोंग सुयोन आक्रामक रुख अपनाने के बावजूद अच्छे पंच नहीं लगा पाईं। आखिरी राउंड के अंतिम मिनट में दोनों मुक्केबाज़ क्लिंच में जाते हुए नज़र आए। जजों ने एक पक्षीय निर्णय (5-0) (30-27, 30-27, 30-28, 30-27, 30-28) से कैटलिन पार्कर के पक्ष में सुनाया।

कज़ाकिस्तान की मुक्केबाज़ रेबेट्स की आंखो से छलके आंसू, हासिल किया टोक्यो 2020 का टिकट
कज़ाकिस्तान की मुक्केबाज़ रेबेट्स की आंखो से छलके आंसू, हासिल किया टोक्यो 2020 का टिकटकज़ाकिस्तान की मुक्केबाज़ रेबेट्स की आंखो से छलके आंसू, हासिल किया टोक्यो 2020 का टिकट

21:39 - गुएन थी होंग (3, वियतनाम) बनाम रेबेट्स नादेज़दा (कज़ाकिस्तान) - वुमेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

वुमेंस मिडिलवेट का यह मुकाबला कज़ाकिस्तान की रेबेट्स नादेज़दा और वियतनाम की तीसरी वरीयता प्राप्त गुएन थी होंग के बीच शुरू हुआ। पहले राउंड में रेड कॉर्नर पर काबिज़ गुएन थी होंग ने अच्छी बढ़त बनाई लेकिन जल्द ही कज़ाकिस्तान की रेबेट्स नादेज़दा ने मैच को अपने काबू में कर लिया। उन्होंने अपने से लम्बी मुक्केबाज़ गुएन पर अच्छे पंच थ्रो किए। जजों ने एक पक्षीय निर्णय 5-0 से कज़ाकिस्तान की मुक्केबाज़ के पक्ष में सुनाया।

21:22 - मेलिएवा माफ्तुनाख़ोन (उज़बेकिस्तान) बनाम बोरगोहेन लवलिना (2, भारत) - वुमेंस वेल्टरवेट (64-69किग्रा)

वुमेंस वेल्टरवेट का यह मुकाबला उज़्बेकिसान की मेलिएवा माफ्तुनाखोन और भारत की दूसरी वरीयता प्राप्त लवलीना बोरगोहेन के बीच शुरू हुआ।

पहला राउंड: दोनों ही मुक्केबाज़ों का ऑर्थोडॉक्स (दाएं हाथ की मुक्केबाज़) स्टांस की हैं। लवलीना ने पहले राउंड में शानदार पंच थ्रो किए और जजों को प्रभावित करने में कामयाब रहीं। जजों ने 5-0 से एक पक्षीय निर्णय लवलीना के पक्ष में सुनाया।

दूसरा राउंड: विश्व कांस्य पदक विजेता लवलीना बोरगोहेन इस राउंड में अपने आपको बचाते हुए अच्छी शुरुआत की। रेड कॉर्नर की मुक्केबाज़ मेलिएवा ने कुछ अच्छे पंच थ्रो किए लेकिन लम्बी लवलीना पर अच्छे पंच कनेक्ट करने में असफल रहीं। जजों ने 4-1 का स्प्लिट निर्णय भारत की मुक्केबाज़ लवलीना के पक्ष में सुनाया।

तीसरा राउंड: इस राउंड में दोनों ही मुक्केबाज़ों ने आक्रामक शुरुआत की लेकिन अपनी लम्बाई और रेंज का फायदा उठाते हुए लवलीना ने राइट और लेफ्ट पंच कनेक्ट करते हुए साइड होने की अच्छी तकनीकि का प्रयोग किया। आखिरी के तीन मिनट में वह पूरी तरह से खुद को कंट्रोल में रखते हुए अच्छे पंच लगाने में सफल रहीं। जजों ने एक पक्षीय निर्णय (5-0) (29-28, 30-27, 30-27, 30-27, 30-27) से लवलीना बोरगोहेन के पक्ष में सुनाया। 

सेमीफाइनल के लिए क्वालिफाई करने के साथ ही लवलीना आज के दिन बॉक्सिंग में टोक्यो 2020 का टिकट हासिल करने वाली दूसरी महिला मुक्केबाज़ बन गई हैं।

चीन की गू होंग ने क्वार्टर-फाइनल मुकाबला जीतकर हासिल किया टोक्यो 2020 का टिकट
चीन की गू होंग ने क्वार्टर-फाइनल मुकाबला जीतकर हासिल किया टोक्यो 2020 का टिकटचीन की गू होंग ने क्वार्टर-फाइनल मुकाबला जीतकर हासिल किया टोक्यो 2020 का टिकट

21:06 - गू हांग (3, चीन) बनाम ख़ालज़ोवा वेलेंटिना (कज़ाकिस्तान) - वुमेंस वेल्टरवेट (64-69किग्रा)

वुमेंस वेल्टरवेट का यह मुकाबला कज़ाकिस्तान की ख़ालज़ोवा वेलेंटिना और चीन की तीसरी वरीयता प्राप्त गू हांग के बीच शुरू हुआ। पहले राउंड में दोनों मुक्केबाज़ ने एक-दूसरे को कड़ी टक्कर दी। रेड कॉर्नर पर बनी चीन की गू हांग ने कुछ अच्छे पंच कनेक्ट किए। जजों ने स्प्लिट नतीजा गू हांग के पक्ष में सुनाया। 

दूसरे और तीसरे राउंड में भी चीन की मुक्केबाज़ ने बढ़त बनाए रखी और अंततः जजों ने गू हांग को विजेता घोषित किया।

20:49 - मैनिकॉन बैसन (थाईलैंड) बनाम स्कॉट काये (4, ऑस्ट्रेलिया) - वुमेंस वेल्टरवेट (64-69किग्रा)

वुमेंस वेल्टरवेट का यह मुकाबला थाईलैंड की बैसन मैनिकॉन और ऑस्ट्रेलिया की चौथी वरीयता प्राप्त काये स्कॉट के बीच शुरू हुआ। तीनों ही राउंड में दोनों मुक्केबाज़ों ने एक-दूसरे को कड़ी टक्कर दी। मैनिकॉन लगातार अच्छे पंच लगाने में कामयाब रहीं और जजों ने स्प्लिट निर्णय से मैनिकॉन को विजेता करार दिया। इसी के साथ वह ओलंपिक का टिकट हासिल करने में कामयाब रहीं।

20:30 - चेन निएन-चिन (1, चीनी ताइपे) बनाम उर्नबिलेग शिनेटसेटसेग (मंगोलिया) - वुमेंस वेल्टरवेट (64-69किग्रा)

शाम के सत्र का पहला मुकाबला वुमेंस वेल्टरवेट में मंगोलिया की उर्नबिलेग शिनेटसेटसेग और चीनी ताइपे की पहली वरीयता प्राप्त चेन निएन-चिन से शुरू हुआ। चार साल से लगातार बॉक्सिंग की दुनिया में अपना दबदबा बनाए रखने वाली रेड कॉर्नर पर काबीज़ चेन निएन ने शानदार शुरुआत की। तीनों ही राउंड में उन्होंने बैक पैडलिंग करते हुए लगातार राइट और लेफ्ट पंचों का कॉम्बिनेशन जारी रखा। अंतिम राउंड में भी उन्होंने लगातार स्ट्रेट पंचों का लगाना जारी रखा। जजों ने अंततः एक पक्षीय निर्णय (5-0) से चीनी ताइपे की मुक्केबाज़ चेन के पक्ष में सुनाया।

17:57 - घोषून अला अल्दिन (सीरिया) बनाम यिका डेविव (2, न्यूज़ीलैंड) - मेंस हेवीवेट (81-91किग्रा)

मेंस हेवीवेट में यह मुकाबला सीरिया के घोषून अला अल्दिन और न्यूज़ीलैंड के दूसरी वरीयता प्राप्त डेविव के बीच शुरू हुआ। तीनों राउंड में कड़ा मुकाबला देखने को मिला। रेड कॉर्नर पर सीरिया के मुक्केबाज़ ने दूसरे राउंड में कुछ अच्छे प्रयास किए। यिका डेविव के पंच अच्छे कनेक्ट हुए और अंततः जजों ने 5-0 से विजेता न्यूज़ीलैंड के मुक्केबाज़ को घोषित किया।

17:43 - तुर्सुनोव संजार (3, उज़्बेकिस्तान) बनाम शरीफ़ी तूफान (ईरान) - मेंस हेवीवेट (81-91किग्रा

मेंस हेवीवेट का यह मुकाबला ईरान के शरीफ़ी तूफान और उज़्बेकिस्तान के तीसरी वरीयता प्राप्त तुर्सुनोव संजार के बीच शुरू हुआ। पहले राउंड की शुरुआत काफी धीमी रही। रेड कॉर्नर पर काबिज़ तुर्सुनोव संजार खुद को शांत और संयम में रखते हुए अच्छे पंच कनेक्ट करने में सफल रहे। पहला और दूसरा राउंड तुर्सुनोव के पक्ष में रहा। तीसरे राउंड तूफान शरीफ़ी थोड़ा तूफान मचाते हुए नज़र आए और उन्होंने कुछ बेहतरीन स्ट्रेट पंच लगाए। क्लिंच में भी अच्छे पंच देखने को मिले। अंततः जजों ने एक पक्षीय निर्णय 5-0 से तुर्सुनोव संजार के पक्ष में सुनाया।

17:32 - प्लोडज़िकी-फाओगैली आटो ल्यू (सामोआ) बनाम आशीष हुसैन (4, जॉर्डन) - मेंस हेवीवेट (81-91किग्रा)

मेंस हेवीवेट में यह मुकाबला सामोआ के प्लोडज़िकी-फाओगैली आटो ल्यू और जॉर्डन के चौथी वरीयता प्राप्त हुसैन आशीष के बीच शुरू हुआ। ब्लू कॉर्नर पर काबिज़ जॉर्डन के मुक्केबाज़ ने पहले राउंड में ही राइट और लेफ्ट हुक का शानदार कॉम्बिनेशन लगाया। दूसरे राउंड में उनके प्रतिद्वंदी की दाईं आंख के ऊपर एक कट लगा और रेफरी ने लगातार जॉर्डन के मुक्केबाज़ के द्वारा थ्रो किए गे पंचों के बाद 8 गिनती की काउंटिंग शुरू की। सामोआ के मुक्केबाज़ को सही स्थिति मे न पाते हुए रेफरी ने मुकाबले को बीच में ही रोक दिया। जजों ने RSC - रेफरी स्टॉप्ड कॉन्टेस्ट के तहत आशीष हुसैन को विजेता घोषित

लेविट वैज़िली ने अपने प्रतिद्वंदी को हराकर बनाई क्वार्टर-फाइनल में जगह
लेविट वैज़िली ने अपने प्रतिद्वंदी को हराकर बनाई क्वार्टर-फाइनल में जगहलेविट वैज़िली ने अपने प्रतिद्वंदी को हराकर बनाई क्वार्टर-फाइनल में जगह

17:14 - लेविट वैज़िली (1, कज़ाकिस्तान) बनाम बोल्तायेव दवलत (तज़ाकिस्तान) - मेंस हेवीवेट (81-91किग्रा)

मेंस हेवीवेट का यह मुकाबला तज़ाकिस्तान के मुक्केबाज़ बोल्तायेव दवलत और कज़ाकिस्तान के पहली वरीयता प्राप्त कज़ाकिस्तान के लेविट वैज़िली के बीच शुरू हुआ। रियो 2016 के सिल्वर मेडल विजेता लेविट ने एक चैंपियन की तरह तीनों राउंड में मुकाबला किया। तज़ाकिस्तान के मुक्केबाज़ उन्हें टक्कर देने में पूरी कोशिश करते रहे पर कामयाब नहीं हुए। जजों ने एक पक्षीय निर्णय (5-0) (30-26, 30-27, 30-27, 30-27, 30-26) से वैज़िली के पक्ष में सुनाया।

अपने पहले ही अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट में ऑस्ट्रेलिया के पाउलो औकूदो ने हासिल किया ओलंपिक टिकट
अपने पहले ही अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट में ऑस्ट्रेलिया के पाउलो औकूदो ने हासिल किया ओलंपिक टिकटअपने पहले ही अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट में ऑस्ट्रेलिया के पाउलो औकूदो ने हासिल किया ओलंपिक टिकट

17:00 - गुएन मान चोंग (वियतनाम) बनाम औकूसो पाउलो (ऑस्ट्रेलिया) - मेंस लाइट-हेवीवेट (75-81किग्रा)

मेंस लाइट-हेवीवेट का यह मुकाबला वियतनाम के गुएन मान चोंग और ऑस्ट्रेलिया के पाउलो औकूसो के बीच शुरू हुआ। तीनों ही राउंड में दोनों मुक्केबाज़ो ने एक-दूसरे को कड़ी टक्कर दी। हालांकि ब्लू कॉर्नर पर काबिज़ ऑस्ट्रेलिया के 22 वर्षीय मुक्केबाज़ पाउलो औकूसो वियतनाम के मुक्केबाज़ पर अच्छे पंच कनेक्ट करने में कामयाब रहे। जजों ने एक पक्षीय निर्णय (5-0) (30-27, 30-27, 30-26, 30-27, 30-26) से ऑस्ट्रेलिया के औकूसो के पक्ष में सुनाया।

16:42 - चेन हैक्सिंग (चीन) बनाम सचिन कुमार (भारत) - मेंस लाइट-हेवीवेट (75-81किग्रा)

सचिन कुमार (81 किग्रा) ने समोआ के डी लाओपो पर 5-0 की जीत से क्वार्टर-फाइनल में प्रवेश किया है। मेंस लाइट-हेवीवेट में वह रिंग चीन के अपने प्रतिद्वंदी मुक्केबाज़ चेन के खिलाफ खड़े हैं।

पहला राउंड: घंटी बजते ही तीन मिनट के इस राउंड में सचिन ने बेहतरीन शुरुआत की और उनके लगभग सभी पंच अच्छे कनेक्ट हुए। ब्लू कॉर्नर पर काबिज़ इस भारतीय मुक्केबाज़ ने अपने से लम्बे चीन के मुक्केबाज़ पर बढ़त बनाई। जजों ने इस राउंड में 5-0 से एक पक्षीय निर्णय सचिन कुमार के पक्ष में सुनाया।

दूसरा राउंड: इस राउंड में चीन के मुक्केबाज़ चेन ने अच्छी वापसी की और सचिन की बॉडी पर कुछ अच्छे पंच कनेक्ट किए। जजों ने दूसरा राउंड 4-1 के स्प्लिट निर्णय से चेन के पक्ष में सुनाया।

तीसरा राउंड: आखिरी राउंड में सचिन ने एक बार फिर आक्रामक रुख अपनाया लेकिन चीन के मुक्केबाज़ ने अपनी लम्बाई और रेंज का फायदा उठाते हुए कुछ बेहतरीन पंच कनेक्ट किए। सचिन ने एक शानदार लेफ्ट हुक लगाया। यह बेहद कड़ा मुकाबला रहा और अंततः जजों ने स्प्लिट निर्णय (3-2) (29-28, 29-28, 28-29, 29-28, 28-29) से चीन के मुक्केबाज़ चेन के पक्ष में सुनाया।

इस भारवर्ग श्रेणी में कुल 5 ओलंपिक टिकट दांव पर हैं। ऐसे में सचिन के पास बॉक्स-ऑफ के जरिए 2020 ओलंपिक टिकट हासिल करने का अभी भी एक मौका शेष है।

16:27 - योमखोट जक्कापोंग (थाईलैंड) बनाम अल्हिंदावी ओदाई रियाद अदेल (जॉर्डन) - मेंस लाइट-हेवीवेट (75-81किग्रा)

मेंस लाइट-हेवीवेट का यह मुकाबला थाईलैंड के योमखोट जक्कापोंग और जॉर्डन के अल्हिंदावी के बीच शुरू हुआ। तीनों ही राउंड में ब्लू कॉर्नर पर काबिज़ अल्हिंदावी अपने प्रतिद्वंदी पर हावी रहे और जजों ने एक पक्षीय निर्णय 5-0 से मेज़बान देश जॉर्डन के मुक्केबाज़ के पक्ष में सुनाया।

16:15 - नूरदौलेतोव बेकज़ाद (1, कज़ाकिस्तान) बनाम नेग्मातुल्लोव शाब्बोस (तज़ाकिस्तान) - मेंस लाइट-हेवीवेट (75-81किग्रा)

मेंस लाइट-हेवीवेट का यह मुकाबला तज़ाकिस्तान के नेग्मातुल्लोव और कज़ाकिस्तान के पहली वरीयता प्राप्त नूरदौलेतोव बेकज़ाद के बीच शुरू हुआ। तीनों ही राउंड में रेड कॉर्नर पर काबिज़ बेकज़ाद तज़ाकिस्तान के मुक्केबाज़ पर हावी रहे। जजों ने एक पक्षीय निर्णय (5-0) (30-27, 30-27, 30-27, 30-27, 30-27) से नूरदौलेतोव बेकज़ाद के पक्ष में सुनाया।

Ablaikhan Zhussupov takes the win over Thailand’s Wuttichai Masuk and is through to the semi-finals
Ablaikhan Zhussupov takes the win over Thailand’s Wuttichai Masuk and is through to the semi-finalsAblaikhan Zhussupov takes the win over Thailand’s Wuttichai Masuk and is through to the semi-finals

15:58 - मासूक वुत्तीचाई (थाईलैंड) बनाम ज़ूस्सूपॉव अब्लैख़ान (2, कज़ाकिस्तान) - मेंस वेल्टरवेट (63-69किग्रा)

मेंस वेल्टरवेट का यह मुकाबला थाईलैंड के मासूक वुत्तीचाई और कज़ाकिस्तान के दूसरी वरीयता प्राप्त ज़ूस्सूपॉव के बीच शुरू हुआ। तीनों ही राउंड में ब्लू कॉर्नर पर काबिज़ ज़ूस्सूपॉव अपने प्रतिद्वंदी पर हावी रहे और जजों ने अंततः 5-0 से एक पक्षीय निर्णय कज़ाकिस्तान के इस मुक्केबाज़ के पक्ष में सुनाया। आपको बता दें अब इसी मुक्केबाज़ से भारत के विकास कृष्ण का सेमीफाइनल में मुकाबला होगा।

15:40 - ओकाज़ावा सेवेनोरेत्स क्विंसी मेनाश (3, जापान) बनाम विकास कृष्ण (भारत) - मेंस वेल्टरवेट (63-69किग्रा)

कॉमनवेल्थ गेम्स के गोल्ड मेडल विजेता विकास कृष्ण (69 भारवर्ग) ने किर्गिस्तान के नूरू सुल्तान ममातेली को 5-0 से पराजित कर एशिया/ओशिनिया ओलंपिक क्वालिफायर के क्वार्टर-फाइनल में जगह बनाई।

क्वार्टर-फाइनल के इस मुक़ाबले में वह एशियाई रजत पदक विजेता जापान के सेवेनोरेत्स ओकाजावा के खिलाफ रिंग में हैं। पिछले साल ओलंपिक टेस्ट इवेंट में स्वर्ण पदक जीतने वाले ओकाजावा ने ताइवान के पेन हंग मिंग को मात दी थी। वहीं, पिछले साल दिसंबर में दक्षिण एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने के बाद यह विकास की पहली प्रतियोगिता है।

पहला राउंड: युवाओं और अपने बच्चों के लिए मिसाल बनने का सपना देखने वाले विकास ने शानदार शुरुआत की। उन्होंने पूरे आत्मविश्वास के साथ अपने गार्ड को मजबूत रखते हुए पंच थ्रो किए उनके प्रतिद्वंदी ओकाज़ावा ने भी इस राउंड में कड़ी टक्कर दी। जजों ने 3-2 से स्प्लिट निर्णय विकास के पक्ष में सुनाया।

दूसरा राउंड: जापान के मुक्केबाज़ इस राउंड में कुछ बेहतर नहीं कर पाए। विकास ने वीव करते हुए कुछ बेहतरीन लेफ्ट जैब लगाए। जापान के मुक्केबाज़ ने पंच जरूर थ्रो करने की कोशिश की लेकिन वह कनेक्ट नहीं हुए। जजों ने एक पक्षीय निर्णय 5-0 से विकास के पक्ष में सुनाया।

तीसरा राउंड: दोनों मुक्केबाज़ों ने इस राउंड में आक्रामक शुरुआत की लेकिन विकास ने काफी शांत रहते हुए सटीक और पंचों के बेहतीन कॉम्बिनेशन लगाए। साफतौर पर वह ओकाज़ावा पर हावी नज़र आए। जजों ने (5-0) (30-27, 29-28, 29-28, 30-27, 30-27) से एक पक्षीय निर्णय विकास कृष्ण के पक्ष में सुनाया।

इसी के साथ विकास सेमीफाइनल में प्रवेश करने के साथ 2020 ओलंपिक का टिकट हासिल करने वाले पहले भारतीय पुरुष मुक्केबाज़ बन गए हैं।

An emotional Zeyad Eishaih Hussein Eashash after earning Jordan's first qualification spot to the Games
An emotional Zeyad Eishaih Hussein Eashash after earning Jordan's first qualification spot to the GamesAn emotional Zeyad Eishaih Hussein Eashash after earning Jordan's first qualification spot to the Games

15:23 - ए टोंग मैरिन फॉस्टिनो (समोआ) बनाम एशाश ज़ेयाद एशाश हुसैन (4, जॉर्डन) - मेंस वेल्टरवेट (63-69किग्रा)

मेंस वेल्टरवेट का यह मुकाबला समोआ के ए टोंग मैरिन फॉस्टिनो और जॉर्डन के चौथी वरीयता प्राप्त एशाश हुसैन के बीच शुरू हुआ। तीनों ही राउंड में मेज़बान देश के मुक्केबाज़ हुसैन अपने प्रतिद्वंदी पर हावी रहे। जजों ने 5-0 से एक पक्षीय निर्णय एशाश हुसैन के पक्ष में सुनाया।

वेल्टरवेट कैटेगरी के शीर्ष वरीयता प्राप्त बोबो-उस्मान ने अपने प्रतिद्वंदी को हराकर बनाई सेमीफाइनल में जगह
वेल्टरवेट कैटेगरी के शीर्ष वरीयता प्राप्त बोबो-उस्मान ने अपने प्रतिद्वंदी को हराकर बनाई सेमीफाइनल में जगहवेल्टरवेट कैटेगरी के शीर्ष वरीयता प्राप्त बोबो-उस्मान ने अपने प्रतिद्वंदी को हराकर बनाई सेमीफाइनल में जगह

15:09 - बाथुरोव बोबो-उसमोन (1, उज़्बेकिस्तान) बनाम मैमैटिटू एर्सन क्योंग (चीन) - मेंस वेल्टरवेट (63-69किग्रा)

क्वार्टर-फाइनल की मेंस कैटेगरी का पहला मुकाबला उज़्बेकिस्तान के पहली वरीयता प्राप्त बाथुरो बोबो-उस्मोन और चीन के मैमैटिटू एर्सन क्योंग के बीच शुरू हुआ। रेड कॉर्नर पर काबिज़ बाथुरोव ने तीनों ही राउंड में आक्रामक रुख अपनाते हुए कुछ बेहतरीन पंच थ्रो किए। जजों ने एक पक्षीय निर्णय (5-0) (30-27, 29-28, 29-28, 30-27, 29-28) से उज़्बेकिस्तान के मुक्केबाज़ बोबो-उस्मान के पक्ष में सुनाया।

भारत की मिडिलवेट मुक्केबाज़ पूजा रानी सेमीफाइनल के लिए क्वालिफाई करते हुए टोक्यो 2020 का टिकट हासिल करने वाली पहली भारतीय मुक्केबाज़ बन गईं। क्वार्टर फाइनल में थाईलैंड की मुक्केबाज़ को हराने के बाद पूजा रानी ने कहा, "आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस भी है और मैं ओलंपिक टिकट हासिल करने वाली पहली भारतीय मुक्केबाज बन गई हूं। मैं टोक्यो 2020 में जगह बनाने वाली पहली भारतीय महिला मुक्केबाज़ भी हूं, इसलिए मुझे वास्तव में बहुत अच्छा लग रहा है। इसलिए मैं सभी महिलाओं को महिला दिवस के अवसर पर शुभकामनाएं देना चाहूंगी।"

टोक्यो 2020 का टिकट हासिल कर पूजा रानी ओलंपिक में अपना डेब्यू करने के लिए पूरी तरह तैयार
टोक्यो 2020 का टिकट हासिल कर पूजा रानी ओलंपिक में अपना डेब्यू करने के लिए पूरी तरह तैयारटोक्यो 2020 का टिकट हासिल कर पूजा रानी ओलंपिक में अपना डेब्यू करने के लिए पूरी तरह तैयार

14:50 - छूटी पोन्निपा (थाईलैंड) बनाम पूजा रानी (4, भारत) - वुमेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

वुमेंस मिडिलवेट में यह मुक़ाबला भारत की एशियाई चैंपियनशिप की स्वर्ण पदक विजेता पूजा रानी (75 किग्रा) और थाईलैंड की छूटी पोन्निपा के बीच शुरू हुआ। 

पहला राउंड: अपने परिवार से बॉक्सिंग के सपने को छुपाकर रखने वाली पूजा रानी ने बहुत ही शानदार शुरुआत की। लेफ्ट जैब और राइट स्ट्रेट लगाकर वह अपने ओलंपियन बनने की आगे बढ़ीं। अपने गार्ड को मज़बूत रखते हुए उन्होंने अपनी प्रतिद्वंदी को पंच कनेक्ट करने का कोई मौका नहीं दिया। साउथ पॉ की इस भारतीय बॉक्सर के पक्ष में जजों ने पहले राउंड में 5-0 से एक पक्षीय निर्णय सुनाया।

दूसरा राउंड: भारत की उम्मीदों की मशाल को लेकर आगे बढ़ रहीं पूजा रानी ने दूसरे राउंड में भी राइट और लेफ्ट पंचों के कॉम्बिनेशन लगाकर फिर अपनी प्रतिद्वंदी पर बढ़त बनाई। जजों ने एक बार इस राउंड में भी 5-0 से एक पक्षीय निर्णय उनके पक्ष में सुनाया। 

तीसरा राउंड: तीन मिनट के तीसरे और अंतिम राउंड में पूजा रानी ने बैक पैडलिंग करते हुए अपनी प्रतिद्वंदी को मौका दिया लेकिन खुद वीव और डक (साइट होकर और झुककर) करते हुए पंच से बचती रहीं। साथ ही कुछ बेहतरीन लेफ्ट हुक लगाए। अंततः जजों ने Unanimous Decision (एक पक्षीय निर्णय) (5-0) (30-27, 30-27, 30-27, 30-27, 30-27) से भारत की पूजा रानी के पक्ष में सुनाया। 

अब सेमी-फाइनल में उनका मुकाबला चीन की पहली वरीयता प्राप्त किन ली से होगा। इसी के साथ वह 2020 ओलंपिक का टिकट हासिल करने वाली पहली मुक्केबाज़ बन गई हैं।

चीन की ली किन मुकाबला जीतकर एशिया/ओशिनिया क्वालिफ़ायर में ओलंपिक टिकट हासिल करने वाली पहली मुक्केबाज़ बनीं
चीन की ली किन मुकाबला जीतकर एशिया/ओशिनिया क्वालिफ़ायर में ओलंपिक टिकट हासिल करने वाली पहली मुक्केबाज़ बनींचीन की ली किन मुकाबला जीतकर एशिया/ओशिनिया क्वालिफ़ायर में ओलंपिक टिकट हासिल करने वाली पहली मुक्केबाज़ बनीं

ली किन ने जीत के साथ ओलंपिक टिकट हासिल करने के बाद कहा, "मैं वास्तव में खुश हूं, मैं आज रिंग में बॉक्सिंग करने वाली पहली बॉक्सर थी। मैं खुद में इत्मिनान महसूस कर रही था। मैं ओलंपिक खेलों के लिए क्वालिफाई करने पर बहुत खुश हूं और अब मैं टोक्यो में एक बेहतर सीडिंग प्राप्त करने के लिए टूर्नामेंट के बाकी मुकाबलों में भी अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने पर ध्यान केंद्रित करूंगी।"

14:32 - ली किन (1, चीन) बनाम मुंखबत म्यागमरजार्गल (मंगोलिया) - वुमेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

छठे दिन के सुबह के सत्र का पहला मुकाबला चीन की पहली वरीयता प्राप्त ली किन और मंगोलिया की मुंखबत के बीच शुरू हुआ। तीनों ही राउंड में वह अपनी प्रतिद्वंदी पर भारी रहीं और जजों ने अंततः निर्णय (5-0) (30-27, 30-27, 30-26, 30-27, 30-27) से रेड कॉर्नर पर काबिज़ चीन की मुक्केबाज़ के पक्ष में सुनाया। 

इसी के साथ किन ली एशिया/ओशिनिया क्वालिफ़ायर्स के ज़रिए टोक्यो 2020 के लिए क्वालिफ़ाई करने वाली पहली मुक्केबाज़ बन गई हैं।

14:28 - आज से हो रहा है निर्णायक मुक़ाबलों का आगाज़

एशिया/ओशिनिया क्वालिफ़ायर्स के छठे दिन क्वार्टर-फाइनल के मुकाबले शुरू हो रहे हैं। आज जीतने वाले मुक्केबाज़ सेमी-फाइनल में जगह बनाने के साथ ही 2020 ओलंपिक में भी अपना स्थान पक्का कर लेंगे। वहीं, हारने वाले मुक्केबाज़ों के पर बॉक्स-ऑफ मुकाबलों के जरिए टोक्यो 2020 में जगह पक्की करने का भी मौका होगा।

जॉर्डन के अम्मान के प्रिंस हमज़ाह हॉल में एशिया/ओशिनिया ओलंपिक बॉक्सिंग क्वालिफिकेशन (Asia/ Oceania Olympic Boxing Qualification) का आज छठा दिन है। जहां सभी मुक्केबाज़ ग्रीष्मकालीन ओलंपिक खेलों में अपनी जगह पक्की करने के लिए 63 बर्थ/स्थानों (41 पुरुषों के लिए और 22 महिलाओं के लिए) में मुक़ाबला करेंगे।

पुरुष 8 भार वर्गों (फ्लाईवेट (52 किग्रा) से लेकर सुपर-हैवीवेट (+91 किग्रा) तक) में प्रतिस्पर्धा करेंगे, जबकि महिलाएं 5 भार वर्गों (फ्लाईवेट (51 किग्रा) से लेकर मिडिलवेट (75 किग्रा) तक) में मुकाबला करेंगी।

हमें छठे दिन कुल 24 मुक़ाबले देखने को मिलेंगे – अम्मान में होने वाले छठे दिन के मुकाबले दो सत्र में विभाजित किए गए हैं - सुबह का सत्र और शाम का सत्र, जो भारतीय समयानुसार 14:30 से शुरू होंगे। आज यानी रविवार को कुल 28 क्वार्टर-फाइनल के मुकाबले होंगे, सुबह के सत्र में कुल 14 और शाम के सत्र में 14 मुकाबले होंगे।

आप छठे दिन के मुकाबलों का पूरा शेड्यूल नीचे देख सकते हैं, साथ ही यह भी जाने सकते हैं कि मुकाबले कब और कहां देखें? इसके अलावा सभी एक्शन, हाइलाइट्स और लाइव शो हमारे ओलंपिक चैनल पर यहीं देख सकते हैं।

छठा दिन – सुबह का सत्र | भारतीय समायनुसार – 14:30

1) वुमेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

ली किआन (1, चीन) बनाम मुंखबत म्यागमरजार्गल (मंगोलिया)

2) वुमेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

छूटी पोन्निपा (थाईलैंड) बनाम पूजा रानी (4, भारत)

3) मेंस वेल्टरवेट (63-69किग्रा)

बाथुरोव बोबो-उसमोन (1, उज़्बेकिस्तान) बनाम मैमैटिटू एर्सन क्योंग (चीन)

4) मेंस वेल्टरवेट (63-69किग्रा)

ए टोंग मैरिन फॉस्टिनो (समोआ) बनाम एशाश ज़ेयाद एशाश हुसैन (4, जॉर्डन)

5) मेंस वेल्टरवेट (63-69किग्रा)

ओकाज़ावा सेवोंरेट्स क्विंसी मेनाश (3, जापान) बनाम विकास कृष्ण (भारत)

6) मेंस वेल्टरवेट (63-69किग्रा)

मासूक वुत्तीचाई (थाईलैंड) बनाम ज़ूस्सूपॉव अब्लैख़ान (2, कज़ाकिस्तान)

7) मेंस लाइट-हेवीवेट (75-81किग्रा)

नूरदौलेतोव बेकज़ाद (1, कज़ाकिस्तान) बनाम नेग्मातुल्लोव शाब्बोस (तज़ाकिस्तान)

8) मेंस लाइट-हेवीवेट (75-81किग्रा)

योमखोट जक्कापोंग (थाईलैंड) बनाम अल्हिंदावी ओदाई रियाद अदेल (जॉर्डन)

9) मेंस लाइट-हेवीवेट (75-81किग्रा)

चेन हैक्सिंग (चीन) बनाम सचिन कुमार (भारत)

10) मेंस लाइट-हेवीवेट (75-81किग्रा)

गुएन मान चोंग (वियतनाम) बनाम औकूसो पाउलो (ऑस्ट्रेलिया)

11) मेंस हेवीवेट (81-91किग्रा)

लेविट वैज़िली (1, कज़ाकिस्तान) बनाम बोल्तायेव दवलत (तज़ाकिस्तान)

12) मेंस हेवीवेट (81-91किग्रा)

प्लोडज़िकी-फाओगैली आटो ल्यू (सामोआ) बनाम एशाश हुसैन एशाश हुसैन (4, जॉर्डन)

13) मेंस हेवीवेट (81-91किग्रा

तुर्सुनोव संजार (3, उज़्बेकिस्तान) बनाम शरीफ़ी तूफान (ईरान)

14) मेंस हेवीवेट (81-91किग्रा)

घोषून अला अल्दिन (सीरिया) बनाम यिका डेविव (2, न्यूज़ीलैंड)

दिन – शाम का सत्र | भारतीय समयानुसार – 20:30

15) वुमेंस वेल्टरवेट (64-69किग्रा)

चेन निएन-चिन (1, चीनी ताइपे) बनाम उर्नबिलेग शिनेटसेटसेग (मंगोलिया)

16) वुमेंस वेल्टरवेट (64-69किग्रा)

मैनिकॉन बैसन (थाईलैंड) बनाम स्कॉट काये (4, ऑस्ट्रेलिया)

17) वुमेंस वेल्टरवेट (64-69किग्रा)

गू हांग (3, चीन) बनाम ख़ालज़ोवा वेलेंटिना (कज़ाकिस्तान)

18) वुमेंस वेल्टरवेट (64-69किग्रा)

मेलिएवा माफ्तुनाख़ोन (उज़बेकिस्तान) बनाम बोरगोहेन लवलिना (2, भारत)

19) वुमेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

गुएन थी होंग (3, वियतनाम) बनाम याबेट्स नादेज़दा (कज़ाकिस्तान)

20) वुमेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

सोंग सुयोन (दक्षिण कोरिया) बनाम पार्कर कैटलिन (2, ऑस्ट्रेलिया)

21) मेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

मार्सेल यूमिर (1, फिलीपींस) बनाम ओटगोंबातर ब्याम्बा-एर्डीन (मंगोलिया)

22) मेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

मुस्किता मैखेल रॉबर्ड (इंडोनेशिया) बनाम आशीश कुमार (भारत)

23) मेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

काखरामोनोव फ़नत (उज़्बेकिस्तान) बनाम अमानकुल अबिल्खान (कज़ाकिस्तान)

24) मेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

तोहेटा एर्बिएक टैंगलैथन (चीन) बनाम ब्लू मौसावी सईदशाहीन (2, ईरान)

25) मेंस सुपर-हेवीवेट (+91किग्रा)

जालोलोव बाखोदिर (1, उज़्बेकिस्तान) बनाम लात्यपोव दानिस (बहरीन)

26) मेंस सुपर-हेवीवेट (+91किग्रा)

डैवी ओटगोंबयान (मंगोलिया) बनाम सतीश कुमार (4, भारत)

27) मेंस सुपर-हेवीवेट (+91किग्रा)

हुनी ज्यूतिस (3, ऑस्ट्रेलिया) बनाम माऊ ल्यूला (न्यूज़ीलैंड)

28) मेंस सुपर-हेवीवेट (+91किग्रा)

ऐहेमैती माईमैती (चीन) बनाम कुन्बाबायेव कामश्येबेक (2, कज़ाकिस्तान)

अम्मान में बॉक्सर कैसे करेंगे क्वालिफाई:

जॉर्डन में टोक्यो ओलंपिक के लिए कुछ 63 बर्थ/स्थान हैं - पुरुषों के लिए 41 और महिलाओं के लिए 22

पुरुषों की लाइट-हेवीवेट और हेवीवेट श्रेणियों और महिलाओं के फेदरवेट से लेकर मिडिलवेट श्रेणियों में, सेमीफाइनल तक पहुंचने वाले सभी मुक्केबाज़ टोक्यो के लिए क्वालिफाई कर जाएंगे। पुरुषों के वेल्टरवेट से लेकर लाइट-हेवीवेट श्रेणियों में एक अतिरिक्त स्थान के लिए बॉक्स-ऑफ़ होगा। पुरुषों के फ्लाईवेट से लेकर लाइटवेट कैटेगरी और महिलाओं के फ्लाईवेट वर्ग में दो अतिरिक्त स्थानों के लिए बॉक्स-ऑफ होंगे।

मुक्केबाज़ों के पास मई में पेरिस में होने वाले वर्ल्ड क्वालिफाइंग इवेंट में टोक्यो 2020 के लिए क्वालिफाई करने का एक और मौका होगा।

‘Road To Tokyo 2020’ के हर एक एक्शन और रोमांचक मुकाबलों के लिए हमारे ओलंपिक चैनल और लाइव स्ट्रीम से जुड़े रहें...

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!