बॉक्सिंग ओलंपिक क्वालिफिकेशन - अम्मान | आठवां दिन - लाइव ब्लॉग

एशिया और ओशिनिया क्वालिफायर्स के आठवें दिन के हर एक मुक़ाबले का लाइव अपडेट, वीडियो हाइलाइट्स, और प्रतिक्रियाएं। ओलंपिक चैनल आपके लिए ‘रोड टू टोक्यो 2020’ से संबंधित सभी एक्शन लेकर आ रहा है।

नमस्कार! आप सभी का जॉर्डन के अम्मान में चल रहे एशिया/ओशिनिया ओलंपिक बॉक्सिंग क्वालिफिकेशन टूर्नामेंट के आठवें दिन स्वागत है।

आप इस टूर्नामेंट का लाइव टेलीकास्ट यहीं ओलंपिक चैनल पर देख सकते हैं। इसके आलावा पहली बार खासतौर पर आपके लिए हिंदी में बॉक्सिंग की कमेंट्री भी यहां उपलब्ध है।

लाइव ब्लॉग – आठवां दिन – मंगलवार, 10 मार्च

नए अपडेट हासिल करने के लिए कृपया पेज रिफ्रेश करें... सभी समय भारतीय समयानुसार (IST)

24:02 - हम लेते हैं आपसे विदा, कल फिर एकबार फाइनल मुकाबलों के साथ होंगे हाज़िर। शुभा रात्रि!

24:01 - हुनी जस्टिस (3, ऑस्ट्रेलिया) बनाम कुंकाबायेव कैमशाईबेक (2, कज़ाकिस्तान) - मेंस सुपर-हेवीवेट (+91किग्रा)

मेंस सुपर-हेवीवेट के इस बॉक्स-ऑफ मुकाबले का नतीज़ा पहले घोषित किया जा चुका है। कज़ाकिस्तान के मुक्केबाज़ मेडिकल के चलते यह मुकाबला नहीं लड़ेंगे। जिसके तहत ऑस्ट्रेलिया के हुनी जस्टिस सीधे अगले मुकाबले में पहुंच गए हैं।

23:43 - जालोलोव बाखोदिर (1, उज़्बेकिस्तान) बनाम सतीश कुमार (4, भारत) - मेंस सुपर-हेवीवेट (69-75किग्रा)

मेंस सुपर-हेवीवेट का यह मुकाबला भारत के चौथी वरीयता प्राप्त सतीश कुमार और उज़्बेकिस्तान की पहली वरीयता प्राप्त बाखोदिन के बीच शुरू हुआ। पहले राउंड में ऑर्थोडॉक्स बॉक्सर जालोलोव ने बढ़त बना ली। 

दूसरे राउंड में सतीश ने कुछ अच्छे और सकीक पंच लगाते हुए शानदार वापसी की। हालांकि उनके प्रयासों के बावजूद जोलोलोव इस बार भी बेहतर रहे। जजों ने फिर फैसला उज़्बेकिस्तान के मुक्केबाज़ के पक्ष में सुनाया।

तीसरे राउंड में भी जालोलोव ने बढ़ बनाए रखी और अपने प्रतिद्वंदी आशीष को वापसी का कोई मौका नहीं दिया। जजों एक एक पक्षीय निर्णय 5-0 से जालोलोव के पक्ष में सुनाया। वह अब कल अपना दूसरा बॉक्स ऑफ ऑस्ट्रेलिया के जस्टिस हुनी के साथ लड़ेंगे।

23:26 - चेन डैक्सिंग (चीन) बनाम औकूसो पाउलो (ऑस्ट्रेलिया) - मेंस लाइट-हेवीवेट (75-81किग्रा)

मेंड हेवीवेट का यह मुकाबला चीन के डैक्सिंग और ऑस्ट्रेलिया के पाउलो के बीच शुरू हुआ। तीनो राउंड में दोनों ही मुक्केबाज़ों ने एक-दूसरे पर अच्छे पंच थ्रो किए। ऑस्ट्रेलिया औकूसो के पंच तीनों ही राउंड में ज्यादा कनेक्ट हुए। जजों 5-0 से एक पक्षीय निर्णय ऑस्ट्रेलिया के मुक्केबाज़ के हक में सुनाया।

23:09 - नुर्दोलेतोव बेकज़ाद (1, कज़ाकिस्तान) बनाम अल्हिंदवानी ओदाई रियाद अदेल (जॉर्डन) - मेंस लाइट-हेवीवेट (75-81किग्रा)

मेंस लाइट हेवीवेट में यह मुकाबला जॉर्डन के ओदाई रियाद और कज़ाकिस्तान के पहली वरीयता प्राप्त मुक्केबाज़ बेकज़ाद के बीच शुरू हुआ। रेड कॉर्नर पर काबिज़ वर्ल्ड चैंपियन मुक्केबाज़ बेकज़ाद ने तीनों ही राउंड में बढ़त बनाए रखी। जजों ने 5-0 से एक पक्षीय निर्णय बेकज़ाद के पक्ष में सुनाया।

22:52 - अमानकुल अबिलख़ान (कज़ाकिस्तान) बनाम तोहेटा एर्बिएक टंगलैथिहन (चीन) - मेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

मेंस मिडिलवेट का यह मुकाबला चीन के तोहेटा और कज़ाकिस्तान के अमानकुल अबिलख़ान के बीच शुरू हुआ। दोनों ही मुक्केबाज़ तीनों राउंड में एक-दूसरे पर आक्रामक नज़र आए। रेड कॉर्नर पर काबिज़ कज़ाकिस्तान के मुक्केबाज़ अमानकुल तीसरे राउंड में कुछ सटीक पंच लगाने में सफल रहे। यह मुकाबला बेहद कड़ा और करीबी रहा। दोनों ही खेमों से जमकर पंच थ्रो किए गए। जजों ने 3-2 के स्प्लिट निर्णय से कज़ाकिस्तान के मुक्केबाज़ को विजेता घोषित किया।

22:35 - मार्सिअल यूमिर (1, फिलीपींस) बनाम आशीष कुमार (भारत) - मेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

मेंस मिडिलवेट के इस सेमीफाइनल मुकाबले के लिए भारत के आशीष कुमार और फिलीपींस की शीर्ष वरीयता प्राप्त यूमिर मार्सिअल रिंग में हैं। ब्लू कॉर्नर में काबिज़ आशीष क्वार्टर-फाइनल में इंडोनेशिया के मिखाइल रॉबर्ड मुस्किता को हराकर राउंड ऑफ-8 में पहुंचे हैं।

पहला राउंड: रेड कॉर्नर काबिज़ मार्सिअल ने वीव करते हुए अच्छे बॉडी पंच लगाए। आशीष ने कुछ अच्छे पंच अपने खेमे से जरूर निकाले लेकिन महज़ एक-दो पंच ही कनेक्ट हो सके। जजों ने फैसला फिलीपींस के मुक्केबाज़ के हक में सुनाया।

दूसरा राउंड: इस राउंड में मार्सिअल काफी आक्रामक और तेज़ रहे। वीव और डक करते हुए उन्होंने जो पंच लगाए वह काफी कनेक्ट हुए। इस बार भी मार्सिअल बढ़त बनाने में कामयाब रहे। जजों ने फिर एक बार फैसला फिलीपींस के मुक्केबाज़ के पक्ष में सुनाया।

तीसरा राउंड: दोनों ही मुक्केबाज़ इस राउंड में आक्रामक नज़र आए। फिलीपींस के मुक्केबाज़ ने अच्छे और कई कॉम्बिनेशन पंच लगाए। आशीष ने एक तगड़ा पंच लगाया जिसकी वजह से रेफरी ने फिलीपींस के मुक्केबाज़ के लिए आठ अंकों की काउंटिंग की। हालांकि आशीष उतने पंच नहीं लगा पाए कि पिछले दोनों राउंड के स्कोर का पीछा कर पाते। जजों ने (4-1) (29-26, 30-27, 30-27, 28-29, 29-28) का स्प्लिट निर्णय चीन के यूमिर मार्सिअल के हक में सुनाया।

22:19 - गुएन वैन डोंग (वियतनाम) बनाम अल्वादी मोहम्मद अब्देलाज़ीज़ मोहम्म (जॉर्डन) - मेंस फेदरवेट (52-57किग्रा)

मेंस फेदरवेट का यह मुकाबला जॉर्डन के अल्वादी और वियतनाम के वैन डोंग गुएन के बीच शुरू हुआ। तीनों ही राउंड में दोनों मुक्केबाज़ काफी आक्रामक नज़र आए। अल्वादी का फुट वर्क काफी अच्छा रहा और उन्होंने लेफ्ट पंच काफी अच्छे कनेक्ट किए। वैन डोंग ने लगातार बेहतरीन काउंटर अटैक किए लेकिन हर बार अल्वादी उनपर थोड़ा हावी नज़र आए। जजों ने 3-2 से स्प्लिट निर्णय अल्वादी के हक में सुनाया।

22:04 - मिर्ज़ाखालिलोव मिराज़िज़्बेक (1, उज़्बेकिस्तान) बनाम टेमिर्ज़ानोव सेरिक (कज़ाकिस्तान) - मेंस फेदरवेट (52-57किग्रा)

मेंस फेदरवेट का यह मुकाबला कज़ाकिस्तान के सेरिक टेमिर्ज़ानोव और पहली वरीयता प्राप्त मिराज़िज़्बेक मिर्ज़ाखालिलोव के बीच शुरू हुआ। रेड कॉर्नर पर काबिज़ वर्ल्ड चैंपियन मुक्केबाज़ मिराज़िज़्बेक पहले राउंड थोड़ा डिफेंसिव नज़र आए। जिसका फायदा उठाते हुए कज़ाकिस्तान के सेरिक कुछ बेहतरीन पंच कनेक्ट करने में सफल रहे। दूसरे और तीसरे राउंड में उज़्बेकिस्तान के मुक्केबाज़ पूरी तरह से आक्रामक रहे और जजों ने 5-0 से एक पक्षीय निर्णय मिराज़िज़्बेक के पक्ष में सुनाया।

21:48 - रयाबेट्स नादेज़्दा (कज़ाकिस्तान) बनाम पार्कर कैटलिन (2, ऑस्ट्रेलिया) - वुमेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

वुमेंस मिडिलवेट का यह मुकाबला कज़ाकिस्तान की नादेज़्दा रयाबेट्स और ऑस्ट्रेलिया की दूसरी वरीयता प्राप्त कैटलिन पार्कर के बीच शुरू हुआ। ब्लू कॉर्नर पर काबिज़ ऑस्ट्रेलिया की मुक्केबाज़ ने अपनी लम्बाई और पहुंच का फायदा उठाते हुए अच्छे पंच कनेक्ट किए। वहीं, रायबेट्स ने अपने तगड़े पंच लगाए लेकिन वह नाकाफी रहे। तीनो ही राउंड में कज़ाकिस्तान की रायबेट्स पीछे रहीं। जजो 4-1 का स्प्लिट निर्णय ऑस्ट्रेलिया की कैटलिन पार्कर के पक्ष में सुनाया।

21:32 - ली किन (1, चीन) बनाम पूजा रानी (4, भारत) - वुमेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

वुमेंस मिडिलवेट के इस सेमीफाइनल मुकाबले के लिए भारत की चौथी वरीयता प्राप्त पूजा रानी और चीन की पहली वरीयता प्राप्त ली किन रिंग में हैं। आपको बता दें, भारत की ओर से 2020 ओलंपिक का टिकट हासिल करने वाली पूजा रानी पहली मुक्केबाज़ बनी थीं।

पहला राउंड: चीन की ली किन ने अपनी लम्बाई और पहुंच का फायदा उठाते हुए आसानी से अच्छे पंच कनेक्ट किए। पूजा रानी लगातार संघर्ष करती नज़र आईं। जजों ने पहले राउंड का फैसला 5-0 से चीन की किन ली के पक्ष में सुनाया।

दूसरा राउंड: कोच के दिए गए दिशा-निर्देश के बाद पूजा ने शुरुआत काफी अच्छी की लेकिन एक ही पंच कनेक्ट कर पाईं। किन ली एक बार फिर अपनी पहुंच के ज़रिए अच्छे पंच कनेक्ट करने में सफल रहीं। जजों ने 5-0 से निर्णय चीन की मुक्केबाज़ के पक्ष में सुनाया।

तीसरा राउंड: दो राउंड में पीछे रहने के बाद पूजा ने फिर एक बार आक्रामक शुरुआत की। अपने भरसक प्रयासों के बावजूद वह महज़ एक या दो पंच ही कनेक्ट कर पाईं। हालांकि इस राउंड में दोनों ही खेमों से सबसे अधिक पंच थ्रो होते हुए दिखाई दिए। जजों ने (5-0) (30-27, 30-27, 30-27, 30-27, 30-27) से unanimous decision (एक पक्षीय निर्णय) चीन की किन ली के पक्ष में सुनाया।

आपको बता दें, पूजा रानी टोक्यो 2020 के लिए पहले ही टिकट हासिल कर चुकी हैं। इस हार से वह महज़ मेडल की दौड़ से बाहर हो गई हैं।

21:14 - वू शीह-यी (3, चीनी ताइपे) बनाम बाथ सिमरनजीत कौर (भारत) - वुमेंस लाइटवेट (57-60किग्रा)

वुमेंस लाइटवेट के इस मुकाबले के लिए भारत की सिमरनजीत कौर और चीनी ताइपे की तीसरी वरीयता प्राप्त शीह-यी वू रिंग में हैं। ब्लू कॉर्नर में सिमरनजीत कौर हैं और रेड कॉर्नर में शीह-यी वू।

पहला राउंड: सिमरनजीत ने शुरुआत काफी अच्छी की। उन्होंने लेफ्ट और राइट हुक का एक अच्छा कॉम्बिनेशन लगाया। उनकी प्रतिद्वंदी के पंच सिमरनजीत से ज्यादा अच्छे कनेक्ट हुए। नतीजतन जजों ने 4-1 से स्प्लिट निर्णय शीह-यी वू के पक्ष में दिया।

दूसरा राउंड: पहले राउंड में पीछे रहने की वजह से सिमरनजीत ने ताबड़तोड़ बहुत ज्यादा पंच थ्रो किए। कुछ पंच काफी सटीक लगे, जिसने उनकी प्रतिद्वंदी को थोड़ा परेशान भी किया। जजों ने 3-2 से स्प्लिट निर्णय भारत की सिमरनजीत कौर के पक्ष में सुनाया।

तीसरा राउंड: आखिरी के तीन मिनट की शुरुआत में घंटी बजते ही सिमरनजीत ने एक बेहतरीन अपरकट लगाया। उसके बाद उन्होंने अपना पूरा दम लगाते हुए कई पंच थ्रो किए जो शानदार और सटीक लगे। जजों ने (4-1) (29-28, 29-28, 29-28, 29-28, 27-30) का स्प्लिट निर्णय भारत की सिमरनजीत कौर के पक्ष में सुनाया।

इसी के साथ एशिया/ओशिनिया बॉक्सिंग क्वालिफ़ायर्स के फाइनल में पहुंचने वाली सिमरनजीत कौर पहली भारतीय मुक्केबाज़ बन गई हैं।

20:59 - ओह योंजी (दक्षिण कोरिया) बनाम सिसोंदी सुदपोर्न (थाईलैंड) - वुमेंस लाइटवेट (57-60किग्रा)

वुमेंस लाइटवेट का यह मुकाबला थाईलैंड की सिसोंदी सुदपोर्न और दक्षिण कोरिया की योंजी ओह के बीच शुरू हुआ। रेड कॉर्नर पर काबीज़ कोरिया की मुक्केबाज़ योंजी तीनों ही राउंड में आक्रामक और तकनीकि तौर पर उम्दा नज़र आईं। जजों ने 5-0 से एक पक्षीय निर्णय ओह योंजी के पक्ष में सुनाया।

20:42 - चांग युआन (चीन) बनाम मैंगते मैरी कॉम (2, भारत) - वुमेंस फ्लाईवेट (48-51किग्रा)

शाम के सत्र का यह दूसरा सेमीफाइनल मुकाबला है। वुमेंस फ्लाईवेट के इस मुकाबले के लिए चीन की युआन चांग और भारत की दूसरी वरीयता प्राप्त मैरी कॉम रिंग में हैं। 

पहला राउंड: ब्लू कॉर्नर में काबिज़ मैरी कॉम और उनकी प्रतिद्वंदी ने सूझ-बूझ के साथ धीमी शुरुआत की। चीन की चांग कुछ अच्छे पंच कनेक्ट करने में सफल रहीं। हालांकि मैरी अच्छे पंच नहीं लगा पाईं। जजों ने 4-1 का स्प्लिट निर्णय युआन चांग के पक्ष में सुनाया।

दूसरा राउंड: पहले राउंड में पिछड़ने के बाद मैरी ने आक्रामक शुरुआत की। वहीं, उनकी प्रतिद्वंदी मुक्केबाज़ काफी डिफेंसिव खेलती नज़र आईं। चांग अपनी रणनीति के मुताबिक बैक पैडलिंग कर पूरे रिंग में घूमती रहीं। जजों ने फिर एक बार 4-1 का स्प्लिट निर्णय चीन की मुक्केबाज़ के पक्ष में सुनाया।

तीसरा राउंड: एशियन गेम्स की गोल्ड मेडल विजेता चांग ने फिर एक बार डिफेंसिव शुरुआत की। मैरी कॉम पूरी पंच लगाने की कोशिश करती रहीं लेकिन चीन की मुक्केबाज़ साइड और बैक पैडलिंग करते हुए इस राउंड में भी हर प्रहार से बचती रहीं। जजों ने (3-2) (30-27, 29-28, 28-29, 28-29, 30-27) के स्प्लिट निर्णय से चीन की मुक्केबाज़ को विजेता करार दिया। 

आपको बता दें, मैरी कॉम पहले ही 2020 ओलंपिक का टिकट हासिल कर चुकी हैं। इसलिए भारतीय दर्शकों को निराश होने की जरूरत नहीं है। आप टोक्यो 2020 में उन्हें खेलते हुए ज़रूर देखेंगे।

20:30 - हुआंग सियाओ-वेन (1, चीनी ताइपे) बनाम नमिकी सुकिमी (4, जापान) - वुमेंस फ्लाईवेट (48-51किग्रा)

शाम के सत्र के पहले सेमीफाइनल मुकाबले के लिए रिंग तैयार है। वूमेंस फ्लाईवेट में जापान की चौथी वरीयता प्राप्त जापान की नमिकी सुकिमी और चीनी ताइपे की पहली वरीयता प्राप्त सियाओ-वेन हुआंग रिंग में हैं। जापान की मुक्केबाज़ ने शानदार प्रदर्शन किया और जजों ने फैसला उनके पक्ष में सुनाया। बुधवार को वह फाइनल में मुकाबला करेंगी।

18:04 - सचिन कुमार (भारत) बनाम गुएन मान्ह कोंग (वियतनाम) - मेंस लाइट-हेवीवेट (75-81किग्रा)

शाम के सत्र का यह आखिरी मुकाबला है। मेंस लाइट-हेवीवेट के दूसरे बॉक्स-ऑफ बाउट के लिए वियतनाम के गुएन मान्ह कोंग और भारत के सचिन कुमार रिंग में हैं। 

पहला राउंड: रेड कॉर्नर पर काबिज़ साउथपॉ बॉक्सर सचिन कुमार ने अपनी रणनीति के मुताबिक अच्छी शुरुआत की। उन्होंने पहले दो शानदार कॉम्बिनेशन पंच लगाए। उसके बाद उनके एक राइट जैब ने कोंग मान्ह को हिलाकर रख दिया। जजों ने 4-1 से स्प्लिट निर्णय सचिन कुमार के पक्ष में सुनाया।

दूसरा राउंड: दोनों ही मुक्केबाज़ों ने इस राउंड में अच्छी और आक्रामक शुरुआत की। सचिन एक अच्छा राइट हुक लगाने में कामयाब रहे। इसके बाद उन्होंने एक अपरकट लगाने की कोशिश की लेकिन वह लगा नहीं। यह राउंड काफी करीबी रहा। हालांकि फिर भी सचिन का दबदबा बरकरार रहा। जजों ने एक पक्षीय निर्णय 5-0 से सचिन के पक्ष में सुनाया। 

तीसरा राउंड: ब्लू कॉर्नर के वियतनाम के मुक्केबाज़ ने अच्छी शुरुआत की लेकिन थकान के कारण दोनों ही मुक्केबाज़ क्लिंच में जाते हुए नज़र आए। सचिन इस राउंड में भी पंच कनेक्ट करने के बाद साइड होकर बैक पैडलिंग करते नज़र आए। यह मुकाबला काफी कांटे का रहा। जजों ने स्प्लिट निर्णय (4-1) (30-27, 29-28, 28-29, 30-27, 29-28) से भारत के सचिन कुमार के हक में सुनाया।

आपको बता दें, 2020 ओलंपिक टिकट हासिल करने से अब सचिन महज़ एक जीत दूर हैं। कल यानी बुधवार को उनका दूसरा बॉक्स-ऑफ मुकाबला तज़ाकिस्तान के शाब्बोस नेग्मातुल्लोव के साथ होगा।

17:49 - नेग्मातुल्लोव शाब्बोस (तज़ाकिस्तान) बनाम योमखोट जैक्कपोंग (थाईलैंड) - मेंस लाइट-हेवीवेट (75-81किग्रा)

आज के दिन के पहले बॉक्स-ऑफ मुकाबले के लिए थाईलैंड के जैक्कपोंग और तज़ाकिस्तान के शाब्बोस रिंग में हैं। रेड कॉर्नर पर काबिज़ तज़ाकिस्तान के मुक्केबाज़ ने तीनों ही राउंड में बहुत सधा हुआ गेम खेला। थाईलैंड के मुक्केबाज़ ने तीसरे राउंड में कुछ अच्छे प्रयास जरूर किए लेकिन अच्छे पंच नहीं कनेक्ट कर पाए। जजों ने एक पक्षीय निर्णय 5-0 से शाब्बोस के पक्ष में सुनाया।

17:33 - तुर्सुनोव संजार (3, उज़्बेकिस्तान) बनाम यिका डेविड (2, न्यूज़ीलैंड) - मेंस हेवीवेट (81-91किग्रा)

मेंस हेवीवेट का यह मुकाबला उज़्बेकिस्तान के तीसरी वरीयता प्राप्त तुर्सुनोव संजार और न्यूज़ीलैंड के दूसरी वरीयता प्राप्त डेविड यिका के बीच शुरू हुआ। ब्लू कॉर्नर पर काबिज़ दो बार के कॉमनवेल्थ गेम्स के गोल्ड मेडल विजेता ने अपनी लम्बाई और पहुंच का फायदा उठाते हुए अच्छी शुरुआत की। पहले राउंड में जहां तुर्सुनोव आक्रामक रहे तो वहीं दूसरे और तीसरे राउंड में न्यूज़ीलैंड के डेविड अपने प्रतिद्वंदी मुक्केबाज़ पर हावी रहे। उन्होंने अच्छे राइट स्ट्रेट पंच लगाए। जजों ने 5-0 से एक पक्षीय निर्णय डेविड यिका के पक्ष में सुनाया।

17:16 - लेविट वैज़िली (1, कज़ाकिस्तान) बनाम एशाश हुसैन एशाश हुसैन (4, जॉर्डन) - मेंस हेवीवेट (81-91किग्रा)

मेंस हेवीवेट का यह मुकाबला जॉर्डन के चौथी वरीयता प्राप्त एशाश हुसैन और कज़ाकिस्तान के पहली वरीयता प्राप्त वैज़िली लेविट के बीच शुरू हुआ। तीनों ही राउंड में रेड कॉर्नर पर काबिज़ कज़ाकिस्तान के वैज़िली लैविट ने अपनी लम्बाई और पहुंच का फायदा उठाते हुए अच्छे पंच कनेक्ट करने में सफल रहे। हालांकि जॉर्डन के मुक्केबाज़ ने यह मुकाबला काफी कांटे का कर दिया। उन्होंने आक्रामक रुख अपनाते हुए तगड़े और अच्छे पंच थ्रो किए। जजों ने 4-1 से स्प्लिट निर्णय लेविट वैज़िली के पक्ष में सुनाया।

16:59 - कृष्ण विकास (भारत) बनाम ज़ुस्सूपोव अब्लेख़ान (2, कज़ाकिस्तान) - मेंस वेल्टरवेट (63-69किग्रा)

मेंस वेल्टरवेट के इस सेमीफाइनल मुकाबले के लिए भारत के सबसे अनुभवी पुरुष मुक्केबाज़ विकास कृष्ण और कज़ाकिस्तान के दूसरी वरीयता प्राप्त अब्लेखान ज़ुस्सूपोव रिंग में हैं।

पहला राउंड: रेड कॉर्नर पर काबिज़ विकास एक साउथपॉ बॉक्सर (बाएं हाथ के मुक्केबाज़) हैं। दोनों ही मुक्केबाज़ों के बीच आक्रामक शुरुआत की लेकिन विकास के पंच बहुत ही शानदार कनेक्ट हुए। जजों ने 4-1 का स्प्लिट निर्णय विकास के पक्ष में सुनाया।

दूसरा राउंड: घंटी बजते ही इस राउंड में विकास ने एक तगड़े राइट हुक के साथ शुरुआत की। तभी दोनों मुक्केबाज़ों के सिर टकराए और विकास के माथे पर एक कट लग गया। जिसके बाद उन्हें मेडिकल के लिए न्यूट्रल कॉर्नर में भेजा गया। रेफरी ने विकास को मुकाबला लड़ने के काबिल समझते हुए फिर मुकाबला शुरु करने का आदेश दिया।

आमने-सामने आते ही विकास ने 1,2 (लेफ्ट और राइट) पंचों का अच्छा कॉम्बिनेशन लगाया। ज़ुस्सूपोव ने अच्छी टक्कर दी लेकिन जजों ने 3-2 से स्प्लिट निर्णय फिर वकास के पक्ष में सुनाया।

तीसरा राउंड: चोट से थोड़ा असहज महसूस करने के बावजूद विकास अपनी रणनीति के मुताबिक ही आगे बढ़े। कज़ाकिस्तान के मुक्केबाज़ के पंचों के खिलाफ अपना गार्ड मज़बूत रखते हुए विकास ने इस राउंड में भी अच्छे पंच कनेक्ट किए। कज़ाकिस्तान के मुक्केबाज़ ने कुछ अच्छे पंच जरूर थ्रो किए लेकिन वह सही से कनेक्ट नहीं हुए। जजों ने (3-2) (29-28, 29-28, 28-29, 28-29, 29-28) का स्प्लिट निर्णय भारत के विकास कृष्ण के पक्ष में सुनाया। इसी के साथ विकास ओलंपिक बॉक्सिंग क्वालिफ़ायर्स के फाइनल के लिए क्वालिफ़ाई करने वाले भारत के पहले मुक्केबाज़ बन गए हैं। 

*कल यानी बुधवार को उनका मुकाबला जॉर्डन के चौथी वरीयता प्राप्त एशाश हुसैन के साथ होगा। मेज़बान देश के दर्शकों के बीच होने वाला यह मुकाबला काफी दिलचस्प और रोमांचक होगा।   *

16:43 - बातुरोव बोबो-उस्मोन (1, उज़्बेकिस्तान) बनाम एशाश ज़ेयाद एशाश हुसैन (4, जॉर्डन) - मेंस वेल्टरवेट (63-69किग्रा)

मेंस वेल्टरवेट का यह मुकाबला जॉर्डन के चौथी वरीयता प्राप्त एशाश हुसैन और उज़्बेकिस्तान के पहली वरीयता प्राप्त बोबो-उस्मान के बीच शुरू हुआ। ब्लू कॉर्नर पर काबिज़ जॉर्डन के मुक्केबाज़ ने अच्छी शुरुआत की और तीनों ही राउंड में अपने से अधिक सीडिंग हासिल करने वाले मुक्केबाज़ को कड़ी टक्कर दी। जजों ने 3-2 से स्प्लिट निर्णय एशाश हुसैन के पक्ष में सुनाया।

16:27 - बातर्सुख चिंज़ोरिग (3, मंगोलिया) बनाम अब्दुरिमोव एलर (उज़्बेकिस्तान) - मेंस लाइटवेट (57-63किग्रा)

मेंस लाइटवेट का यह सेमीफाइनल मुकाबला उज़्बेकिस्तान के एलर अब्दुरिमोव और मंगोलिया के तीसरी वरीयता प्राप्त बातर्सुख के बीच शुरू हुआ। पहले दो राउंड में ब्लू कॉर्नर पर काबिज़ उज्बेकिस्तान के मुक्केबाज़ ने अच्छी बढ़त बना ली। तीसरे राउंड में मंगोलिया के बॉक्सर ने अच्छी वापसी की लेकिन पहले दो राउंड में पीछे रहने का खामियाजा उन्हें परिणाम के रूप में मिला। जजों ने इस कड़े मुकाबले का विजेता 3-2 के स्प्लिट निर्णय से एलर अब्दुरिमोव के पक्ष में सुनाया।

16:10 - अल्काबेह ओबाद मोहम्मद मुस्तफा (जॉर्डन) बनाम सफल्लीन ज़ाकिर (4, कज़ाकिस्तान) - मेंस लाइटवेट (57-63किग्रा)

मेंस लाइटवेट के इस सेमीफाइनल मुकाबले के लिए जॉर्डन के मुक्केबाज़ अल्कास्बेह और तज़ाकिस्तान के चौथी वरीयता प्राप्त ज़ाकिर रिंग में हैं। 

दोनों ही मुक्केबाज़ों ने आक्रामक शुरुआत की और तीनों ही राउंड दोनों मुक्केबाज़ों ने एक-दूसरे को कड़ी टक्कर दी। पहले राउंड के शुरू होते ही रेड कॉर्नर पर काबिज़ जॉर्डन के मुक्केबाज़ ने एक तगड़ा लेफ्ट जैब लगाया। हालांकि उनके प्रतिद्वंदी मुक्केबाज़ ने दूसरे राउंड में ही शानदार वापसी की। 

तीसरा राउंड तो लाजवाब रहा। जितना एक्शन भरपूर रहा उतना ही जॉर्डन के मुक्केबाज़ के समर्थन में मेज़बान देश के दर्शकों ने भी उत्साहवर्धन किया। हालांकि अंतिम के एक मिनट में कज़ाकिस्तान के ज़ाकिर तगड़े कॉम्बिनेशन पंच लगाने में कामयाब रहे। जजों ने एक इस कांटे की टक्कर के मुकाबले का स्प्लिट निर्णय 3-2 से कज़ाकिस्तान के मुक्केबाज़ के पक्ष में सुनाया।

15:55 - पैनमोट थिटिसन (थाईलैंड) बनाम ज़ोरोव शाख़ोबिदिन (2, उज़्बेकिस्तान) - मेंस फ्लाईवेट (48-52किग्रा)

मेंस फ्लाईवेट के इस सेमीफाइनल मुकाबले के लिए थाईलैंड के थिटिसन पैनमोट और उज़्बेकिस्तान के दूसरी वरीयता प्राप्त शाख़ोबिदिन ज़ोरोव रिंग में हैं।

रेड कॉर्नर पर काबिज़ थाईलैंड के मुक्केबाज़ ने पहले राउंड से ही अच्छी शुरुआत की। अटैक पर काउंटर करने की अपनी योजना के मुताबिक ही उन्होंने अपना खेल जारी रखा। पहले और दूसरे राउंड में पीछे रहने के बाद पैनमोट ने तीसरे राउंड में शानदार प्रदर्शन किया। जजों ने 4-1 से स्प्लिट निर्णय थाईलैंड के इस मुक्केबाज़ के पक्ष में सुनाया।

एशिया/ओशिनिया ओलंपिक बॉक्सिंग क्वालिफ़ायर्स के सेमीफाइनल मुकाबले में निराशा हाथ लगने पर अमित पंघल बोले: “मैंने जीतने की रणनीति के साथ रिंग में प्रवेश किया। मैं पहले दो राउंड में पीछे हो गया लेकिन तीसरे राउंड में वापस की, लेकिन क्योंकि मैं शुरुआती दो मुकाबले हार गया था इसलिए अपने किए गए प्रयासों के बावजूद मैं हार गया।

जब अमित ने उनके प्रतिद्वंदी के द्वारा स्टांस बदलने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, “यह मुझे बहुत परेशान नहीं कर सका, क्योंकि मैंने दोनों स्टांस के लिए अभ्यास किया था। मेरे पास दोनों रुखों के खिलाफ लड़ने की क्षमता है: साउथपॉ और ऑर्थोडॉक्स (बाएं हाथ और दाएं हाथ की बॉक्सिंग)। इसने यहां मेरी काफी मदद की।”

टोक्यो 2020 पर बोले, "मैं बेहतर बनने की कोशिश करूंगा और अपनी रणनीति को हर मुक्केबाज़ के लिए बेहतर करूंगा। मैं मुकाबलों के वीडियो देखकर अपने आप को उपयुक्त रूप से तैयार करने की कोशिश करूंगा।”

15:39 - अमित (1, भारत) बनाम हू जियांगउन (चीन) - मेंस फ्लाईवेट (48-52किग्रा)

मेंस फ्लाईवेट का यह मुकाबला चीन के जियांगउन हू और भारत के पहली वरीयता प्राप्त अमित के बीच शुरू हुआ। रेड कॉर्नर पर काबिज़ अमित पंघल का अभी तक का सफर बेहद शानदार रहा है।

पहला राउंड: अमित पंघल ने शुरुआत आक्रामक की लेकिन चीन के मुक्केबाज़ के पंच पहले राउंड में अच्छे कनेक्ट हुए। जजों ने इस राउंड का फैसला चीन के मुक्केबाज़ के पक्ष में सुनाया।

दूसरा राउंड: पहले राउंड में पीछे रहने के बाद अमित ने काफी आक्रामक शुरुआत की। उन्होंने अच्छे पंच थ्रो किए लेकिन उनके प्रतिद्वंदी मुक्केबाज़ के गार्ड काफी मज़बूत रहे और अमित स्कोरिंग पंच लगाने में नाकाम रहे।

तीसरा राउंड: दोनों ही मुक्केबाज़ों ने आखिरी राउंड में आर या पार वाली शुरुआत की। दोनों ही खेमों से अच्छे पंच निकलते हुए दिखाई दिए लेकिन इस राउंड में क्लिंचिंग थोड़ी ज्यादा हुई। अमित का एक राइट अपरकट काफी उम्दा रहा। वहीं, चीन के जियांगउन के पंच सटीक और ज्यादा अच्छे रहे। जजों ने (3-2) (27-30, 30-27, 29-28, 29-28, 27-30) से स्प्लिट निर्णय चीन के मुक्केबाज़ के पक्ष में सुनाया।

बॉक्सिंग क्वालिफ़ायर्स का सेमीफाइनल मुकाबला हारने के बाद लवलीना: "मैंने अपनी पूरी कोशिश की, मैंने वही किया जो मेरे कोचों ने मुझे निर्देश दिया। भविष्य में मैं इस पर काम करूंगी, यह मुकाबला हमारी योजना के अनुसार नहीं गया। मैं पहले ही टोक्यो 2020 के लिए टिकट हासिल कर चुकी हूं लेकिन मैं इस टूर्नामेट में गोल्ड हासिल करना चाहती थी। हालांकि ऐसा नहीं हुआ। निश्चित रूप से मैं ओलंपिक में पदक जीतने की पूरी कोशिश करूंगी।

15:21 - गू हांग (3, चीन) बनाम बोरगोहेन लवलीना (2, भारत) - वुमेंस वेल्टरवेट (64-69किग्रा)

वुमेंस वेल्टरवेट का यह सेमीफाइनल मुकाबला चीन की तीसरी वरीयता प्राप्त गू हांग और भारत की दूसरी वरीयता प्राप्त लवलीना बोरगोहेन के बीच शुरू हुआ। 

पहरा राउंड: ब्लू कॉर्नर पर काबिज़ भारत की लवलीना ने अपनी प्रतिद्वंदी मुक्केबाज़ के खिलाफ अच्छी शुरुआत की लेकिन यह नाकाफी रहा। चीन की बॉक्सर की स्ट्रैटजी काफी बेहतर रही और शुरुआती राउंड में स्प्लिट निर्णय से गू हांग ने बढ़त बना ली।

दूसरा राउंड: भारत का सेमीफाइनल का यह पहला बाउट होने के कारण सभी को बहुत उम्मीदें लवलीना से बनी हैं। हालांकि वह उस अपेक्षा के मुताबिक प्रदर्शन करने में असफल रहीं। चीनी ताइपे की मुक्केबाज़ के पंच लवलीना पर काफी अच्छे कनेक्ट हुए। जजों ने 5-0 से एक पक्षीय निर्णय गू हांग के पक्ष में सुनाया। 

तीसरा राउंड: पहले दो राउंड की तरह ही गू हांग के पंच तीसरे राउंड में भी सटीक लगे। उनकी तकनीक का बेहतर रही और उन्होंने लगातार लवलीना के अटैक पर काउंटर पंच करने की अपनी योजना पर चलना जारी रखा। जजों ने unanimous decision (एक पक्षीय निर्णय) (5-0) (29-28, 30-27, 30-27, 30-27 ,29-28) से चीन की मुक्केबाज़ के पक्ष में सुनाया।

15:08 - चेन नीन-चिन (1, चीनी ताइपे) बनाम मैनिकॉन बैसन (थाईलैंड) - वुमेंस वेल्टरवेट (64-69किग्रा)

वुमेंस वेल्टरवेट का यह मुकाबला थाईलैंड की बैसन मैनिकॉन और चीनी ताइपे की पहली वरीयता प्राप्त चेन नीन-चिन के बीच शुरू हुआ। रेड कॉर्नर पर काबिज़ चीनी ताइपे की मुक्केबाज़ नीन-चिन चेन ने थाईलैंड की बैसन मैनिकॉन के ऊपर पहले राउंड से ही दबदबा बनाकर रखा। अपनी रैंकिंग के अनुसार ही उन्होंने शानदार और उम्दा पंच थ्रो किए। जजों ने एक पक्षीय निर्णय (5-0) (30-26, 30-26, 30-27, 30-27, 30-27) से चीनी ताइपे की मुक्केबाज़ नीन-चिन चेन के पक्ष में सुनाया।

14:50 - निकोल्सन स्काई (3, ऑस्ट्रेलिया) बनाम लिन यू-टिंग (2, चीनी ताइपे) - वुमेंस फेदरवेट (54-57किग्रा)

वुमेंस फेदरवेट का दूसरा सेमीफाइनल मुकाबला ऑस्ट्रेलिया की तीसरी वयीयता प्राप्त स्काई निकोल्सन और चीनी ताइपे की दूसरी वरीयता प्राप्त यू-टिंग लिन के बीच शुरू हुआ। पहले ही राउंड से ब्लू कॉर्नर पर काबिज़ यू-टिंग ने 1,2 (लेफ्ट और राइट) के अच्छे कॉम्बिनेशन पंच लगाते हुए ऑस्ट्रेलिया की मुक्केबाज़ स्काई निकोल्सन को कोई भी मौका नहीं दिया। जजों ने unanimous decision (एक पक्षीय निर्णय) (5-0) (30-27, 30-27, 30-27, 30-27, 30-27) से चीनी ताइपे की मुक्केबाज़ यू-टिंग के पक्ष में सुनाया। इसी के साथ वह फाइनल के लिए क्वालिफाई करने वाली दूसरी मुक्केबाज़ बन गई हैं।

Japan's Irie Sena is through to the finals after defeating South Korea's Im Aeji
Japan's Irie Sena is through to the finals after defeating South Korea's Im AejiJapan's Irie Sena is through to the finals after defeating South Korea's Im Aeji

14:30 - आइरी सेना (जापान) बनाम इम एजी (दक्षिण कोरिया) - वुमेंस फेदरवेट (54-57किग्रा)

सुबह के सत्र का पहला सेमीफाइनल मुकाबला वुमेंस फेदरवेट में जापान की सेना आइरी और दक्षिण कोरिया की इम एजी के बीच शुरू हुआ। रेड कॉर्नर पर काबिज़ जापान की मुक्केबाज़ ने बेहतरीन और आक्रामक शुरुआत की। उन्होंने अपने स्टांस को बदलते हुए कभी ऑर्थोडॉक्स तो कभी साउथपॉ में प्रतिद्वंदी एजी इम पर अच्छे पंच कनेक्ट किए। जजों ने 3-2 के स्प्लिट निर्णय से जापान की सेना आइरी को विजेता घोषित किया। इसी के साथ वह बुधवार को होने वाले फाइनल के लिए क्वालिफ़ाई कर गई हैं।

14:20 - एशिया/ओशिनिया बॉक्सिंग क्वालिफ़ायर्स के हिंदी लाइव ब्लॉग के साथ एक बार फिर हम हाज़िर हैं। मुकाबलों के लिए रिंग पूरी तरह तैयार है... क्या आप भी एक्शन और रोमांच का मज़ा लेने के लिए तैयार हैं?

जॉर्डन के अम्मान के प्रिंस हमज़ाह हॉल में एशिया/ओशिनिया ओलंपिक बॉक्सिंग क्वालिफिकेशन (Asia/ Oceania Olympic Boxing Qualification) का आज आठवां दिन है। जहां सभी मुक्केबाज़ ग्रीष्मकालीन ओलंपिक खेलों में अपनी जगह पक्की करने के लिए 63 बर्थ/स्थानों (41 पुरुषों के लिए और 22 महिलाओं के लिए) में मुक़ाबला करेंगे।

पुरुष 8 भार वर्गों (फ्लाईवेट (52 किग्रा) से लेकर सुपर-हेवीवेट (+91 किग्रा) तक) में प्रतिस्पर्धा करेंगे, जबकि महिलाएं 5 भार वर्गों (फ्लाईवेट (51 किग्रा) से लेकर मिडिलवेट (75 किग्रा) तक) में मुकाबला करेंगी।

हमें आठवें दिन कुल 24 मुक़ाबले देखने को मिलेंगे – अम्मान में होने वाले आठवें दिन के मुकाबले दो सत्र में विभाजित किए गए हैं - सुबह का सत्र और शाम का सत्र, जो भारतीय समयानुसार 14:30 से शुरू होंगे। आज यानी मंगलवार को कुल 28 मुकाबले होंगे, सुबह के सत्र में कुल 14 और शाम के सत्र में 14 मुकाबले होंगे।

आप आठवें दिन के मुकाबलों का पूरा शेड्यूल नीचे देख सकते हैं, साथ ही यह भी जाने सकते हैं कि मुकाबले कब और कहां देखें? इसके अलावा सभी एक्शन, हाइलाइट्स और लाइव शो हमारे ओलंपिक चैनल पर यहीं देख सकते हैं।

आठवां दिन – सुबह का सत्र | भारतीय समयानुसार – 14:30

1) वुमेंस फेदरवेट (54-57किग्रा)

आइरी सेना (जापान) बनाम इम एजी (दक्षिण कोरिया)

2) वुमेंस फेदरवेट (54-57किग्रा)

निकोल्सन स्काई (3, ऑस्ट्रेलिया) बनाम लिन यू-टिंग (2 चीनी ताइपे)

3) वुमेंस वेल्टरवेट (64-69किग्रा)

चेन नीन-चिन (1, चीनी ताइपे) बनाम मैनिकॉन बैसन (थाईलैंड)

4) वुमेंस वेल्टरवेट (64-69किग्रा)

गू हांग (3, चीन) बनाम बोरगोहेन लवलीना (2, भारत)

5) मेंस फ्लाईवेट (48-52किग्रा)

अमित (1, भारत) बनाम हू जियांगउन (चीन)

6) मेंस फ्लाईवेट (48-52किग्रा)

पैनमोट थिटिसन (थाईलैंड) बनाम ज़ोरोव शाख़ोबिदिन (2, उज़्बेकिस्तान)

7) मेंस लाइटवेट (57-63किग्रा)

अल्काबेह ओबाद मोहम्मद मुस्तफा (जॉर्डन) बनाम सफल्लीन ज़ाकिर (4, कज़ाकिस्तान)

8) मेंस लाइटवेट (57-63किग्रा)

बातर्सुख चिंज़ोरिग (3, मंगोलिया) बनाम अब्दुरिमोव एलर (उज़्बेकिस्तान)

9) मेंस वेल्टरवेट (63-69किग्रा)

बातुरोव बोबो-उस्मोन (1, उज़्बेकिस्तान) बनाम एशाश ज़ेयाद एशाश हुसैन (4, जॉर्डन)

10) मेंस वेल्टरवेट (63-69किग्रा)

कृष्ण विकास (भारत) बनाम ज़ुस्सूपोव अब्लेख़ान (2, कज़ाकिस्तान)

11) मेंस हेवीवेट (81-91किग्रा)

लेविट वैज़िली (1, कज़ाकिस्तान) बनाम एशाश हुसैन एशाश हुसैन (4, जॉर्डन)

12) मेंस हेवीवेट (81-91किग्रा)

तुर्सुनोव संजार (3, उज़्बेकिस्तान) बनाम यिका डेविड (2, न्यूज़ीलैंड)

13) मेंस लाइट-हेवीवेट (75-81किग्रा)

नेग्मातुल्लोव शाब्बोस (तज़ाकिस्तान) बनाम योमखोट जैक्कपोंग (थाईलैंड)

14) मेंस लाइट-हेवीवेट (75-81किग्रा)

सचिन कुमार (भारत) बनाम गुएन मान्ह कोंग (वियतनाम)

आठवां दिन – शाम का सत्र | भारतीय समयानुसार – 20:30

15) वुमेंस फ्लाईवेट (48-51किग्रा)

हुआंग सियाओ-वेन (1, चीनी ताइपे) बनाम नमिकी सुकिमी (4, जापान)

16) वुमेंस फ्लाईवेट (48-51किग्रा)

चांग युआन (चीन) बनाम मैंगते मैरी कॉम (2, भारत)

17) वुमेंस लाइटवेट (57-60किग्रा)

ओह योंजी (दक्षिण कोरिया) बनाम सिसोंदी सुदपोर्न (थाईलैंड)

18) वुमेंस लाइटवेट (57-60किग्रा)

वू शीह-यी (3, चीनी ताइपे) बनाम बाथ सिमरनजीत कौर (भारत)

19) वुमेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

ली किन (1, चीन) बनाम पूजा रानी (4, भारत)

20) वुमेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

रयाबेट्स नादेज़्दा (कज़ाकिस्तान) बनाम पार्कर कैटलिन (2, ऑस्ट्रेलिया)

21) मेंस फेदरवेट (52-57किग्रा)

मिर्ज़ाखालिलोव मिराज़िज़्बेक (1, उज़्बेकिस्तान) बनाम टेमिर्ज़ानोव सेरिक (कज़ाकिस्तान)

22) मेंस फेदरवेट (52-57किग्रा)

गुएन वैन डोंग (वियतनाम) बनाम अल्वादी मोहम्मद अब्देलाज़ीज़ मोहम्म (जॉर्डन)

23) मेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

मार्सिअल यूमिर (1, फिलीपींस) बनाम आशीष कुमार (भारत)

24) मेंस मिडिलवेट (69-75किग्रा)

अमानकुल अबिलख़ान (कज़ाकिस्तान) बनाम तोहेटा एर्बिएक टंगलैथिहन (चीन)

25) मेंस लाइट-हेवीवेट (75-81किग्रा)

नुर्दोलेतोव बेकज़ाद (1, कज़ाकिस्तान) बनाम अल्हिंदवानी ओदाई रियाद अदेल (जॉर्डन)

26) मेंस लाइट-हेवीवेट (75-81किग्रा)

चेन डैक्सिंग (चीन) बनाम औकूसो पाउलो (ऑस्ट्रेलिया)

27) मेंस सुपर-हेवीवेट (69-75किग्रा)

जालोलोव बाखोदिर (1, उज़्बेकिस्तान) बनाम सतीश कुमार (4, भारत)

28) मेंस सुपर-हेवीवेट (+91किग्रा)

हुनी जस्टिस (3, ऑस्ट्रेलिया) बनाम कुंकाबायेव कैमशाईबेक (2, कज़ाकिस्तान)

प्रिंस हमज़ाह हॉल, एशिया/ओशिनिया क्वालिफायर के लिए आयोजन स्थल
प्रिंस हमज़ाह हॉल, एशिया/ओशिनिया क्वालिफायर के लिए आयोजन स्थलप्रिंस हमज़ाह हॉल, एशिया/ओशिनिया क्वालिफायर के लिए आयोजन स्थल

अम्मान में बॉक्सर कैसे करेंगे क्वालिफाई:

जॉर्डन में टोक्यो ओलंपिक के लिए कुछ 63 बर्थ/स्थान हैं - पुरुषों के लिए 41 और महिलाओं के लिए 22

पुरुषों की लाइट-हेवीवेट और हेवीवेट श्रेणियों और महिलाओं के फेदरवेट से लेकर मिडिलवेट श्रेणियों में, सेमीफाइनल तक पहुंचने वाले सभी मुक्केबाज़ टोक्यो के लिए क्वालिफाई कर जाएंगे। पुरुषों के वेल्टरवेट से लेकर लाइट-हेवीवेट श्रेणियों में एक अतिरिक्त स्थान के लिए बॉक्स-ऑफ़ होगा। पुरुषों के फ्लाईवेट से लेकर लाइटवेट कैटेगरी और महिलाओं के फ्लाईवेट वर्ग में दो अतिरिक्त स्थानों के लिए बॉक्स-ऑफ होंगे।

मुक्केबाज़ों के पास मई में पेरिस में होने वाले वर्ल्ड क्वालिफाइंग इवेंट में टोक्यो 2020 के लिए क्वालिफाई करने का एक और मौका होगा।

‘Road To Tokyo 2020’ के हर एक एक्शन और रोमांचक मुकाबलों के लिए हमारे ओलंपिक चैनल और लाइव स्ट्रीम से जुड़े रहें...

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!