'अंगद बाजवा और मिराज अहमद खान टोक्यो ओलंपिक में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे' - शिराज शेख

अंगद और मिराज ने ओलंपिक के लिए 15 की सूची में पक्का किया स्थान

लेखक Bharat Sharma ·

नवंबर 2019 में दोहा में हुई एशियन शूटिंग चैंपियनशिप में सनसनीखेज प्रदर्शन कर स्कीट शूटर अंगद वीर सिंह बाजवा और मिराज अहमद खान ने भारत की शाॅटगन स्क्वाड को हराकर टोक्यो ओलंपिक के लिए योग्यता हासिल कर ली।

बाजवा ने पुरुषों की स्कीट स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता तो खान ने रजत पदक पर कब्जा जमाया। इनको मिले पदकों का मतलब था कि अगले साल होने वाले ओलंपिक के लिए 15 की सूची में इनका स्थान पक्का था।

इनके साथी स्कीट शूटर शिराज शेख को लगता है कि बाजवा और खान ओलंपिक में उनसे जो उम्मीदें हैं उन्हें पूरा करने में सक्षम है। नेशनल राइफल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (NRAI) के प्रमुख ओलंपिक समूह के सदस्य शेख कहते हैं कि बाजवा और खान की जोड़ी इस आयोजन में अपनी छाप छोडने में कोई कसर नहीं छोडेंगे।

अंगद बाजवा और मिराज अहमद खान

इनके साथी स्कीट शूटर शिराज शेख को लगता है कि बाजवा और खान ओलंपिक में उनसे जो उम्मीदें हैं उन्हें पूरा करने में सक्षम है। नेशनल राइफल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (NRAI) के प्रमुख ओलंपिक समूह के सदस्य शेख कहते हैं कि बाजवा और खान की जोड़ी इस आयोजन में अपनी छाप छोडने में कोई कसर नहीं छोडेंगे।

NRAI के मुख्य ओलंपिक समूह में केवल चार स्कीट शूटर शामिल हैं - बाजवा, खान, शेख और गुरजोत सिंह।

कोविड-19 का टेस्ट नेगिटिव आने के कुछ दिनों बाद शेख ने नई दिल्ली में डॉ करणी सिंह रेंज में प्रशिक्षण लिया। टोक्यो में भारतीय दल के प्रदर्शन को लेकर उनका दृष्टिकोण सकारात्मक है। उन्होंने पिछले पांच सालों से बाजवा और खान के साथ प्रशिक्षण लिया है और उन्हें काफी करीब से जानते हैं। शेख ने उन्हें दमदार बताते हुए विश्वास जताया कि यह जोड़ी टोक्यो ओलंपिक में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करेगी।

ओलंपिक चैनल से बात करते हुए शेख ने कहा, "अंगद और मिराज दोनों जुझारू हैं, जो आसानी से हार नहीं मानते। दोनों बहुत बेहतर तरीके से ध्यान केंद्रित करते हुए प्रशिक्षण ले रहे हैं, वे ओलंपिक की तैयारियों में कोई कसर नहीं छोड़ रहे।" 

शेख ने बताया कि "बाजवा और खान प्रमाणित प्रदर्शक हैं और उनके पास पदक जीतने का सुनहरा मौका है। बाजवा का पुरुषों के स्कीट फाइनल में 60 में से 60 अंक का विश्व रिकॉर्ड हैं, जो उन्होंने कुवैत सिटी में 2018 एशियाई शॉटगन चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने के दौरान हासिल किया।"

उन्होंने कहा "हम अभी संचालित शिविर में एक साथ शूटिंग कर रहे हैं। साथ ही वे दोनों फाइनल में बहुत मजबूत शूटिंग करते हैं। अंगद का फाइनल में 60/60 का विश्व रिकॉर्ड है। मुझे लगता है कि स्कीट टीम के पास ओलंपिक में पदक जीतने का बहुत अच्छा मौका है। पिछली बार भी, हम फाइनल के लिए शूट-ऑफ तक पहुंच गए थ।"

25 वर्षीय बाजवा टोक्यो ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व करने के लिए शीर्ष क्रम के स्कीट शूटर होंगे, इसलिए उनसे देश की बहुत उम्मीदें होंगी।

खान के पास अनुभव है। 45 वर्षीय वह ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने वाले पहले भारतीय थे। वह 2016 के रियो ओलंपिक खेलों में नौवें स्थान पर रहे और इस बार अपने प्रदर्शन में सुधार करना चाहते हैं।