कब, कहां और कितने प्रतिभागियों के साथ आयोजित होगा राष्ट्रीय भारोत्तोलन शिविर, जानिए सबकुछ

ओलम्पिक की तैयारियों के लिए भारतीय भारोत्तोलन महासंघ आयोजित कर रहा है दो महीने लंबा शिविर

लेखक Bharat Sharma ·

भारतीय भारोत्तोलन महासंघ (IWLF) भारतीय भारोत्तोलकों को अगले साल होने वाले टोक्यो ओलंपिक के लिए पूरी तरह से तैयार करने में जुट गया है। इसके लिए IWLF दो महीने लंबा राष्ट्रीय भारोत्तोलन प्रशिक्षण शिविर आयोजित करने जा रहा है और सभी भारोत्तोलक इसमें कड़ी मेहतन करते हुए खुद को निखारने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं।

कोरोना महामारी ने ओलंपिक क्वालीफाइंग शेड्यूल के साथ उसकी तैयारियों में बड़ी बाधा डाली थी। यही कारण था कि अंतर्राष्ट्रीय भारोत्तोलन महासंघ (IWF) को एशियाई क्वालीफायर सहित पांच महाद्वीपीय चैंपियनशिप को रद्द करना पड़ा। टूर्नामेंट के मार्च 2021 में एक बार फिर से शुरू होने की उम्मीद है।

यही कारण है कि, भारतीय एथलीट आगामी प्रतियोगिताओं के लिए कमर कसते हुए खुद को और बेहतर तरीके से तैयार करना चाह रहे हैं।

भारतीय स्टार महिला वेटलिफ़्टर मीराबाई चानू की नज़र टोक्यो 2020 में जगह पक्की करने पर है।

कब आयोजित होगा शिविर?

60 दिवसीय राष्ट्रीय शिविर 21 दिसंबर, 2020 से शुरू होगा।

कहां लगाया जाएगा शिविर?

शुरुआत में इस शिविर को पटियाला में आयोजित किया जाना था, लेकिन IWLF ने उत्तर भारत में पड़ने वाली कड़ाके ठंड को देखते हुए अब इसे मुंबई में आयोजित करने का निर्णय किया है। इसके लिए IWLF यह भी तर्क दिया गया था कि मुंबई का मौसम और परिस्थितियां टोक्यो के समान होगी और इससे भारतीय भारोत्तोलकों उससे सामंजस्य बैठाने में मदद मिलेगी।

ऐसे में यह प्रशिक्षण शिवर मुंबई में रेलवे के महालक्ष्मी स्टेडियम में आयोजित किया जाएगा।

IWLF के महासचिव सहदेव यादव ने कहा, "हमने पटियाला में पड़ने वाली कड़ाके की ठंड को देखते हुए शिविर को मुंबई में स्थानांतरित करने का फैसला किया है।" उन्होंने आगे कहा, "ओलंपिक के दौरान टोक्यो में बहुत गर्मी होगी। ऐसे में हम चाहते हैं कि भारोत्तोलकों को वहां के जैसे मौसम और परिस्थितियों में प्रशिक्षण दिया जाए। वो दो महीने तक मुंबई में रहेंगे और बाद में हम उन्हें फिर से बुलाएंगे।"

राष्ट्रीय शिवर के स्थान में परिवर्तन टीम के कोच विजय शर्मा के अनुरोध पर किया गया था।

शर्मा ने कहा, "पटियाला में ठंड के कारण, मैंने शिविर को मुंबई या चेन्नई में स्थानांतरित करने का अनुरोध किया था। उन्होंने मुंबई को फाइनल किया है।"

उन्होंने कहा, "हम रेलवे के महालक्ष्मी स्टेडियम में प्रशिक्षण लेंगे। यह एक अच्छा केंद्र है, कई रेलवे शिविर वहां आयोजित किए गए हैं और यह सुरक्षित और सुरक्षित है।"

शिविर में कौन हिस्सा लेगा?

पूर्व विश्व चैंपियन मीराबाई चानू और दो बार के राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता सतीश शिवलिंगम सहित आठ भारोत्तोलक इस शिविर में पसीना बहाएंगे।

वह छह अन्य भारोत्तोलकों के साथ जुड़ेंगे जो जो वर्तमान में पटियाला में राष्ट्रीय खेल संस्थान (NIS) में प्रशिक्षण ले रहे हैं। उनमें ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता जेरेमी लाल्रीनुंगा, अचिनता शूली, एशियाई चैम्पियनशिप के रजत पदक विजेता झोली दलभेहरा, राष्ट्रमंडल चैम्पियनशिप के स्वर्ण पदक विजेता पी अनुराधा, राखी हलदर और शिखा सोरेन हैं।

चानू और शिवलिंगम वर्तमान में संयुक्त राज्य में एक पुनर्वास-सह-प्रशिक्षण कार्यक्रम पर हैं और 17 दिसंबर को भारत लौटने के लिए तैयार हैं।

राष्ट्रीय कोच विजय शर्मा भी चानू और शिवलिंगम के साथ लौटेंगे और शिविर में शामिल होंगे। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि चानू और लालरुन्नुंगा पहले ही टोक्यो ओलंपिक के लिए जगह बना चुके हैं।