भारत ने AFC एशियाई कप 2027 की मेजबानी के लिए लगाई बोली

प्रतियोगिता की मेजबानी हासिल करने के लिए भारत का कतर, ईरान, सऊदी अरब और उज्बेकिस्तान से है मुकाबला

लेखक भारत शर्मा ·

अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (AIFF) ने बुधवार दोपहर नई दिल्ली में AFC एशियन कप 2027 की मेजबानी हासिल के लिए औपचारिक रूप से अभियान शुरू कर दिया है।

भारत ने 2017 FIFA U17 विश्व कप का आयोजन करके शीर्ष स्तर के टूर्नामेंटों की मेजबानी करने की अपनी काबिलियत को पहले ही दर्शा दिया है और अब 2022 में U17 महिला विश्व कप की मेजबानी करने के लिए तैयार है। इसके बाद वह 2022 AFC महिला एशियाई कप की मेजबानी करेगा।

भारत के 2027 अभियान का लोगो बोली लगाने के समय सामने आया। यह लोगो भारत की बोली की महत्वाकांक्षा, प्रतिबद्धता, ध्यान और भावना का प्रतिनिधित्व करता है। इसमें एक रॉयल टाइगर को दिखाया गया है। रॉयल टाइगर भारत की राष्ट्रीय टीम, ब्लू टाइगर्स का प्रतीक भी है। लोगों पर लिखा स्लोगन, ब्राइट फ्यूचर टुगेदर, AFC और AIFF द्वारा साझेदारी में काम करने और भारतीय और एशियाई फुटबॉल को अगले स्तर तक ले जाने के लिए प्रस्तुत असाधारण अवसर को उजागर करता है।

यह भारतीय FA द्वारा AFC फुटबॉल के साथ काम करने, नए व्यापारिक अवसरों के लिए रास्ता खोलने, विकास को बढ़ावा देने और देश के युवाओं के बीच खेल के लिए एक बढ़ते प्यार पर निर्माण करने के लिए साझेदारी में काम करके नई ऊंचाइयों पर ले जाने का एक प्रयास है।

अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ के अध्यक्ष और फीफा परिषद के सदस्य श्री प्रफुल्ल पटेल (दाएं)

आयोजन के दौरान, AIFF के अध्यक्ष और फीफा परिषद के सदस्य प्रफुल्ल पटेल ने कहा, "आज हम जिस स्तर पर हैं, वहां पहुंचने के लिए बहुत मेहनत की गई है, जहां हम साल दर साल अंतर्राष्ट्रीय टूर्नामेंट की मेजबानी करने के बारे में सोच सकते हैं। 2017 में भारत में हुए फीफा अंडर-17 विश्व कप ने हमारे देश पर एक अमिट छाप छोड़ी और अब हम फीफा अंडर-17 महिला विश्व कप और AFC महिला एशियाई कप सुनिश्चित करने की दिशा में काम कर रहे हैं।

उन्होंने आगे कहा कि इस तरह के टूर्नामेंट की मेजबानी करने से मौजूदा बुनियादी ढांचे में सुधार करने और देश में खेल को लोकप्रिय बनाने में मदद मिलेगी।

"हम बुनियादी ढांचे के उत्थान और फुटबॉल के विकास पर लगातार काम कर रहे हैं और भारत को 2027 AFC एशियाई कप के लिए मेजबान के रूप में चयनित होने के लिए सम्मानित किया जाएगा। यह एशियाई फुटबॉल को नई ऊंचाइयों पर ले जाने और भारत के लिए, AFC के लिए और हमारे पूरे महाद्वीप के लिए एक शानदार भविष्य बनाने का एक अनूठा अवसर है।"

जबकि, युवा मामले और खेल राज्य मंत्री श्री किरेन रिजिजू ने सरकार की ओर से महासंघ को हरसंभव समर्थन देने का वादा किया ताकि भारत बोली जीत सके। उन्होंने कहा, "एशिया की सबसे बड़ी फुटबॉल प्रतियोगिता AFC एशियन कप 2027 की मेजबानी करना भारतीय खेलों के लिए एक बहुत बड़ा मील का पत्थर साबित होगा। हमारा देश इस बहुचर्चित खेल की मेजबानी करने के लिए पूरी तरह से तैयार है। मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि इस टूर्नामेंट को कराने में सभी सरकारी समर्थन दिया जाएगा। यह टूर्नामेंट भारत और इसमें शामिल सभी लोगों के लिए यादगार स्मृति होगा।"

संयुक्त अरब अमीरात (UAE) द्वारा आयोजित एशियाई कप के 2019 संस्करण को कतर ने जीता था। इसी तरह 2023 संस्करण की मेजबानी चीन करेगा। यदि भारत को मेजबानी का अधिकार मिलता है तो यह एशियाई कप मेजबान के रूप में देश की शुरुआत को चिह्नित करेगा। इस साल की शुरुआत में सऊदी अरब ने भी टूर्नामेंट की मेजबानी के लिए अपनी बोली भी प्रस्तुत की थी। कतर, सऊदी अरब, ईरान और उज्बेकिस्तान भारत के साथ AFC एशियाई कप 2027 की मेजबानी के लिए बोली लगाने वाले पांच AFC सदस्य संघों में से एक हैं।