2021 ऑस्ट्रेलियाई ओपन क्वालीफायरः 4 भारतीय खिलाडी मुख्य ड्रॉ में स्थान पक्का करने को तैयार 

भारतीय खिलाड़ी क्वालीफाइंग के माध्यम से ऑस्ट्रेलियन ओपन में जगह बनाने की कर रहे हैं उम्मीद  

लेखक दिनेश चंद शर्मा ·

आगामी 8 फरवरी से ऑस्ट्रेलियन ओपन के आयोजन के साथ ही 2021 के लिए ग्रैंड स्लैम सीजन का आगाज होगा। भारत के सुमित नागल को पहले ही मेजर के लिए मुख्य ड्रा में वाइल्ड कार्ड एंट्री मिल चुकी है, लेकिन और दूसरे भारतीय खिलाड़ी क्वालीफाइंग के माध्यम से ऑस्ट्रेलियन ओपन में जगह बनाने की उम्मीद कर रहे हैं।

महामारी के कारण महिलाओं का क्वालीफाइंग इवेंट 10-13 जनवरी तक दुबई में आयोजित किया जाएगा, जबकि इसी दौरान पुरुषों का क्वालीफायर दोहा में होगा।

ये चार भारतीय खिलाड़ी करेंगे ऑस्ट्रेलियाई ओपन क्वालीफायर में प्रतिस्पर्धा-

अंकिता रैना

आयुः 27

एकल में रैंकिंगः 180

भारत की नंबर 1 सिंग्ल्स खिलाड़ीअंकिता रैना ऑस्ट्रेलियन ओपन में अपने ग्रैंड स्लैम की शुरुआत करने की उम्मीद कर रही हैं। किसी मेजर के लिए क्वालीफाई करने का यह उनका छठा प्रयास होगा।

कड़ी मेहनत करने वाली रैना ने 2020 में ठोस शुरुआत की थी। जनवरी में थाईलैंड के नोंथाबुरी में ITF 25,000 इवेंट में डबल जीता और जोधपुर (राजस्थान), भारत में ITF 25,000 इवेंट में एकल खिताब पर कब्जा जमाया। वह भारत को पहली बार फेड कप वर्ल्ड ग्रुप प्लेऑफ में पहुंचाने वाली टीम का भी हिस्सा रहीं।

कोरोना महामारी ने अहमदाबाद में जन्मी इस खिलाड़ी की गति को रोक दिया, क्योंकि इसके कारण वह छह महीने तक टेनिस से दूर रही। उन्होंने दुबई में ITF इवेंट में युगल खिताब जीतकर साल का समापन किया। इस जीत ने युगल में उनके करियर को 117वें स्थान पर पहुंचा दिया। रैना इस आत्मविश्वास को 2021 में भी बरकरार रखते हुए ग्रैंड स्लैम में पहली जीत हासिल करने की कोशिश करेंगी।

एक मैच में जीत दर्ज करने के बाद अंकिता रैना

कर्मन कौर थांडी

आयुः 22

एकल में रैंकिंगः 626

कर्मन कौर थांडी 208 की संरक्षित रैंकिंग के साथ ऑस्ट्रेलियन ओपन में प्रवेश करेंगी। सर्वांग सुन्दर प्रतिभाशाली यह खिलाड़ी सानिया मिर्जा के बाद भारतीय महिला टेनिस में सबसे रोमांचक प्रतिभाओं में से एक है।

2018 में वह मिर्जा के बाद WTA-स्तरीय मैच जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनी थी। इसमें उन्होंने जियांग्सी अंतर्राष्ट्रीय महिला टेनिस ओपन में लू जियाजिंग को हराया था, लेकिन पिछले दो सीजनों से थांडी कंधे की चोट से जूझ रही हैं।

दिल्ली की रहने वाली थांडी के नाम पर एक ITF एकल और एक WTA 125,000 खिताब दर्ज है। उन्होंने 2020 में केवल एक मैच खेला है। नए साल में ऑस्ट्रेलियन ओपन क्वालीफाइ में भाग लेने के लिए वह बेहतर किस्मत और स्वास्थ्य की उम्मीद कर रही हैं।

प्रजनेश गुणेश्वरन

आयुः 31

एकल में रैंकिंगः 129

31 वर्षीय गुणेश्वरन ने पिछले दो सालों में क्वालीफाइंग के माध्यम से ऑस्ट्रेलियन ओपन में प्रवेश किया है और लगातार तीसरी बार ऐसा करने को लेकर वो उत्साहित हैं।

हालांकि, उन्होंने चार ग्रैंड स्लैमों में से प्रत्येक के मुख्य ड्रॉ में प्रतिस्पर्धा की है, लेकिन उन्हें अभी तक पहले राउंड में प्रवेश नहीं मिला है। बांये हाथ से खेलने वाला यह खिलाड़ी एक ग्रैंड स्लैम जीतने के लिए पूरी तैयारी के साथ उतरेगा, जिसमें एक क्रैकिंग सर्विस, शक्तिशाली ग्राउंडस्ट्रोक और बड़े मंच पर प्रतिस्पर्धा करने की शारीरिक ताकत शामिल है।

गुणेश्वरन ने नवम्बर में NC और ऑरलैंडो, फ्लोरिडा में एक के बाद एक ATP चैलेंजर फाइनल खेलकर सीजन खत्म किया।

रामकुमार रामनाथन

आयुः 26

एकल में रैंकिंगः 190

रामकुमार रामनाथन अपने पिछले 16 प्रयासों में ग्रैंड स्लैम के लिए क्वालिफाई नहीं कर सके, लेकिन इसके बावजूद उन्होंने अपनी कोशिशों में कमी नहीं आने दी है। इस दौरे में वह सबसे फिट भारतीय खिलाड़ियों में से एक हैं। छह महीने के लॉकडाउन के बावजूद उन्होंने 2020 में 18 टूर्नामेंट खेले।

उन्होंने नवंबर में जर्मनी के एकेंटल में ATP चैलेंजर इवेंट में 6-4, 6-4 से सातवीं वरियता प्राप्त सेब कोर्डा से पहले फाइनल में जगह बनाई। वह सांचेज कैसल एकेडमी फ्लोरिडा में प्रशिक्षण ले रहे हैं और UTR आयोजनों में खेलकर खुद को मैच के लायक बनाए हुए हैं।

उनके पास सर्विस और फोरहैंड जैसे सबसे घातक हथियार तो है ही साथ ही बडे़ स्तर के खिलाड़ियों को चैंकाने के लिए ऑल-कोर्ट गेम भी है। लेकिन वो ग्रैंड स्लैम क्वालीफाइंग स्पर्धा में सभी को एक साथ इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे।