2024 ओलंपिक से पहले एथलेटिक्स और तैराकी का प्रदर्शन सुधारना चाहते हैं IOA अध्यक्ष नरिंदर बत्रा 

अधिकारियों ने फिर संकेत दिया कि प्राथमिकता के आधार पर कोरोना वैक्सीन प्राप्त कर सकते हैं ओलंपियंस

लेखक भारत शर्मा ·

भारतीय ओलंपिक संघ (IOA) के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा का मानना ​​है कि भविष्य में ओलंपिक पदक जीतने की संभावना बढ़ाने के लिए भारत को एथलेटिक्स और तैराकी पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

2016 के रियो ओलंपिक में एथलेटिक्स में भारत के 34 प्रतिभागी थे, लेकिन उनमें से कोई भी पोडियम फिनिश तक नहीं पहुंच सका। अब जब टोक्यो ओलंपिक नजदीक आ रहा है तो बत्रा ने समय से पहले ही योजना बनाना शुरू कर दिया है। वह इस तैयारी में जुटे हैं कि 2024 के ओलंपिक में भारत की पदक संभावनाएं बेहतर हों।

बत्रा ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया, "एथलेटिक्स और तैराकी 2024 के ओलंपिक के लिए मेरी सबसे बड़ी चिंता है। एथलेटिक्स में लगभग 50 पदक हैं, इसे तीन से गुणा करके यह संख्या 150 होती है। हमें एक भी पदक नहीं मिल रहा है। तैराकी में 45 पदक होने के बाद भी हमें एक भी नहीं मिलता है। मैं खुश नहीं हूं, लेकिन मैं संबंधित लोगों के साथ काम कर रहा हूं। कम से कम हमारे लड़कों में 'बी' क्वालिफिकेशन अंक हासिल किया है, लेकिन लड़कियों में ऐसा नहीं है। साइक्लिंग में 28 पदक हैं और तलवारबाजी में 27 पदक हैं, जिमनास्टिक में 30 पदक हैं। इन खेलों में हमारे एथलीट कहां हैं? यदि आपको पदक बढ़ाने की आवश्यकता है, तो ये व्यक्तिगत खेल बहुत महत्वपूर्ण हैं।

बत्रा को भरोसा है कि टोक्यो में चतुर्भुज कार्यक्रम सफल होगा और उम्मीद है कि कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण कार्यक्रम में ओलंपियनों को प्राथमिकता मिलेगी।

अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति के सदस्य और IOA के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा चाहते हैं कि स्पोर्टिंग बॉडी 2021 में होने वाले टोक्यो ओलंपिक में पूरी तैयारी के साथ जाए।

उन्होंने कहा, "ओलंपिक की पुष्टि हो गई है। अब केवल देखने के लिए प्रशंसकों की संख्या है। यूनाइटेड किंगडम में टीकाकरण शुरू हो गया है और ओलंपिक और एथलीटों को प्राथमिकता मिल सकती है। चलिए देखते हैं कि क्या होता है। मैं दर्शकों के खचाखच भरा स्टेडियम देखना पसंद करूंगा। IOC आश्वस्त है और जापानी सरकार ने भी कहा है कि प्रोटोकॉल क्या हैं। एक बार टीकाकरण शुरू होने के बाद आराम मिलना चाहिए। उड़ानें अभी तक शुरू नहीं हुई हैं। इन सभी चीजों में 31 दिसंबर के बाद छूट मिलने की संभावना है।"

बत्रा ने यह भी खुलासा किया कि वह भारत में होने वाले राष्ट्रीय खेलों को देखने वाले दर्शकों को टोक्यो ओलंपिक में भी देखना पसंद करेंगे।

अंतराष्ट्रीय हॉकी महासंघ के अध्यक्ष बत्रा ने कहा, "इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) और इंडियन सुपर लीग (ISL) शुरू हुआ जब कोरोना महामारी अपने चरम पर थी। इसलिए स्वाभाविक रूप से उन टूर्नामेंटों में दर्शक को स्टेडियम जाने की अनुमति नहीं दी गई थी। अब चीजें वापस नियंत्रण में आ रही हैं। लेकिन राष्ट्रीय आयोजनों में आप अधिक भीड़ को नहीं बुलाना चाहेंगे। जो कोई भी इच्छुक है वह आ सकता है और देख सकता है। जापान ने दर्शकों को अनुमति दी है। उन्होंने स्टेडियम में 50 प्रतिशत क्षमता की अनुमति दी। मुझे लगता है कि ऑस्ट्रेलिया में क्रिकेट के लिए दर्शक हैं। इसलिए मापदंडों को निर्धारित किया जाता है और धीरे-धीरे दर्शकों का प्रतिशत बढ़ जाएगा। निश्चिम रूप से दर्शक स्टेडियम में आना पसंद करेंगे।"