भारतीय खेल जगत के इन 5 सितारों ने निभाई प्रशासक की भूमिका

कुछ ने बेहतर ढंग से काम को अंजाम दिया तो कुछ को रास नहीं आया प्रशासनिक पद 

लेखक दिनेश चंद शर्मा ·

भारतीय खेल हस्तियों ने विभिन्न खेल गतिविधियों को अलविदा कहने के बाद एक प्रशासनिक पद की भूमिका को चुना। इनमें से कुछ भारतीय एथलीट सफल प्रशासक बने तो कुछ ऐसे भी थे जिन्होंने कुछ समय के लिए इस भूमिका में काम किया।

पूर्व भारतीय स्ट्राइकर अभिषेक यादव को मंगलवार को अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (AIFF) द्वारा उप महासचिव नियुक्त किया गया। भारतीय FA द्वारा उच्च पद पर नियुक्त होने वाले वो पहले पूर्व अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी हैं।

आइये जानते हैं ऐसे ही कुछेक पूर्व खिलाडियों के बारे में जिन्होंने प्रशासक के रूप में काम किया हैः

आदिल सुमरिवाला

आदिल सुमरिवाला एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष हैं और उन्हें पहले भारतीय के रूप में IAAF परिषद के 50वें सम्मेलन में सदस्य भी चुना गया।

उन्होंने 1980 मास्को ओलंपिक और कई अन्य अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में 100 मीटर आयोजन में राष्ट्र का प्रतिनिधित्व करने के बाद प्रशासनिक भूमिका निभाई। 63 वर्षीय सुमरिवाला को स्कूल के दिनों से ही इसमें रुझान रहा था। उन्होंने 22.2 सेकंड के समय के साथ पुरुषों के 200 मीटर इंटर कॉलेज का रिकॉर्ड कायम किया, जिसे 35 साल तक कोई नहीं तोड़ पाया।

अंजू बॉबी जॉर्ज

भारतभूमि पर पैदा हुई महान ट्रैक और फील्ड एथलीटों में से एक अंजू बॉबी जॉर्ज IAAF विश्व एथलेटिक्स फाइनल में पहुंचने वाली पहली और एकमात्र भारतीय विश्व चैंपियन हैं। उन्होंने 2003 पेरिस में एथलेटिक्स विश्व चैंपियनशिप की लंबी कूद में कांस्य पदक जीत कर इतिहास के पन्नों पर अपना नाम दर्ज किया।

2004 एथेंस ओलंपिक की लंबी कूद स्पर्धा में उन्हांने 6.83 के व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ स्कोर के साथ पांचवां स्थान हासिल किया, लेकिन लगातार तीन फाउल के कारण वो 2008 बीजिंग ओलंपिक के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाई।

विभिन्न खेल प्रतियोगिताओं से विदाई लेने के बाद उन्हें केरल राज्य खेल परिषद (KSSC) के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया था, लेकिन उन्होंने 22 जून, 2016 को इस पद से इस्तीफा दे दिया।

43 वर्षीय अंजू वर्तमान में खेलो इंडिया प्रोजेक्ट की कार्यकारी सदस्य के आलावा टार्गेट ओलंपिक पोडियम स्कीम (TOPS) की अध्यक्ष के रूप में काम कर रही हैं।

प्रकाश पादुकोण

विश्व नंबर 1 पूर्व बैडमिंटन खिलाड़ी प्रकाश पादुकोण ने अपने करियर में कई बडे मुकाम हासिल किए। वो प्रतिष्ठित टूर्नामेंट ऑल इंग्लैंड ओपन बैडमिंटन चैंपियनशिप जीतने वाले पहले भारतीय थे, जो टेनिस में एक ग्रैंड स्लैम खिताब के बराबर है।

पादुकोण ने 1978 राष्ट्रमंडल खेलों और 1981 विश्व कप में एक-एक स्वर्ण पदक जीता। उन्होंने 1991 में खेल से संन्यास ले लिया। इसके बाद उन्होंने 1993 से 1996 तक बैडमिंटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया (BAI) के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया। इसके अलावा ओलंपिक एथलीटों को उनके सपनों को पूरा करने में मदद करने के लिए ओलंपिक गोल्ड क्वेस्ट की सह-स्थापना की।

एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष आदिल सुमरीवाला

मालव श्रॉफ

श्रॉफ एशियाई नौकायन महासंघ के अध्यक्ष हैं। उन्होंने 2004 के 49er वर्ग की श्रेणी में ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व किया। एक युवा राष्ट्रीय चैंपियन होने के अलावा उन्होंने 1999 अल्बाकोर विश्व चैंपियन में नाविक के रूप में भी भाग लिया।

उन्होंने 2005 से 2012 तक अंतर्राष्ट्रीय 49er वर्ग के अध्यक्ष के रूप में भी काम किया है।

अभिषेक यादव

पूर्व भारतीय स्ट्राइकर अभिषेक यादव को अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (AIFF) द्वारा उप महासचिव नियुक्त किया गया है। एक खिलाड़ी के रूप में उन्होंने महिंद्रा यूनाइटेड, चर्चिल ब्रदर्स और मुंबई एफसी का प्रतिनिधित्व किया और 2002 एलजी कप में भारत की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

खेल से संन्यास लेने के बाद यादव ने भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI)-AIFF के अंतरराष्ट्रीय स्काउटिंग प्रोजेक्ट की शुरुआत की। इसके जरिए अंडर-17 विश्व कप टीम का हिस्सा रहे दो खिलाडी नमित देशपांडे और सनी धालीवाल की खोज करने में मदद मिली। उन्होंने 2017 के अंडर-17 विश्व कप के बाद इंडियन एरोज के पुनरुद्धार में भी योगदान दिया।