भारतीय निशानेबाज़ों के पास टोक्यो 2020 में कई पदक जीतने का मौक़ा: अभिनव बिंद्रा

ओलंपिक चैंपियन ने पिछले सीज़न में भारतीय पुरुष और महिला निशानेबाज़ों के बेहतर प्रदर्शन को ध्यान में रखते हुए यह भविष्यवाणी की है।

लेखक ओलंपिक चैनल ·

भारतीय पुरुष और महिला निशानेबाज़ों का जिस तरह से 2019 सीज़न में वर्चस्व रहा है, उसे देखते हुए ओलंपिक चैंपियन अभिनव बिंद्रा (Abhinav Bindra) का मानना है कि 2020 ओलंपिक खेलों में भारतीय निशानेबाज़ गोल्ड सहित कई ओलंपिक पदक जीत सकते हैं।

आपको बता दें, भारतीय दल ने टोक्यो में होने वाले खेल महाकुंभ के लिए कुल 15 कोटा स्थान हासिल किए हैं। यही नहीं पिछले साल वर्ल्ड कप और सीज़न के अंत में हुए वर्ल्ड कप फाइनल में शानादार प्रदर्शन करते हुए कई खिताब भी जीते हैं।

अभिनव बिंद्रा ने एक बातचीत में कहा, “ओलंपिक खेलों में हमारे पास कई स्वर्ण पदक जीतने की क्षमता है, तो यह हमारे लिए एक बेहतरीन मौका है।”

इस शूटिंग दिग्गज के शब्दों को नज़रअंदाज़ भी नहीं जा सकता है, क्योंकि बीते 12 महीनों में भारतीय निशानेबाज़ों ने कई खिताब हासिल किए हैं। भारतीय शूटरों ने साल 2019 में कुल 30 पदक जीतने में सफलता हासिल की, जिसमें 21 स्वर्ण, 6 रजत, 3 कांस्य शामिल हैं।

सौरभ चौधरी (Saurabh Chaudhary), अभिषेक वर्मा (Abhishek Verma) और मनु भाकर (Manu Bhaker) बमुश्किल ही किसी इवेंट में गोल्ड मेडल जीतने में असफल रहे, जबकि पिछले साल राइफल स्पर्धाओं में अपूर्वी चंदेला (Apurvi Chandela), एलावेनिल वलारिवन (Elavenil Valarivan) और अंजुम मौदगिल (Anjum Moudgil) अव्वल रहे।

रियो 2016 में मिली निराशा के बाद एक फिर देश शूटिंग में मेडल की उम्मीद कर सकता है। बिंद्रा ने कहा, “इस बार कई मेडल जीतने की संभावना है। मैं इस बात की पूरी उम्मीद कर रहा हूं।”

ओलंपिक में भारतीय शूटिंग का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन लंदन 2012 में रहा था, जब निशानेबाज़ों ने उस संस्करण में दो पदक जीते थे। राइफल शूटर गगन नारंग (Gagan Narag) और शीर्ष पिस्टल निशानेबाज़ विजय कुमार (Vijay Kumar) ने क्रमशः 10 मीटर एयर राइफल में कांस्य पदक और 25 मीटर रैपिड फायर पिस्टल में रजत पदक जीता था।

दिलचस्प बात यह है कि ओलंपिक खेलों में भारत का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन भी लंदन 2012 में ही रहा, जहां देश ने कुल छह पदक जीते। ऐसे में अब कुछ ही महीनों बाद टोक्यो 2020 में देश अपने शूटिंग सितारों से बेहतर प्रदर्शन और कई पदक भारत की झोली में डालने की उम्मीद करेगा।