शरथ कमल ने टेबल टेनिस के सीनियर नेशनल शिविर में की वापसी

शरथ कमल ने सोनीपत में पूरा किया 42 दिवसीय शिविर

लेखक Bharat Sharma ·

भारत के वरिष्ठ टेबल टेनिस खिलाड़ी अचंत शरथ कमल ने इस सप्ताह के शुरू में सोनीपत स्थित दिल्ली पब्लिक स्कूल में 42 दिवसीय सीनियर नेशनल शिविर पूरा करने के बाद राहत महसूस की थी।

कोरोना वायरस महामारी के बीच मध्य मार्च में सभी खेल गतिविधियों के बंद होने के बाद टेबल टेनिस फेडरेशन ऑफ इंडिया (TTFI) और स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (SAI) द्वारा आयोजित इस शिविर से कमल सहित अन्य खिलाड़ियों को राहत मिली है।

चार बार के राष्ट्रमंडल स्वर्ण पदक विजेता ने प्रशिक्षण में वापसी करते हुए फिटनेस और जिम के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी। शिविर के दौरान, कमल ने मानव ठक्कर के साथ अभ्यास किया, जिन्हें भारतीय टेबल टेनिस के भविष्य के रूप में चिन्हित किया गया है।

शिविर में शामिल नौ पैडलर्स में जीत चंद्र, सुधांशु ग्रोवर और अनुषा कुटुम्बले शामिल थे और तीन प्रशिक्षकों ने उन्हें प्रशिक्षण दिया। कमल ने महसूस किया कि पैडलर्स के बीच कोई घबराहट नहीं थी और लगा कि सभी खिलाड़ी शिविर में जल्दी से पूरी तरह से रम जाना चाहते थे।

शरथ ने मंगलवार को द हिंदू को बताया, "लंबे समय बाद फिर से खेलना और पुराने रंग में आना बेहतरीन था। हमने सुबह और शाम के सत्र और कुछ दिन फिटनेस और जिम के लिए समर्पित किए थे।"

उन्होंने कहा, "कोरोना के कारण बंद हुई खेल गतिविधियां उनके लिए किसी भी तरह से अच्छा नहीं थी। मानव [ठक्कर], जीत [चंद्रा] और सुधांशु ग्रोवर के साथ यह बहुत अच्छा था। हम बहुत जल्दी मैच मोड में आ गए; हम उम्मीद कर रहे हैं कि प्रतियोगिताएं जल्द ही शुरू होंगी। '

एक मैच में जीत हासिल करने के बाद टेबल टेनिस खिलाड़ी अंचत शरत कमल

मानव ठक्कर इस बात से भी प्रसन्न थे कि शिविर किस तरह से आगे बढ़ा और फिर सुखद रूप से खत्म हुआ।

ठक्कर ने कहा "TTFI और SAI के लिए कोरोना महामारी में शिविर का आयोजन करना आसान नहीं था, लेकिन उन्होंने एक अद्भुत काम किया। सभी ने अपना 100 प्रतिशत दिया। शुरुआत से अगले 40 दिनों में हमने अपने खेल में बहुत बड़ा अंतर देखा। शरत भैया ने हमें बहुत अच्छी तरह गुर सिखाए।"

टेबल टेनिस टीम का लक्ष्य टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करना है।

इस वर्ष की शुरुआत में, भारतीय टीम की उम्मीदें उस समय धराशायी हो गई थी जब वह जनवरी 2020 में पुर्तगाल में आयोजित क्वालीफाइंग स्पर्धा में टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाई थी।