कोलोन वर्ल्डकप में गोल्ड के लिए रिंग में उतरेंगे अमित पंघल

कोलोन वर्ल्ड कप के पहले दिन भारतीय बॉक्सरों ने शानदार प्रदर्शन किया, अमित पंघल ने फाइनल में जगह बनाई तो कई अन्य बॉक्सर भी सेमीफाइनल में पहुंचने में कामयाब रहे।

लेखक लक्ष्य शर्मा ·

भारत की तरफ से टोक्यो ओलंपिक का टिकट पक्का कर चुके बॉक्सर अमित पंघल (Amit Panghal) ने गुरुवार को कोलोन वर्ल्डकप 2020 (Cologne World Cup 2020) के 52 किलोग्राम वर्ग के फाइनल में जगह बना ली है। गुरुवार को हुए सेमीफाइनल मुकाबले में भारतीय मुक्केबाज़ ने 2019 विश्व चैंपियनशिप के कांस्य पदक विजेता बिलाल टेनेम (Billal Benname) को हराया।

एआईबीए फ्लाइवेट वर्ल्ड नंबर 1 पर काबिज अमित पंघाल ने अपने फ्रेंच प्रतिद्वंद्वी पर हावी रहते हुए अपना मुकाबला 5-0 के भारी अंतर से जीता।

टूर्नामेंट में पुरुषों के 52 किलोग्राम इवेंट में भाग लेने वाले केवल तीन मुक्केबाजों के साथ, पंघल का सामना स्वर्ण पदक के मुकाबले में जर्मन मुक्केबाज़ अर्गिश्ती टेरेटियन (Argishti Terteryan) से होगा। टेरीटैनन को सेमीफाइनल में बाई मिला। जर्मनी में होने वाले टूर्नामेंट में कोविड-19 के कारण कम खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया है, यहां तक की जब ड्रॉ हुआ था तब भारतीय मुक्केबाजों के लिए पांच पदक की गारंटी थी।

पंघल के अलावा, पूजा रानी (Pooja Rani) (महिला 75 किग्रा), मनीषा (Manisha) और साक्षी (Sakshi) (महिला 57 किग्रा) और सिमरनजीत कौर (Simranjit Kaur) (महिला 60 किग्रा) ने टॉप 4 से अपने वजन वर्ग की स्पर्धाओं की शुरुआत की।

एक और भारतीय बॉक्सर जिसने पदक जीतने की उम्मीद जगाई, वह हैं 2016 की विश्व चैंपियनशिप की रजत पदक विजेता सोनिया लाथेर (Sonia Lather)। सोनिया ने यूक्रेन की स्निझाना खोलोडकोवा को महिलाओं के 57 किग्रा क्वार्टर फाइनल में 3-2 से हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई।

लाथेर का सामना सेमीफाइनल में साथी भारतीय खिलाड़ी मनीषा से होगा जबकि साक्षी दूसरे ब्रैकेट मे हैं।

मोल्दोवा के अलेक्सेई ज़वातिन (Alexei Zavatin) पर 5-0 से जीत के बाद टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई कर चुके सतीश कुमार (Satish Kumar) (मेंस +91 किग्रा) भी सेमीफाइनल में पहुंच गए। सुपर हैवीवेट का सामना शीर्ष चार में फ्रांस के जैमेल-दीनी अबाउदो (Djamel-Dini Aboudou) से होगा। टॉप 4 में सुपर हैवीवेट का सामना फ्रांस के जैमेल-दीनी अबाउदो से होगा।

वहीं पुरुषों के 57 किग्रा में सेमीफाइनल भारतीय खिलाड़ी गौरव सोलंकी (Gaurav Solanki)  और मोहम्मद हुसामुद्दीन (Mohamed Hussamuddin) ने अपने-अपने क्वार्टर फाइनल मुकाबले जीते लेकिन कविंदर सिंह बिष्ट (Kavinder Singh Bisht) को फ्रांस के सैमुअल किस्तोहुर्री (Samuel Kistohurry) के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा।

किस्तोहुर्री और सोलंकी ने सेमीफाइनल में जगह बनाई तो हुसामुद्दीन जर्मनी के हमसत शालदोव (Hamsat Shadalov) के खिलाफ गोल्ड के लिए रिंग में उतरेंगे। आशीष कुमार (Ashish Kumar) (पुरुष 75 किग्रा) को नीदरलैंड्स के मैक्स वैन डेर पास (Max van der Pas) से शिकस्त खानी पड़ी। चार बार के एशियाई पदक विजेता शिव थापा (Shiva Thapa) (मेंस 63 किग्रा) और संजीत (Sanjeet) (मेंस 91 किग्रा) ने चोटों के कारण बाहर बैठने का विकल्प चुना।

इसके अलावा फीजियो रोहित कश्यप के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद भारतीय दल में डर का माहौल है। भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) ने हालांकि पुष्टि करते हुए कहा कि “सभी मुक्केबाज ठीक हैं और सभी का कोविड टेस्ट नेगेटिव आया है। भारतीय मुक्केबाजों के पास टोक्यो ओलंपिक की तैयारियों के लिए कोलोन वर्ल्ड कप आखिरी इवेंट है।”