अमित पंघल: भारतीय मुक्केबाजी खेमे की नज़र कम से कम दो गोल्ड पर

वर्ल्ड चैंपियनशिप के सिल्वर मेडल विजेता ने कहा कि टोक्यो 2020 में भारतीय मुक्केबाज़ी दल से कम से कम दो गोल्ड मेडल जीतने की उम्मीद की जा सकती है।    

लेखक जतिन ऋषि राज ·

साल 2020 यानी, वह साल जो खेल की दुनिया के सबसे बड़े मेले की अगुवाई करेगा। जी हाँ, 2020 ओलंपिक गेम्स अगले साल जापान में खेले जायंगे और दुनिया भर के खिलाड़ी इसमें हिस्सा लेते दिखेंगे। भारत के स्टार बॉक्सर, अमित पंघल का मानना है कि इस बार भारतीय मुक्केबाज़ी के दल की नज़र होगी कम से कम दो गोल्ड मेडल जीतने पर।

आईएएनएस से बात करते हुए उन्होंने बताया कि पिछले कुछ सालों में भारतीय बॉक्सिंग बेहतर हुई है और हमने बहुत से गोल्ड मेडल भी जीते हैं, वह चाहे कॉमनवेल्थ गेम्स में हो या एशियन गेम्स या फिर वर्ल्ड चैंपियनशिप में।

“हम टोक्यो 2002 में कम से कम दो गोले मेडल जीतने की ललक से उतरेंगे। हम इससे ज़्यादा भी जीत सकते हैं लेकिन कम से कम दो गोल्ड मेडल की उम्मीद तो भारत से की ही जा सकती है।

अमित पंघल से उम्मीदें

हरियाणा के इस मुक्केबाज़ ने अपना डेब्यू 2017 में नेशनल बॉक्सिंग चैंपियनशिप से किया था और अपनी पहली ही प्रतियोगिता में उन्होंने गोल्ड मेडल पर कब्ज़ा जमाया था। साल 2018 में भी पंघल ने अपने दाम का डंका बजाय और 2018 कॉमनवेल्थ गेम्स में सिल्वर मेडल हासिल किया। 

पंघल ने साल 2019 में भी अच्छा प्रदर्शन दिखाया और एशियन चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीत खिताब अपने नाम किया। इतना ही नहीं पंघल ने सबको हैरान करते हुए खुद को पहला भारतीय पुरुष बॉक्सर बनाया जिन्होंने वर्ल्ड चैंपियन शिप के फाइनल में कदम रखे। रूस में हुए 2019 एआईबीए वर्ल्ड चैंपियनशिप में पंघल में भारत को सिल्वर मेडल तोहफे में दिया। 

टोक्यो 2020 क्वालिफायर पर नज़र

बिग बाउट लीग में भी पंघल का प्रदर्शन देखते ही बना। गुजरात जायन्ट्स के लिए खेलते हुए पंघल और उनकी टीम ने सेमीफाइनल तक का सफ़र तय कर लिया है। इस लीग के बाद पंघल का सारा ध्यान चीन में होने वाले एशियन ओलंपिक क्वालिफायर पर होगी।

“में टोक्यो 2020 के लिए तैयार हूं। फरवरी में होने जा रहे ओलंपिक क्वालिफायर में मुझे अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर टोक्यो 2020 में अपनी जगह बनानी है। हर खिलाड़ी की तरह मेरा भी मकसद भारत की अगुवाई कर मेडल जीतना है।” भारतीय मुक्केबाज़ ने आगे कहा।

भारतीय बॉक्सिंग का ओलंपिक गेम्स का सफ़र

हालांकि भारत ने बॉक्सिंग रिंग द्वारा ओलंपिक गेम्स में आज तक केवल दो मेडल जीते हैं। 2008 बीजिंग गेम्स के दौरान विजेंदर सिंह ने ब्रॉन्ज़ जीत कर देश भर में प्यार कमाया और 2012 लंदन गेम्स में मैरी कॉम ने एक और ब्रॉन्ज़ मेडल भारत की झोली में डाला।