अमित पंघल को एशियन बॉक्सिंग ओलंपिक क्वालिफायर्स के सेमीफाइनल में मिली हार

भारत की लवलीना बोरगोहेन को भी महिलाओं के वेल्टरवेट वर्ग के सेमीफाइनल मुकाबले में चीन की गो हॉन्ग से हार का सामना करना पड़ा।

जॉर्डन के अम्मान में चल रहे एशियन बॉक्सिंग ओलंपिक क्वालिफायर में अमित पंघल (Amit Panghal) का अभियान मंगलवार को थम गया। शीर्ष वरीयता प्राप्त भारतीय मुक्केबाज़ को चीन के हू जियांगउन (Hu Jianguan) से हार का सामना करना पड़ा।

दोनों की रणनीति में आश्चर्यजनक परिवर्तन देखने को मिले, जहां भारतीय फ्लाईवेट मुक्केबाज ने फ्रंट फुट पर जाकर लड़ने का फैसला किया जो ज्यादा सफल नहीं रहा, वहीं हू जियांगउन ने पहले दो राउंड में सटीक मुक्कों की बरसात कर दी।

अमित पंघल ने फ़ाइनल राउंड में वापसी की और कुछ शानदार पंच जड़े, और पहले राउंड के मुकाबले अपनी कोशिशों में सफल भी रहे, लेकिन उनकी जीत के लिए ये पर्याप्त कोशिश नहीं थी।

सुबह के सत्र की पहली बाऊट में भारतीय महिला मुक्केबाज़ लवलीना बोरपगोहेन मुकाबला कर रहीं थीं, जहां तीसरी वरीयता प्राप्त लवलीना बोरगोहाइन को चीन की गो हॉन्ग को एकपक्षीय फै़सले (Unonimous Decesion) से हार मिली।

अमित पंघल एशियन बॉक्सिंग ओलंपिक क्वालिफायर्स के अपने सेमीफाइनल बाऊट में हार गए
अमित पंघल एशियन बॉक्सिंग ओलंपिक क्वालिफायर्स के अपने सेमीफाइनल बाऊट में हार गएअमित पंघल एशियन बॉक्सिंग ओलंपिक क्वालिफायर्स के अपने सेमीफाइनल बाऊट में हार गए

अमित पंघल ने की अपनी रणनीति में बदलाव

पिछले साल के एशियाई चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में अपने प्रतिद्वंदी को हराने वाले अमित पंघल ने रिंग में प्रवेश किया, जबकि दूसरी ओर हू जियांगुआन को वापसी की तलाश थी।

भारतीय मुक्केबाज़ शुरू से ही फ्रंट फुट पर मुक्केबाज़ी कर रहे थे और हू जियांगुआन के शरीर और चेहरे पर सटीक शॉट लगाकर कुछ शुरुआती सफलता हासिल की।

चीनी मुक्केबाज अमित पंघल के शरीर को निशाना बना रहे थे और उन्होंने बेैक फुट पर लड़ते हुए अधिकांश सटीक शॉट लगाए।

जजों ने इस राउंड का फैसला चीन के मुक्केबाज़ के पक्ष में सुनाया।

पहले राउंड में पीछे रहने के बाद अमित ने काफी आक्रामक शुरुआत की। उन्होंने अच्छे पंच थ्रो किए लेकिन उनके प्रतिद्वंदी मुक्केबाज़ के गार्ड काफी मज़बूत रहे और अमित स्कोरिंग पंच लगाने में नाकाम रहे।

दोनों ही मुक्केबाज़ों ने आखिरी राउंड में आर या पार वाली शुरुआत की। दोनों ही खेमों से अच्छे पंच निकलते हुए दिखाई दिए लेकिन इस राउंड में क्लिंचिंग थोड़ी ज्यादा हुई। अमित का एक राइट अपरकट काफी उम्दा रहा। वहीं, चीन के जियांगउन के पंच सटीक और ज्यादा अच्छे रहे। जजों ने स्प्लिट निर्णय के ज़रिए चीन के मुक्केबाज़ के पक्ष में सुनाया।

एशिया/ओशिनिया ओलंपिक बॉक्सिंग क्वालिफ़ायर्स के सेमीफाइनल मुकाबले में हार के बाद अमित पंघल ने ओलंपिक चैनल से कहा “मैंने जीत की रणनीति के साथ रिंग में प्रवेश किया। मैं पहले दो राउंड में पीछे हो गया लेकिन तीसरे राउंड में वापस की, लेकिन क्योंकि मैं शुरुआती दो मुकाबले हार गया था इसलिए अपने किए गए प्रयासों के बावजूद मैं हार गया।

जब अमित ने उनके प्रतिद्वंदी के द्वारा स्टांस बदलने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, “यह मुझे बहुत परेशान नहीं कर सका, क्योंकि मैंने दोनों स्टांस के लिए अभ्यास किया था। मेरे पास दोनों रुखों के खिलाफ लड़ने की क्षमता है: साउथपॉ और ऑर्थोडॉक्स (बाएं हाथ और दाएं हाथ की बॉक्सिंग)। इसने यहां मेरी काफी मदद की।”

टोक्यो 2020 के बारे में बोलते हुए अमित ने कहा, "मैं बेहतर बनने की कोशिश करूंगा और अपनी रणनीति को हर मुक्केबाज़ के लिए बेहतर करूंगा। मैं मुकाबलों के वीडियो देखकर अपने आप को उपयुक्त रूप से तैयार करने की कोशिश करूंगा।”

सेमीफाइनल में लोवलिना बोरगोहेन को मिली हार

वुमेंस वेल्टरवेट का यह सेमीफाइनल मुकाबला चीन की तीसरी वरीयता प्राप्त गो हॉन्ग और भारत की दूसरी वरीयता प्राप्त लवलीना बोरगोहेन के बीच शुरू हुआ। 

ब्लू कॉर्नर पर काबिज़ भारत की लवलीना ने अपनी प्रतिद्वंदी मुक्केबाज़ के खिलाफ अच्छी शुरुआत की लेकिन यह नाकाफी रहा। चीन की बॉक्सर की स्ट्रैटजी काफी बेहतर रही और शुरुआती राउंड में स्प्लिट निर्णय से गो हॉन्ग ने बढ़त बना ली।

भारत का सेमीफाइनल का यह पहला बाऊट होने के कारण सभी को बहुत उम्मीदें लवलीना से बनी हैं। हालांकि वह उस अपेक्षा के मुताबिक प्रदर्शन करने में असफल रहीं। चीनी ताइपे की मुक्केबाज़ के पंच लवलीना पर काफी अच्छे कनेक्ट हुए। जजों ने 5-0 से एक पक्षीय निर्णय गो हॉन्ग के पक्ष में सुनाया।

पहले दो राउंड की तरह ही गू हांग के पंच तीसरे राउंड में भी सटीक लगे। उनकी तकनीक का बेहतर रही और उन्होंने लगातार लवलीना के अटैक पर काउंटर पंच करने की अपनी योजना पर चलना जारी रखा। जजों ने एकपक्षीय निर्णय के ज़रिए चीन की मुक्केबाज़ को विजेता घोषित किया।

बॉक्सिंग क्वालिफ़ायर्स का सेमीफाइनल मुकाबला हारने के बाद लवलीना ने ओंलपिक चैनल से बात करते हुए कहा "मैंने अपनी पूरी कोशिश की, मैंने वही किया जो मेरे कोचों ने मुझे निर्देश दिया। भविष्य में मैं इस पर काम करूंगी, यह मुकाबला हमारी योजना के अनुसार नहीं गया। मैं पहले ही टोक्यो 2020 के लिए टिकट हासिल कर चुकी हूं लेकिन मैं इस टूर्नामेट में गोल्ड हासिल करना चाहती थी। हालांकि ऐसा नहीं हुआ। निश्चित रूप से मैं ओलंपिक में पदक जीतने की पूरी कोशिश करूंगी।

कब और कहां देख सकते हैं बॉक्सिंग ओलंपिक क्वालिफ़ायर ?

आप एशिया/ओशिनिया बॉक्सिंग क्वालिफ़िकेशन का सीधा प्रसारण एक्सक्लूसिव तौर पर ओलंपिक चैनल पर देख सकते हैं, साथ ही हमारे फ़ेसबुक पेज पर भी इसका आनंद उठा सकते हैं। सुबह के सत्र की शुरुआत भारतीय समयनुसार दोपहर 2.30 बजे से होती है, जबकि शाम का सत्र भारतीय समयनुसार 8.30 बजे से प्रस्तावित है।

साथ ही साथ आप ओलंपिक चैनल पर रोज़ाना इंग्लिश और हिन्दी में लाइव ब्लॉग के ज़रिए भी सारे मुक़ाबलों से रु-ब-रु हो सकते हैं।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!