क्वार्टरफाइनल की मजबूत दावेदार हैं उच्च वरीयता प्राप्त लवलीना बोर्गोहेन और पूजा रानी

भारतीय मुक्केबाजी दल के छह प्रतिभागी ओलंपिक में जगह बनाने के इरादे से रविवार को बॉक्सिंग रिंग में उतरेंगे।

लवलिना बोर्गोहेन (Lovlina Borgohain), सतीश कुमार (Satish Kumar) और पूजा रानी (Pooja Rani) उन छह भारतीय मुक्केबाजों में शामिल हैं, जो रविवार को अपने 2020 ओलंपिक बर्थ को सुनिश्चित करने के लिए रिंग में उतरेंगे, जहां एशियाई मुक्केबाजी ओलंपिक क्वालिफायर धीरे-धीरे अपने अंतिम पड़ाव तक पहुंच रहा है।

शनिवार को ओलंपिक में पदक की उम्मीद एमसी मैरीकॉम (MC Mary Kom) और अमित पंघल (Amit Panghal)ने अपने-अपने वर्ग में जीत दर्ज कर, छह भारतीयों को क्वार्टर फाइनल में जगह पक्की कर दी।

पूजा रानी और लवलीना बोर्गोहेन से बेहतर की उम्मीद

महिलाओं की मुक्केबाजी में पूजा रानी अपने मिडिलवेट (69-75 किग्रा) वर्ग में थाईलैंड की पोर्ननीपा चुटी (Pornnipa Chutee) के खिलाफ अपने ओलंपिक क्वालिफाइंग अभियान की शुरुआत करेंगी, जबकि होनहार लवलीना बोर्गोहेन (Lovlina Borgohain) उज़बेकिस्तान की मुक्केबाज़ माफ़तुनाख़ोन मेलीवा (Maftunakhon Melieva) के ख़िलाफ़ वेल्टरवेट (64-69 किग्रा) कैटेगिरी में रिंग में उतरेंगी।

पूजा रानी और लोवलिना बोर्गोहाइन को अपने मिडिलवेट और वेल्टरवेट वर्ग में क्रमश: चौथे और दूसरे स्थान पर रखा गया है, और दोनों का मुकाबला अनसीडेड विरोधियों से होगा।

पिछले साल अक्टूबर में होने वाले ओलंपिक टेस्ट इवेंट में स्वर्ण पदक विजेता पूजा रानी ने राष्ट्रीय ट्रायल में शानदार प्रदर्शन किया, जिसमें उन्होंने हमवतन नूपुर और इंद्रजा को हराकर एशियाई क्वालिफिकेशन इवेंट में भाग लिया।

पोर्ननीपा चुटी को थाईलैंड की होनहार प्रतिभाओं में से एक माना जाता है, लेकिन एशियाई चैंपियनशिप की स्वर्ण पदक विजेता पूजा रानी का सामना करना निश्चित रूप से 19 वर्षीय के लिए एक कठिन चुनौती होगी। पूजा रानी और पोर्ननीपा चुटी ने अपने पहले राउंड में बाई हासिल की थी, जिसके कारण क्वार्टर फाइनल मुकाबला बर्थ-अस्सिटिंग बाउट हो गया है।

जबकि लवलीना बोर्गोहेन को महिलाओं के वेल्टरवेट वर्ग के पहले दौर में बाई मिली थी, जबकि उनकी प्रतिद्वंद्वी माफ़तुनाख़ोन मेलीवा (Maftunakhon Melieva) को क्वार्टर फाइनल में पहुंचने के लिए जापान की कीटो माई को हराना पड़ा।

क्वालिफिकेशन टूर्नामेंट में सर्वोच्च स्थान पाने वाली भारतीय महिला मुक्केबाज और अपनी श्रेणी में तीसरी सबसे ऊंची श्रेणी में आने वाली लवलीना बोर्गोहेन सेमीफाइनल में जगह बनाने के लिए फेवरेट मानी जा रही हैं।

माफ़तुनाख़ोन मेलीवा ने पिछले साल वोल्नोवा पुरस्कार महिला टूर्नामेंट में एक सनसनीखेज अभियान के साथ आने की घोषणा की थी, जहां उन्होंने एएसबीसी चैंपियन नूरशैवा का सामना किया था। इसलिए भारतीय विश्व चैम्पियनशिप की कांस्य पदक विजेता को आसानी से आगे बढ़ने की उम्मीद लगाई जा रही है।

सतिश कुमार के सामने होगी कड़ी चुनौती

सुपर-हेवीवेट (+91 किग्रा) कैटेगिरी में भारत के सतीश कुमार (Satish Kumar) की टक्कर मंगोलिया के दैईवी ओटगोनबयार (Daivii Otgonbayar) से होगी। जहां अनुभवी सतीश कुमार अपना पहला एशियाई मुक्केबाजी ओलंपिक क्वालिफायर मैच खेलेंगे। ओटागोनबयार ने 2015 में मंगोलियाई मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीता था। इस मैच में जीतने वाला मुक्केबाज़ ओलंपिक बर्थ सुनिश्चित कर लेगा।

दैईवी ओटगोनबयार ने 2014 के एशियाई खेलों में हैवीवेट श्रेणी (91 किग्रा) में प्रतिस्पर्धा किया था, जहां वो क्वार्टर फाइनल से आगे नहीं जा सके थे। हालाँकि मंगोलियाई सुपरवेट मुक्केबाज़ तैयार है और वो सतीश कुमार के लिए एक कठिन चुनौती पेश करने की उम्मीद कर रहे हैं।

पूर्व राष्ट्रमंडल और एशियाई खेलों में पदक विजेता और चौथी वरीयता प्राप्त सतीश कुमार ने जॉर्डन पहुंचने के लिए राष्ट्रीय ट्रायल में हमवतन नरेंद्र से बेहतर प्रदर्शन किया था। सुपर हैवी (+ 91 किग्रा) श्रेणी में जगह बनाने के लिए केवल चार बर्थ होने के कारण 6'2 " लंबे ऊंचे कद का ये मुक्केबाज़ रविवार को रिंग में अपना सब कुछ झोंक देने के इरादे से उतरेगा।

विकास कृष्ण लगातार तीसरी बार ओलंपिक गेम्स में शिरकत करते दिखाई देंगे 
विकास कृष्ण लगातार तीसरी बार ओलंपिक गेम्स में शिरकत करते दिखाई देंगे विकास कृष्ण लगातार तीसरी बार ओलंपिक गेम्स में शिरकत करते दिखाई देंगे 

विकास कृष्ण, सचिन और आशीष कुमार से आगे बढ़ने की उम्मीद

शुरुआती राउंड में बाई मिलने के बाद, सचिन कुमार (Sachin Kumar) ने राउंड ऑफ 16 में समोआ के डी लोओपो (Dee Loapo) को हराकर अपने लाइट हेवीवेट (75-81 किग्रा) वर्ग में शानदार शुरुआत की।

सचिन कुमार रविवार क्वार्टर फाइनल में चीन के चेन डैक्सिंग से भिड़ेंगे, जिन्होंने अंतिम दौर में किर्गिस्तान के तीसरे वरीय एरकिन एडिलबेक उलु को हाराया। लाइट हेवीवेट श्रेणी से चार बर्थ होने के साथ, क्वार्टर फाइनल में विजेता खिलाड़ी को 2020 के ओलंपिक में जगह दे दी जाएगी।

आशीष कुमार का अब तक एशियाई मुक्केबाजी ओलंपिक क्वालिफायर में दबदबा रहा है, जिसमें चीनी ताइपे के चिया-वेई कान (Chia-Wei Kan) और चौथी वरीयता प्राप्त बेखजीत उलु ओमुरबेक के खिलाफ सर्वसम्मत फैसलों के साथ शानदार जीत दर्ज की है।

वो पुरुषों के मिडलवेट (69-75 किग्रा) वर्ग में इंडोनेशिया के मुस्किता मैखेल रॉबर्ड (Muskita Maikhel Roberrd) के खिलाफ उतरेंगे। जहां आशीष कुमार की पहली बड़ी चुनौती होगी, वहीं क्वालिफायर में इंडोनेशियाई खिलाड़ी को अब तक किसी भी वरीयता प्राप्त प्रतिद्वंद्वी का सामना नहीं करना पड़ा है।

पुरुषों के मिडिलवेट में एशियाई क्वालिफिकेशन इवेंट से पांच बर्थ हैं, जिसका मतलब है कि क्वार्टर फाइनल में हारने वाले को भी चार सेमीफाइनलिस्ट के अलावा ओलंपिक बर्थ मिलेगा।

अनुभवी विकास कृष्ण (Vikas Krishan) रविवार को भी एक्शन में रहेंगे, जहां वो तीसरी बार 2020 के ओलंपिक बर्थ की तलाश में हैं। विकास पेशेवर मुक्केबाजी में जाने से पहले ओलंपिक पदक के लिए आखिरी कोशिश करना चाहते हैं। विकास कृष्ण अपने वेल्टरवेट (63-69 किग्रा) श्रेणी में अब तक सहज रहे हैं।

पहले राउंड में बाई मिलने के बाद, विकास कृष्ण ने किर्गिस्तान के नूरसुल्तान ममताली को एक सर्वसम्मत निर्णय से हराया। वह अगले क्वार्टर फाइनल में तीसरी वरीयता प्राप्त जापानी सीवोनर्स क्विंसी मेन्सा ओकाजावा के खिलाफ उतरेंगे। पुरुषों की वेल्टरवेट श्रेणी में ओलंपिक के लिए पांच बर्थ हैं।

एशियाई मुक्केबाजी ओलंपिक क्वालिफायर में आगे का सफर

अपने अपने क्वार्टर फाइनल मैच जीतने के बाद लवलीना बोर्गोहेन को अपने सेमीफाइनल मैच में चीन की दूसरी वरीयता प्राप्त गु होंग से भिड़ने की उम्मीद है, जबकि पूजा रानी सेमीफाइनल में शीर्ष वरीयता प्राप्त ली कियान के खिलाफ मुकाबला कर सकती है।

सतीश कुमार को अपने अगले दौर में कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ सकता है जहां वह उज्बेकिस्तान के शीर्ष वरीय बखोदिर जलोलोव के खिलाफ रिंग में उतर सकते हैं।

विकास कृष्ण सेमीफाइनल में कजाखस्तान के दूसरी वरीयता प्राप्त अबलाखान जुसुपोव से भिड़ सकते हैं, जबकि आशीष कुमार सेमीफाइनल में फिलीपींस के शीर्ष वरीयता प्राप्त यूमीर मारियाल का सामना कर सकते हैं।

कब और कहां देख सकते हैं बॉक्सिंग ओलंपिक क्वालिफायर ?

आप एशिया/ओशियिना बॉक्सिंग क्वालिफ़िकेशन का सीधा प्रसारण एक्सक्लूसिव तौर पर ओलंपिक चैनल पर देख सकते हैं, साथ ही हमारे फ़ेसबुक पेज पर भी इसका आनंद उठा सकते हैं। शाम का सत्र भारतीय समयनुसार 8.30 बजे से प्रस्तावित है।

साथ ही साथ आप ओलंपिक चैनल पर रोज़ाना इंग्लिश और हिन्दी में लाइव ब्लॉग के ज़रिए भी सारे मुक़ाबलों से रु-ब-रु हो सकते हैं।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!