टोक्यो 2020 में जगह बनाने वाले मनीष कौशिक बने 9वें भारतीय मुक्केबाज़

एक और बॉक्स ऑफ़ फ़ाइनल में भारत के लाइट हेवीवेट पुरुष मुक्केबाज़ सचिन कुमार अपनी बाऊट हार गए

लेखक सैयद हुसैन ·

बुधवार को जॉर्डन की राजधानी अम्मान में एशियन/ओशिनिया बॉक्सिंग क्वालिफ़ायर्स के बॉक्स ऑफ़ फ़ाइनल को जीतकर भारतीय मुक्केबाज़ मनीष कौशिक (Manish Kaushik) ने 2020 ओलंपिक में स्थान पक्का कर लिया। मनीष को ये जीत स्प्लिट निर्णय से मिली और वह टोक्यो 2020 का टिकट पाने वाले 9वें मुक्केबाज़ बन गए।

इस भारतीय मुक्केबाज़ को ओलंपिक के लिए क्वालिफ़ाई करने में कड़ी चुनौतियों को पार करना पड़ा। हालांकि आख़िरी राऊंड में मनीष कौशिक को हार मिली थी लेकिन उन्होंने उससे पहले इतने अंक अर्जित कर लिए थे कि जजों को वह अपने पक्ष में निर्णय करने के लिए मजबूर कर सकें।

जीत के बाद ओलंपिक चैनल से बात करते हुए मनीष कौशिक ने कहा, ‘’मेरा सपना था कि मैं भी ओलंपिक में जाऊं, और आज मैंने वह सच कर दिखाया है। ये मेरे और मेरे परिवार सभी के लिए सपना सच होने जैसा है। इसमें मेरे कोच की भी भूमिका बहुत ज़्यादा है।‘’

एशियन बॉक्सिंग क्वालिफ़ायर्स में बॉक्स ऑफ़ बाऊट में जीत के साथ मनीष कौशिक ने टोक्यो 2020 में बनाई जगह

बॉक्स ऑफ़ जीत के साथ मनीष ने टोक्यो 2020 का टिकट किया हासिल

मनीष कौशिक के सामने बॉक्स ऑफ़ फ़ाइनल में ऑस्ट्रेलिया के हैरी गार्साइड (Harry Garside) थे, ये एक तरह से 2018 कॉमनवेल्थ गेम्स के 60 किग्रा भारवर्ग के फ़ाइनल का एक्शन रिप्ले था, जहां जीत ऑस्ट्रेलियाई मुक्केबाज़ को मिली थी।

शुरुआती राउंड में दोनों ही खेमों से अच्छे लेकिन कम पंच थ्रो किए गए। मनीष के दो राइट जैब काफी अच्छे कनेक्ट किए। उनके प्रतिद्वंदी हैरिसन गार्साइट ने कोशिश अच्छी की लेकिन पंच अधिक नहीं कनेक्ट कर पाए। जजों ने 4-1 से स्प्लिट निर्णय मनीष कौशिक के पक्ष में सुनाया।

दूसरे राउंड में दूसरी वरीयता हासिल ऑस्ट्रेलियाई मुक्केबाज़ ने कमाल की वापसी करते हुए कुछ अच्छे और तेज़ आक्रमण किए। हालांकि इनका जवाब देने की मनीष ने कोशिश तो पूरी की लेकिन जजों ने 1-4 से फ़ैसला उनके ख़िलाफ़ सुनाया।

तीसरे और आख़िरी राउंड में ऑस्ट्रेलिया के मुक्केबाज़ बहुत आक्रामक रहे। उन्होंने कुछ हार्ड हिटिंग पंच लगाए। उनके एक राइट स्ट्रेट ने मनीष को हिला दिया। लेकिन इसके बाद भारत के मनीष ने भी दो-तीन अच्छे पंच कनेक्ट किए। जजों ने स्प्लिट निर्णय (4-1) से मनीष कौशिक के पक्ष में सुनाया।

सचिन कुमार का सफ़र बॉक्स ऑफ़ में थम गया

भारत के एक और मुक्केबाज़ सचिन कुमार के पास भी बॉक्स ऑफ़ फ़ाइनल के ज़रिए ओलंपिक टिकट हासिल करने का मौक़ा था। लेकिन लाइट हेवीवेट के इस मुक़ाबले में उन्हें तजाकिस्तान के शाब्बोस नेग्मातुल्लोव के हाथों हार का सामना करना पड़ा।

दोनों ही मुक्केबाज़ों के बीच शुरुआत काफी आक्रामक हुई। सचिन एक हार्ड हिंटिंग मुक्केबाज़ हैं, वह तगड़े पंच लगाने में भरोसा रखते हैं। नेग्मातुल्लोव काफी अटैकिंग रहे। पहले मिनट के बाद साउथपॉ बॉक्सर सचिन डिफेंसिव खेलते नज़र आए। जजों ने कड़े मुकाबले को 3-2 के स्प्लिट निर्णय से शाब्बोस नेग्मातुल्लोव के पक्ष में सुनाया।

शुरुआती राउंड में पीछे रहने के बाद इस राउंड के शुरू होते ही सचिन ने दो अच्छे हुक पंच लगाए। इसके बाद दोनों ही मुक्केबाज़ क्लिंचिंग में जाते नज़र आए। नेग्मातुल्लोव ने बॉडी पंच और एक अच्छा राइट स्ट्रेट लगाया। जजों ने एक पक्षीय निर्णय नेग्मातुल्लोव के पक्ष में सुनाया।

तीसरे और आख़िरी राउंड में भी सचिन कुछ खास नहीं कर पाए, वह काफी थके हुए नज़र आए। नेग्मातुल्लोव ने अच्छे कनेक्टिंग पंच लगाए और जजों ने एक पक्षीय निर्णय (5-0) से तज़ाकिस्तान के मुक्केबाज़ नेग्मातुल्लोव के पक्ष में सुनाया। इसी के साथ सचिक ओलंपिक टिकट हासिल करने से चूक गए।

कब और कहां देख सकते हैं बॉक्सिंग ओलंपिक क्वालिफ़ायर ?

आप एशिया/ओशिनिया बॉक्सिंग क्वालिफ़िकेशन का सीधा प्रसारण एक्सक्लूसिव तौर पर ओलंपिक चैनल पर देख सकते हैं, साथ ही हमारे फ़ेसबुक पेज पर भी इसका आनंद उठा सकते हैं। सुबह के सत्र की शुरुआत भारतीय समयनुसार दोपहर 2.30 बजे से होती है, जबकि शाम का सत्र भारतीय समयनुसार 8.30 बजे से प्रस्तावित है।

साथ ही साथ आप ओलंपिक चैनल पर रोज़ाना इंग्लिश और हिन्दी में लाइव ब्लॉग के ज़रिए भी सारे मुक़ाबलों से रु-ब-रु हो सकते हैं।