मैरी कॉम और पंघल ने ओलंपिक का टिकट हासिल करने की शुरू की कवायद

शनिवार को भारत के शीर्ष ओलंपिक के उम्मीदवार क्वालिफ़ायर्स में अपने अभियान की शुरुआत करेंगे।

लेखक विवेक कुमार सिंह ·

लंदन ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता मैरी कॉम (Mary kom) (51 किग्रा.) और विश्व चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता अमित पंघल (Amit Panghal) (52 किग्रा) ने 2020 ओलंपिक की टिकट की तलाश में शनिवार को जॉर्डन के अम्मान में एशियाई मुक्केबाजी ओलंपिक क्वालीफायर के रिंग में उतरेंगे।

पहले दौर में अकाइलबेक एसेनबेक उलु (Akylbek Esenbek Uulu) को हराने वाले पुरुषों के फेदरवेट (52-57 किग्रा) में गौरव सोलंकी (Gaurav Solanki), मिराज़िज़बेक मिर्ज़ाखालिलोव (Mirazizbek Mirzakhalilov) के खिलाफ रिंग में उतरेंगे।

अमित पंघल और गौरव सोलंकी सुबह के सत्र में रिंग में उतरेंगे, जबकि मैरी कॉम शाम के सत्र में एक्शन करती नजर आएंगी।

अमित पंघल को अच्छी शुरूआत की उम्मीद

वर्तमान में भारतीय मुक्केबाजी में सबसे बड़े नामों में से एक, अमित पंघल शानदार फॉर्म में हैं। एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता मंगोलिया के एनखमनदाख खारखु (Enkhmanadakh Kharkhuu) के खिलाफ ओलंपिक में पहली बार अपनी उपस्थिति दर्ज करने के इरादे से रिंग में उतरेंगे, जिन्हें पहले दौर में तजाकिस्तान के शुहरत सबज़ालिव (Shuhrat Sabzaliev) के खिलाफ बाई मिली थी।

अमित पंघाल ने मेंस प्लाईवेट वर्ग में किया शानदार प्रदर्शन। फोटो: बीएफआई

इस में कोई शक नहीं है कि अमित पंघल अपने भारवर्ग में शीर्ष वरीयता प्राप्त हैं और उन्हें पहले दौर में बाई भी मिल चुकि है। भले ही विश्व चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता इस बाऊट को जीतने के लिए फेवरेट होंगे, लेकिन वो उस खतरे से सावधान रहेंगे जो एनखमनदाख खारखु के पास है।

इंडियन मुक्केबाज़ का खरखू के खिलाफ 1-1 का रिकॉर्ड है और अमित पंघल अम्मान में आमने सामने होने पर मंगोलियाई के खिलाफ अपनी पिछली हार का बदला लेने के लिए उत्सुक होंगे।

गौरव सोलंकी अपना दबदबा जारी रखना चाहेंगे

गौरव सोलंकी एशियाई मुक्केबाजी ओलंपिक क्वालिफायर में पहले भारतीय मुक्केबाज़ थे, जिन्होंने शानदार प्रदर्शन कर सर्वसम्मति से जीत हासिल की थी।

वो अब मिर्ज़ाखिलालोव मिर्ज़िज़बेक के खिलाफ उतरेंगे, जिन्हें पहले दौर में बाई मिली थी। उज्बेकिस्तान के मुक्केबाज़ के खिलाफ भारतीय मुक्केबाज़ को जीत मिली तो वो ओलंपिक क्वालीफिकेशन की जीत में शामिल होगी।

मैरी कॉम का अंतिम ओलंपिक अभियान

भारतीय महिला मुक्केबाजी की दिग्गज खिलाड़ी मैरी कॉम को एशियाई मुक्केबाजी ओलंपिक क्वालिफायर में अपने भार वर्ग में भारत का प्रतिनिधित्व करने का अधिकार हासिल करने के लिए पिछले प्रतिद्वंद्वी निकहत ज़रीन (Nikhat Zareen) से मुक़ाबला करना होगा।

मैरी कॉम ने बताया कि ओलंपिक मेडल ने कैसे उनकी ज़िन्दगी बदल डाली

"20 साल मुक्केबाज़ी करना आसान नहीं है" - 6 बार की भारतीय वर्ल्ड चैंपियन और ...

छह बार की विश्व चैंपियन को दूसरी वरीयता मिली है और वो पहले दौर में न्यूजीलैंड के बेनी टैस्मिन (Benny Tasmyn) के खिलाफ उतरेंगी। विश्व चैंपियनशिप में आठ पदक जीतने वाली इतिहास की एकमात्र (पुरुष या महिला) मुक्केबाज हैं, ये मैरीकॉम का ओलंपिक में अपने देश का प्रतिनिधित्व करने के लिए अंतिम मौका होगा, क्योंकि अब 2024 ओलंपिक में प्रतिस्पर्धा करने के लिए उनकी योग्य उम्र नहीं होगी।

2020 के ओलंपिक के लिए क्वालिफाई करने के लिए उन्हें सिर्फ दो जीत की ज़रुरत है, मैरी कॉम अपनी शक्ति के दम पर सबकुछ करने के लिए दृढ़ संकल्पित हैं, जो जापान में ओलंपिक स्वर्ण की तलाश में है।

एशियन बॉक्सिंग ओलंपिक क्वालिफायर में आगे का सफर

एनखमनदाख खरखु के खिलाफ अमित पंघल की एक जीत भारतीय मुक्केबाज को क्वार्टर फाइनल के लिए क्वालिफाई करा देगी, जहां वो 2020 ओलंपिक में स्पॉट के लिए या तो फिलीपींस के कार्लो पलम (Carlo Paalam ) या अफगानिस्तान के रामिश रहमानी (Ramish Rahmani) से भिड़ेंगे।

अगर गौरव सोलंकी को जीत मिलती है, तो वो हांगकांग के यू सिंग त्सो या ताजिकिस्तान के सगीज़ोव बख़्तोवार में से एक के खिलाफ मुक्केबाजी करेंगे।

मैरी कॉम फिलीपींस की आयरिश मैग्नो या हांगकांग की एयू यिन यिन विनी के खिलाफ लड़ेंगी, उसके लिए उन्हें पहले बेनी टैस्मिन को हराना होगा।

कब और कहां देख सकते हैं बॉक्सिंग ओलंपिक क्वालिफ़ायर्स ?

आप एशिया/ओशियिना बॉक्सिंग क्वालिफ़िकेशन का सीधा प्रसारण एक्सक्लूसिव तौर पर ओलंपिक चैनल पर देख सकते हैं, साथ ही हमारे फ़ेसबुक पेज पर भी इसका आनंद उठा सकते हैं। सुबह के सत्र की शुरुआत भारतीय समयनुसार दोपहर 2.30 बजे से होती है, जबकि शाम का सत्र भारतीय समयनुसार 8.30 बजे से प्रस्तावित है।

साथ ही साथ आप ओलंपिक चैनल पर रोज़ाना इंग्लिश और हिन्दी में लाइव ब्लॉग के ज़रिए भी सारे मुक़ाबलों से रु-ब-रु हो सकते हैं।