एशियन बॉक्सिंग क्वालिफ़ायर्स में भारत के विकास कृष्ण की दमदार जीत

चौथे दिन एक अन्य मुक़ाबले में नमन तंवर के तौर पर अम्मान में चल रही प्रतियोगिता में भारत को पहली हार मिली

लेखक सैयद हुसैन ·

जॉर्डन के अम्मान में शुक्रवार को एशियन बॉक्सिंग क्वालिफ़ायर्स का चौथा दिन था, जो भारत के लिए मिला जुला रहा। एक तरफ़ जहां विकास कृष्ण (Vikas Krishan) की वेल्टरवेट बाऊट में जीत हुई तो वहीं हेवीवेट मुक़ाबले में नमन तंवर (Naman Tanwar) को हार का सामना करना पड़ा।

विकास कृष्ण ने तो बेहतरीन अंदाज़ में अपना मुक़ाबला जीता और अपने विरोधी को तीनों ही राउंड्स में एकतरफ़ा शिकस्त दी। पहले राउंड में तो फिर विकास ने थोड़ा रहम दिखाया लेकिन दूसरे राउंड में उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी को एक बार नहीं बल्कि दो बार नीचे गिराया। आख़िरी राउंड में भी विकास ने अपने बेहतरीन अनुभव का नमूना पेश करते हुए मुक़ाबले को आसानी के साथ अपने पक्ष में कर लिया।

जीत के बाद ओलंपिक चैनल से बातचीत में विकास कृष्ण ने कहा, ‘’बिल्कुल इसी तरह मैं मुक़ाबला जीतना चाहता था, क्योंकि मेरे दूसरे प्रतिद्वंदी भी इस बाऊट को देख रहे होंगे और उन्हें संदेश चला गया होगा कि ‘ये तो राक्षस है, इससे दूर रहो’। और यही संदेश था जो मैं उन्हें देना चाहता था।‘’

विकास कृष्ण लगातार तीसरी बार ओलंपिक गेम्स में शिरकत करते दिखाई देंगे 

विकास कृष्ण ने एक बार फिर ख़ुद को साबित किया

भारत के स्टार मुक्केबाज़ विकास कृष्ण की नज़र अपने लगातार तीसरे ओलंपिक पर है, और अपनी इस बाऊट में भी वह पूरी तरह से किर्गिस्तानी मुक्केबाज़ नूरसुल्तान मामातली (Nursultan Mamataly) पर हावी रहे।

पहले राउंड में दो बार के ओलंपियन विकास अपने प्रतिद्वंदी को मानो परख रहे थे, वह अपने हाथ और ठुड्डी को नीचे करते हुए खेल रहे थे। जैसे जैसे खेल आगे बढ़ा विकास ने अपना अनुभव दिखाते हुए विरोधी को पूरी तरह से पस्त कर दिया था।

उनकी रणनीति काम रही थी क्योंकि उनके कुछ अपरकट बिल्कुल सटीक बैठ रहे थे, और साथ ही साथ लेफ़्ट क्रॉस का प्रहार भी ज़ोरदार था, जिसने उन्हें पहला राउंड 5-0 से जिताया।

नूरसुल्तान मामातली को फ़र्श पर गिराया

विकास ने नूरसुल्तान दाएं काउंटर पंच के ज़रिए नूरसुल्तान को गिरा भी दिया था, हालांकि इस बार रेफ़री ने हैरान किया।

लेकिन तुरंत ही दाएं हाथ से स्ट्रेट प्रहार के साथ विकास ने नूरसुल्तान को चौंका दिया था और इस बार रेफ़री ने कोई ग़लती नहीं की।

विकास कृष्ण लगातार नूरसुल्तान पर अपना शिकंजा कसते जा रहे थे, और एक बार फिर 5-0 से दूसरा राउंड भी अपने नाम कर गए।

आख़िरी राउंड भी पूरी तरह से विकास कृष्ण के इशारे पर ही चल रहा था, भारतीय वेल्टरवेट मुक्केबाज़ ने नूरसुल्तान को बिल्कुल मजबूर कर दिया था और फिर एकपक्षीय फ़ैसले (Unanimous Decision) के ज़रिए विकास को जजों ने विजेता घोषित किया।

इस जीत के साथ ही विकास कृष्ण एशियन बॉक्सिंग क्वालिफ़ायर्स के क्वार्टरफ़ाइनल में पहुंच गए हैं, जहां उनकी टक्कर जापानी मुक्केबाज़ कुंइसी ओकाज़ावा (Quincy Okazawa) से होगी। विकास की नज़र इस मुक़ाबले को जीतते हुए टोक्यो 2020 में अपना स्थान पक्का करने पर होगा।

एशियन बॉक्सिंग क्वालिफ़ायर्स में भारत की पहली हार

शाम के सत्र के अगले मुक़ाबले में भारत के नमन तंवर रिंग में थे, जहां हेवीवेट (81-91 किग्रा) कैटेगिरी में उन्हें सीरिया के आला घुनून (Alaa Ghousoon) से हार नसीब हुई।

दोनों ही मुक्केबाज़ों ने शुरुआत से ही लाजवाब प्रदर्शन किया, और एक दूसरे पर हावी होने की कोशिश में लगे थे।

नमन फ़्रंट फ़ुट पर खेल रहे थे और यही सीरियाई मुक्केबाज़ के हित में गया, जहां वह लगातार ही बाएं हाथ काउंटर से भारतीय मुक्केबाज़ पर हावी होते जा रहे थे।

दोनों के बीच ज़ोरदार टक्कर हुई और एक दूसरे के सिर टकराने की वजह से सीरियाई मुक्केबाज़ के बाईं आंख के ऊपर चोट भी आई लेकिन उसके बावजूद आला के प्रदर्शन और रवैये में कोई फ़र्क़ नहीं आया।

वह लगातार राउंड के ख़त्म होने तक आक्रामण ही करते जा रहे थे, और फिर नमन के ठुड्डी में एक ज़ोरदार हुक के साथ उन्होंने एकपक्षीय फ़ैसले से पहला राउंड जीता।

दूसरा राउंड भी एक बार फिर थोड़ा पारंपरिक मुक्केबाज़ी की तरह नज़र आ रहा था, लेकिन जैसे जैसे खेल आगे बढ़ रहा था सीरियाई मुक्केबाज़ का नियंत्रण भी बढ़ता जा रहा था।

सीरियाई मुक्केबाज़ ने बेहतरीन लेफ़्ट क्रॉस के साथ नमन पर प्रहार किया और उनके जैब्स का कोई जवाब भारतीय मुक्केबाज़ के पास नहीं था।

दूसरा राउंड भी आला ने एकपक्षीय फ़ैसले से जीता और इसी सिलसिले को वह तीसरे राउंड में भी जारी रखते हुए आसान जीत के साथ अगले दौर में प्रवेश कर गए, जबकि नमन का सफ़र यहीं थम गया।

कब और कहां देख सकते हैं बॉक्सिंग ओलंपिक क्वालिफ़ायर ?

आप एशिया/ओशियिना बॉक्सिंग क्वालिफ़िकेशन का सीधा प्रसारण एक्सक्लूसिव तौर पर ओलंपिक चैनल पर देख सकते हैं, साथ ही हमारे फ़ेसबुक पेज पर भी इसका आनंद उठा सकते हैं। सुबह के सत्र की शुरुआत भारतीय समयनुसार दोपहर 1.30 बजे से होती है, जबकि शाम का सत्र भारतीय समयनुसार 8.30 बजे से प्रस्तावित है।

साथ ही साथ आप ओलंपिक चैनल पर रोज़ाना इंग्लिश और हिन्दी में लाइव ब्लॉग के ज़रिए भी सारे मुक़ाबलों से रु-ब-रु हो सकते हैं।