चिली दौरे के अंत में शीर्ष पर रही भारत जूनियर महिला हॉकी टीम, स्टार बनकर उभरी ब्यूटी डूंगडुंग  

चिली को 2-1 से हराकर भारत ने दौरे पर बरकरार रखा नाबाद क्रम

लेखक दिनेश चंद शर्मा ·

सैंटियागो के प्रिंस ऑफ वेल्स कंट्री क्लब में सोमवार को भारत की जूनियर महिला हॉकी टीम ने कुछ ही घंटों में चिली के खिलाफ 2-1 जीत दर्ज कर, अपना दक्षिण अमेरिका का दौरा शीर्ष रहते हुए खत्म किया।

भारत की ओर से दोनों गोल ब्यूटी डुंगडुंग छठे और 26वें मिनट तथा चिली की फ्रांसिस्का तला ने 40वें मिनट ने हाफ टाइम में एक गोल करके स्कोर के अंतर को कुछ कम करने का प्रयास किया।

पिछले मैचों में मिली हार को देखते हुए चिली ने आक्रमण के इरादे से मैच शुरू किया। पहले दो मिनट के भीतर उन्होंने पेनल्टी कॉर्नर हासिल किया। भारत ने न केवल इसका सफलतापूर्वक बचाव किया, बल्कि तेज जवाबी हमला भी किया। डुंगडुंग ने बेहतरीन स्ट्राइक के साथ गोल दागते हुए भारत को शुरुआती बढ़त दिलाई।

भारतीय टीम दूसरे क्वार्टर में भी हावी रही और पहला पेनल्टी कार्नर अर्जित किया। डुंगडुंग ने सटीक खेल आक्रमण को गोल में तब्दील करते हुए भारत को एक और बढ़त दिला दी। पहले हाफ के अंत में चिली ने विपरीत छोर पर एक पेनल्टी कार्नर हासिल करने की कोशिश की, लेकिन भारत के बचाव के कारण वे विफल रहे।

ब्रेक के बाद चिली ने एक नई तरह शुरूआत की, क्योंकि उन्होंने हाफ टाइम में आधा स्कोर तो पाट लिया था।

इसलिए उन्होंने भारत की बैकलाइन पर दबाव बनाए रखा, लेकिन भारतीय टीम ने उनकी योजनाओं को विफल करने के लिए अपने आकार में रहते हुए और रक्षात्मक तरीके से काम किया। अंतिम क्वार्टर में मेजबान ने एक और पेनल्टी कॉर्नर अर्जित किया, लेकिन वो एक बार फिर से इसे गोल परिवर्तित करने में असफल रहे।

चिली दौरे के छठे और अंतिम मैच में अपनी छोटी जीत के साथ युवा भारतीय टीम ने नाबाद क्रम के साथ देश में वापसी करेगी। टीम ने चिली की राष्ट्रीय राजधानी सैंटियागो में पांच मैच जीते और एक मैच ड्रॉ रहा।

दिसंबर, 2019 में ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर मेजबान और न्यूजीलैंड के खिलाफ तीन देशों के टूर्नामेंट में भाग लेने के बाद यह उनका पहला दौरा था। यह एक महत्वपूर्ण दौरा था, क्योंकि इसने न केवल उन्हें प्रतिस्पर्धा करने का समय दिया, बल्कि इस साल के अंत में होने वाले जूनियर विश्व कप के लिए एक महत्वपूर्ण प्रमोचन मंच रूप में भी काम करेगा।