बिग बाउट लीग: अब तक की सारी जानकारी जो आपको जाननी चाहिए

मैरी कॉम और ज़रीन ने बिग बाउट लीग के ग्रुप स्टेज में अब तक एक बाउट भी नहीं हारी है।

लेखक सैयद हुसैन ·

पिछले कुछ हफ़्ते भारतीय बॉक्सिंग प्रेमियों के लिए शानदार रहे हैं, और अब बिग बाउट इंडियन बॉक्सिंग लीग की शुरुआत ने इसमें चार चांद लगा दिया है। जहां एम सी मैरीकॉम से लेकर अमित पंघल और कविन्दर बिष्ठ के साथ साथ कई स्टार मुक्केबाज़ अपने प्रदर्शन से सभी का दिल जीत रहे हैं। अब जब ग्रुप स्टेज का दौर ख़त्म हो गया है, ऐसे में चलिए एक नज़र डालते हैं कुछ दिग्गज मुक्केबाज़ों के अब तक के प्रदर्शनों पर।

मैरीकॉम, निकहत ज़रीन ने सभी को किया प्रभावित

महिलाओं के 51 किग्रा वर्ग में भारतीय दिग्गज मुक्केबाज़ एम सी मैरीकॉम और निकहत ज़रीन ने भी अभी तक शानदार प्रदर्शन किया है। बिग बाउट में अब तक इन दोनों ने ही अपने सभी मुक़ाबले जीते हैं, हालांकि इन दोनों का आमना-सामना मंगलवार (17 दिसंबर) को प्रस्तावित था। लेकिन 2012 ओलंपिक कांस्य पदक विजेता मैरीकॉम ने पीठ में चोट की वजह से इस मुक़ाबले से अपना नाम वापस ले लिया।

अब तक हुई इस लीग में ज़रीन का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देखने को मिला 2016 रियो ओलंपिक की पदक विजेता इंग्रिट वैलेंसिया के ख़िलाफ़, जहां भारतीय युवा मुक्केबाज़ ने शुरुआती लम्हों में ही ज़ोरदार एक के बाद एक पंच करते हुए कोलंबियाई मुक्केबाज़ को मैच से क़रीब-क़रीब बाहर ही कर दिया था। जिसके बाद आसानी से ज़रीन को इस मुक़ाबले में जीत नसीब हुई, इसके अलावा ज़रीन ने पिंकी रानी और राजेश कुमारी नरवाल को भी शिकस्त दी।

लंदन 2012 की ब्रॉन्ज़ मेडल विजेता मैरी कॉम डेंगू से रिकवर कर रही हैं और वह ट्रेनिंग के लिए इटली नहीं जाएंगी।

मैरी कॉम के लिए भी ये बिग बाउट शानदार जा रही है, मैरीकॉम ने अब तक वैलेंसिया और सविता पर जीत दर्ज की है। हालांकि मैरी कॉम की पीठ में लगी चोट ने उन्हें तीन बार इस टूर्नामेंट में खेलने से रोका भी है, लेकिन इसके बावजूद उनकी टीम पंजाब पैंथर्स ने सेमीफ़ाइनल में जगह बना ली है।

इन दोनों के अलावा इस बिग बाउट लीग में 24 वर्षीय मुक्केबाज़ सिमरनजीत कौर ने भी अपनी छाप छोड़ दी है।

60 किग्रा वर्ग में अपनी क़िस्मत आज़मा रहीं कौर ने अपनी टीम बेंगलुरु ब्रॉलर्स के लिए निरंतर अच्छा प्रदर्शन किया है। उन्होंने ग्रुप स्टेज में अपने सभी बाउट में जीत हासिल की है, जिसमें कौर ने निकोलेता पेटा और पिविलाओ बासुमात्री जैसी मुक्केबाज़ों को भी चारों ख़ाने चित किया है।

नवीन बूरा ने भी साबित की अपनी योग्यता

युवा मुक्केबाज़ नवीन बूरा के लिए बिग बाउट लीग अब तक शानदार जा रही है, उन्होंने पांच में से चार मुक़ाबलों में जीत दर्ज की है। बॉम्बे बुलेट्स की ओर से खेलते हुए इस मुक्केबाज़ ने अपने पहले मैच में 69 किग्रा वर्ग में 2010 कॉमनवेल्थ गेम्स के स्वर्ण पदक विजेता मनोज कुमार को सांस रोक देने वाले मुक़ाबले में शिकस्त दी।

हालांकि अगली बाउट में उन्हें 2014 कॉमनवेल्थ गेम्स के रजत पदक विजेता मंदीप जांगरा के हाथों हार झेलनी पड़ी। लेकिन इसके बाद शानदार वापसी करते हुए उन्होंने दिनेश डागर और दुर्योधन सिंह नेगी को मात दी, जिनका प्रदर्शन हाल ही में हुई एआईबीए वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप में प्रभावशाली रहा था।

नवीन बूरा लगातार इस बिग बाउट में शानदार प्रदर्शन करते जा रहे हैं, अगर उनका प्रदर्शन इसी तरह जारी रहा तो आने वाले वक़्त में वह भारत के एक बेहतरीन मुक्केबाज़ बनकर ऊभर सकते हैं।

विदेशी मुक्केबाज़ों का प्रदर्शन

भारत से बाहर के भी कुछ शानदार मुक्केबाज़ भी इस प्रतियोगिता में शामिल हैं, जिनमें वैलेंसिया, स्कॉट फ़ॉरेस्ट और एमान्युल रेईस जैसे दिग्गजों का नाम है। वैलेंसिया बॉम्बे बुलेट की कप्तान हैं और अब तक तीन मुक़ाबले जीत चुकी हैं, उन्हें मैरी कॉम और ज़रीन से हार भी मिली है। हालांकि बॉम्बे ग्रुप स्टेज में दूसरे नंबर पर रहते हुए सेमीफ़ाइनल में प्रवेश कर चुकी है।

पुरुष 91 किग्रा वर्ग में स्कॉट फ़ॉरेस्ट सबसे बड़ा नाम हैं, ग्रेट ब्रिटेन का ये मुक्केबाज़ अब तक चार बाउट में से दो में बाज़ी जीत चुका है। फॉरेस्ट ने अब तक एर्रगाशेव तिमुर और हर्षप्रीत को मात दी है, जिसके बाद ग्रुप स्टेज में उनकी टीम गुजरात जाएंट्स टॉप पर रही।