अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी में पूर्व विश्व विजेता को हराकर फाइनल में पहुंची नीरज

विश्व चैंपियन एलेसिया मेसियानो को हराकर इंडिया ओपन की मौजूदा स्वर्ण पदक विजेता नीरज ने उमाखानोव अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाज़ी के फाइनल में प्रवेश कर लिया है। 

लेखक रितेश जायसवाल ·

इंडिया ओपन की मौजूदा स्वर्ण पदक विजेता नीरज (57 किलो) ने शुक्रवार को 2016 विश्व चैंपियन एलेसिया मेसियानो को हराकर रूस के कासपियस्क में खेले जा रहे मागोमेद सलाम उमाखानोव स्मृति अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी टूर्नामेंट के फाइनल में प्रवेश कर लिया है।

स्ट्रैंद्जा मेमोरियल की ब्रॉन्ज़ मेडल विजेता नीरज ने 57 किग्रा में मेसियानो पर 3-2 की जीत के साथ खुद के लिए सिल्वर मेडल पक्का कर लिया। दोनों मुक्केबाजों के बीच मुकाबला बेहद करीबी रहा। हालांकि अंतिम राउंड में भारतीय मुक्केबाज के लगातार मारे गए मुक्कों ने उनकी जीत का सफर आसान कर दिया। 

वहीं, इससे पहले राष्ट्रमंडल खेलों के गोल्ड मेडल विजेता गौरव सोलंकी और 2019 इंडिया ओपन के सिल्वर मेडल विजेता गोविंद साहनी ने सेमीफाइनल में पहुंचकर भारत के लिए दो और पदक पक्के कर लिए। इंडिया ओपन के इस साल के ब्रॉन्ज़ मेडल विजेता गौरव ने गुरूवार को 56 किग्रा वर्ग में रूस के माकसिम चेरनीशेव को 3-2 से हराकर अंतिम चार में प्रवेश कर लिया। 

गौरव शुरुआत में रूसी प्रतिद्वंदी के खिलाफ सतर्क होकर खेले। लेकिन बाद में वह आक्रामक हो गए और लगातार मुक्के जड़कर जीत पक्की कर ली। इसी वर्ष जीबी मुक्केबाजी प्रतियोगिता में रजत पदक जीतने वाले गोविंद ने 49 किग्रा वर्ग में तजाकिस्तान के शेरमुखाम्मद रूस्तामोव को ढेर कर दिया। जिसके बाद रेफरी ने मैच रोककर भारतीय मुक्केबाज को विजेता घोषित कर दिया। यह टूर्नामेंट की पहली आरएससी (रेफरी स्टॉप द मैच) जीत थी।

गोविंद ने प्रतिद्वंदी पर शुरू से ही दबदबा बनाना शुरू किया और पूरे मैच के दौरान वह आक्रामकता से खेलते रहे। इसी वजह से रेफरी ने विपक्षी मुक्केबाज को देखते हुए तीसरे दौर में मुकाबले को रोक दिया। वहीं, आशीष इंशा 52 किग्रा वर्ग के क्वार्टर फाइनल में रूस के इस्लामितदिन अलीसोलतानोव से 1-4 से हार गए। जबकि पिछले साल के इंडिया ओपन गोल्ड मेडल विजेता संजीत को मैच के पहले दौर में माथे पर चोट लगने के कारण बाहर होना पड़ा और रूसी प्रतिद्वंदी डेनियल लुटाई टेक्निकल नॉकआउट हासिल करके अगले दौर में पहुंच गए।