चिराग शेट्टी और शरत कमल ने टोक्यो ओलंपिक को स्थगित करने के फैसले का किया स्वागत

भारतीय टेबल टेनिस दिग्गज़ों का भी मानना है कि ओलंपिक खेल को स्थगित करने से एथलीटों को तैयारी में और मदद मिलेगी।

लेखक विवेक कुमार सिंह ·

COVID-19 के प्रकोप के कारण दुनिया लगभग थम सी गई है। जिसके बाद मंगलवार को ओलंपिक खेलों को भी साल 2021 तक के लिए स्थगित कर दिया गया है। भारतीय एथलीटों ने टोक्यो 2020 ओलंपिक खेलों को स्थगित करने के फैसले का समर्थन किया।

24 जुलाई से 9 अगस्त 2020 तक आयोजित होने वाले ओलंपिक खेलों को अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) और टोक्यो 2020 आयोजन समिति ने खेलों को स्थगित करने और साल 2021 में गर्मियों तक इसे आयोजित करने के निर्णय की पुष्टि की है।

चिराग शेट्टी को लगता है कि टोक्यो 2020 को स्थगित करना वर्तमान वैश्विक स्थिति को देखते हुए सही निर्णय है

भारतीय एथलीटों से मिली ऐसी प्रतिक्रियाएं

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी और 2018 राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता चिराग शेट्टी (Chirag Shetty) ने ओलंपिक चैनल को बताया, "वर्तमान स्थिति को देखते हुए, यह सही निर्णय लिया गया है। सभी हितधारकों और ओलंपिक से जुड़े सभी लोगों के लिए बहुत सारी समस्याएं थीं, लेकिन इसे स्थगित करने का निर्णय सही है।"

भारतीय टेबल टेनिस के स्टार खिलाड़ी अचंता शरत कमल (Achanta Sharath Kamal) ने उनकी इस बात का समर्थन किया, जिन्होंने हाल ही में मस्कत में आईटीटीएफ चैलेंज प्लस ओमान ओपन का खिताब जीता है।

शरत कमल ने कहा, "ये दुनियाभर के एथलीटों के लिए बेहतर है, हम हमेशा इस बारे में सोच रहे थे कि कैसे ये सब आयोजित हो पाएगा, क्योंकि ओलंपिक गांव को भी सामाज से दूर नहीं रखा जा सकता था और ऐसा करना संभव भी नहीं था। मुझे लगता है कि इस तरह के फैसले खिलाड़ियों की सुरक्षा के लिए हैं। हालांकि जो एथलीट इस आयोजन के लिए पिछले दो वर्षों से तैयारी कर रहे हैं और जिन्होंने बहुत मेहनत की है, उनके लिए यह थोड़ा सा मुश्किल है।"

दूसरी ओर इस महीने की शुरुआत में अपने पहले ओलंपिक खेलों के लिए क्वालिफाई करने वाले जेवेलिन थ्रोअर शिवपाल सिंह (Shivpal Singh) ने कहा, "यह काफी मुश्किल है, मैं अपने जीवन में कभी भी फिट नहीं था। भगवान की कृपा से मैं अब बेहतर हूं और अब हमें एक साल और इंतजार करना होगा।"

हालांकि भारतीय टेबल टेनिस स्टार अचंता शरत कमल का मानना ​​है कि यह निर्णय सभी एथलीटों की तैयारी में मदद करेगा।

अचंता शरत कमल ने कहा, "हाइपोथेटिक रूप से अगर स्थिति दो महीने में बेहतर हो जाती और हम ओलंपिक के लिए चले भी जाते तो यह तैयारी बहुत खराब होती।"

उन्होंने आगे कहा, “दो महीने तक घर पर रहना और फिर टूर्नामेंट के लिए जाना सही नहीं था। इस तरह मानसिक रूप से आपको तैयार होने और ज़ोन में बने रहने का अधिक समय मिलता है।

आईओसी, टोक्यो 2020 आयोजन समिति, जापानी और टोक्यो महानगरीय सरकारों ने अन्य संबंधित संस्थानों के साथ 2021 की गर्मियों तक के लिए टोक्यो ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों को टालने का फैसला किया है।

यह घोषणा जापान की राजधानी में नव-निर्मित राष्ट्रीय स्टेडियम में निर्धारित उद्घाटन समारोह से 122 दिन पहले हुई। आपको बता दें, इससे पहले ओलंपिक खेलों को द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान रद्द किया गया, जबकि वैश्विक महामारी या आपदा के चलते खेलों को पहली बार स्थगित किया गया है।