स्विमिंग

Dawn Fraser: कहानी थ्री-पीट की रानी की

अक्टूबर 1964 में, टोक्यो ने अपने पहले ओलंपिक खेलों की मेजबानी की थी। उन ऐतिहासिक पलों को याद करते हुए टोक्यो 2020 आपको कुछ सबसे अविश्वसनीय और जिंदादिल इवेंट्स से रूबरू कराएगा, जो आज से 56 साल पहले हुए थे। श्रृंखला के नवीनतम भाग में, हम Dawn Fraser की ट्रिपल 100 मीटर फ्रीस्टाइल जीत पर एक नज़र डालते हैं।

बैकग्राउंड

Dawn Fraser ऑस्ट्रेलिया की मूल गोल्डन गर्ल थी। उन्हें देश में एक खेल किंवदंती माना जाता है।

Dawn, जिन्होंने 15 साल की अवधि के दौरान 100 मीटर फ्रीस्टाइल रिकॉर्ड सहित आठ ओलंपिक स्वर्ण पदक, छह राष्ट्रमंडल खेलों के खिताब और 39 रिकॉर्ड जीते थे, उनका सबसे बड़ा क्षण 1964 के टोक्यो खेलों में आया था।

मेलबर्न 1956 के ओलंपिक खेलों में, उस समय 19 वर्षीय Fraser ने हीट्स में विश्व रिकॉर्ड तोड़ने के बाद 100 मीटर फ्रीस्टाइल में स्वर्ण पदक जीता। अपने ओलंपिक की शुरुआत के बाद, Fraser ने 100 मीटर और 200 मीटर फ्रीस्टाइल दोनों में कई विश्व रिकॉर्ड स्थापित करते हुए, खुद के लिए एक नाम बनाना जारी रखा।

रोम 1960 ओलंपिक के दौरान, उन्होंने अमेरिकी Chris von Saltza को हराया और स्वर्ण पदक जीता। इस जीत ने Fraser को खेलों में स्वर्ण जीतने वाली एकमात्र ऑस्ट्रेलियाई महिला ही नहीं, बल्कि लगातार ओलंपिक में 100 मीटर फ्रीस्टाइल जीतने वाली इतिहास की पहली महिला बना दिया।

इस बीच, पर्थ 1962 के राष्ट्रमंडल खेलों में, Fraser 100 मीटर फ्रीस्टाइल में एक मिनट की बाधा को तोड़ने वाली पहली महिला बन गई। लेकिन, कुछ महीने बाद, 9 मार्च को एक जीवन बदलने वाली घटना हुई।

दो बार की ओलंपियन अपनी माँ, बहन और एक दोस्त के साथ घर लौट रही थी जब उनकी गाड़ी पलट गई। हालांकि वह, उनकी बहन और उनकी दोस्त घायल हो गए, उनकी माँ की उस दुर्घटना में मृत्यु हो गई।

उस दुर्घटना ने Fraser को पूरी तरह से तोड़ दिया था। उन्हें रीढ़ में चोट आई थी और वह नौ सप्ताह तक तैरने में भी असमर्थ थी।

उस समय, Fraser ने टोक्यो 1964 में नहीं जाने पर विचार किया था, लेकिन अपने परिवार और कोच के समर्थन से, उन्होंने आखिरकार जाने का फैसला किया।

Dawn Fraser

जीत वाला क्षण

टोक्यो 1964 खेलों में 100 मीटर में Fraser की कड़े प्रतिद्वंद्वी, 15 वर्षीय अमेरिकी Sharon Stouder थीं, जिनके नाम पर पहले से ही दो पैन अमेरिकी खेलों के स्वर्ण पदक थे।

हालांकि, 27 साल की Fraser अस्थमा और दौड़ से पहले झुकाम से जूझने के बावजूद अप्रभावित रहीं। यह उनका दृढ़ संकल्प था जिसने उन्हें स्वर्ण जीतने के लिए 59.5 सेकंड का ओलंपिक रिकॉर्ड समय दर्ज करते देखा।

उस जीत ने Fraser को एक ही स्पर्धा (100 मीटर फ़्रीस्टाइल) में लगातार तीन ओलंपिक स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली तैराक बना दिया - एक उपलब्धि जो केवल दो अन्य लोगों ने हासिल की है - हंगरी की Krisztina Egerszegi (1988-1996) और यूएसए के Michael Phelps (2004-2016)।

Fraser ने खेलों की 50वीं वर्षगांठ के लिए टोक्यो लौटने पर कहा, "1964 में एक ही स्पर्धा में तीन स्वर्ण पदक जीतना न केवल मेरे लिए सुखद था, बल्कि अपने साथियों के साथ उस पल को साझा करना भी बहुत खास था।"

इतना ही नहीं, बल्कि उन्होंने 4x100 फ्रीस्टाइल रिले में रजत भी जीता था।

आगे क्या हुआ?

उनकी उपलब्धि के साथ, समापन समारोह के लिए Fraser को ऑस्ट्रेलिया के ध्वजवाहक के रूप में चुना गया।

इस बीच, प्रतियोगिता समाप्त होने के बाद, समापन समारोह से करीब 12 घंटे पहले एक योजना बनाई गई कि एक ओलंपिक ध्वज भी घर ले जाया जाएगा। हालांकि उन्होंने झंडा चुराया था और वह पुलिस द्वारा पकड़ी भी गयी थी, उन्हें केवल इसलिए जाने दिया गया क्योंकि वह 'Dawn Fraser' थी।

जुलाई में Daily Telegraph से बात करते हुए, अब 83 वर्षीय ने बताया कि अगले दिन, उन्होंने अपने होटल के कमरे में दरवाजे पर एक दस्तक सुनी और जब उन्होंने यह देखने के लिए उसे खोला, तो वहां छह पुलिसकर्मी फूल और एक बॉक्स लेकर खड़े थे।

"जब मैंने बॉक्स खोला, तो उसमें एक झंडा था और उन्होंने मुझसे कहा, 'यह सम्राट की तरफ से एक उपहार है। इसे रखें'।"

इतना ही नहीं, बल्कि ऑस्ट्रेलियाई तैराक को उद्घाटन समारोह के दौरान दूसरों की तुलना में अलग स्विमिंग सूट पहनने के लिए दस साल का प्रतिबंध लगाया गया था। हालांकि मेक्सिको 1968 ओलंपिक खेलों से पहले उनका प्रतिबंध हटा दिया गया था, उनके पास अपने चौथे ओलंपिक की तैयारी के लिए पर्याप्त समय नहीं था।

पानी के अंदर रहकर इतना कुछ हासिल करने के अलावा, Fraser ने स्विमिंग पूल के बाहर भी खूब वाहवाही बटोरी। 1965 में इंटरनेशनल स्विमिंग हॉल ऑफ फेम में शामिल होने के लिए उन्हें 1964 ऑस्ट्रेलियन ऑफ द ईयर नामित किया गया था, और 1967 में ब्रिटिश साम्राज्य (MBE) का सदस्य बनाया गया था।

1985 में, Fraser स्पोर्ट ऑस्ट्रेलिया हॉल ऑफ़ फ़ेम में पहली महिला प्रेरक थीं।

वह सिडनी 2000 के उद्घाटन समारोह में मशाल वाहकों में से एक थीं।