अब सिल्वर स्क्रीन पर आएगी ध्यानचंद की कहानी

मेजर ध्यान चंद की बायोपिक बनने जा रही है और इसके निर्माता होंगे रोनी स्क्रूवाला। यह फिल्म 2022 तक परदे पर आ सकती है।

लेखक जतिन ऋषि राज ·

3 बार के ओलंपिक गोल्ड मेडल विजेता सिल्वर स्क्रीन पर अपनी छाप छोड़ने के लिए तैयार हैं। ‘ध्यान चंद’ (Dhyan Chand) नामक फिल्म को बनाने की तैयारी अगले साल से शुरू हो जाएगी और साल 2022 तक उसे स्क्रीन पर देखा जा सकता है। अभी के लिए किसी भी सितारे को इस रोल के लिए फाइनल नहीं किया आया है।

इस फिल्म के निर्माता होंगे रोनी स्क्रूवाला (Ronnie Screwvala) और निर्देशन होंगे अभिषेक चौबे (Abhishek Chaubey)। साथ ही इस फिल्म का स्क्रीनप्ले भी उन्हीं द्वारा लिखा जाएगा।

रोनी स्क्रूवाला ने इस विषय पर बात करते हुए कहा “ध्यान चंद भारतीय स्पोर्ट्स के सबसे बड़े आइकॉन हैं, जिनके बारे में आज का यूथ नहीं जानता। इससे अंडरडॉग कहानी कोई भी नहीं है और में इसे दर्शकों के सामने लाने के लिए उत्सुक हूं।”

ग़ौरतलब है की पान सिंह तोमर (Paan Singh Tomar) फिल्म के बाद रोनी स्क्रूवाला के करियर की यह दूसरी बायोपिक है। पान सिंह तोमर एक स्टीपलचेज़ धावक की कहानी थी जिसने 1950 से लेकर 1960 तक खूब नाम कमाया।

भारतीय हॉकी के सबसे बड़े खिलाड़ी मेजर ध्यान चंद ने भारत के लिए लगातार तीन ओलंपिक गोल्ड मेडल जीते हैं और वह सन 1928, 1932 और 1936 में आए थे। इतना ही नहीं बल्कि बर्लिन गेम्स में उन्होंने भारतीय हॉकी टीम की कप्तानी भी की थी।

गेंद को अपने कंट्रोल में करने वाले ध्यान चंद की ताकत थी कि वह किसी भी पल टीम के लिए गोल कर सकते थे। अक्सर उन्हें ‘हॉकी विजार्ड’ या ‘द मैजिशियन’ के नाम से जाना जाता था। उन्हें 1956 में पद्मा भूषण के सम्मान से भी नवाज़ा गया है। इतना ही नहीं 29 अगस्त, उनके जन्मदिन के दिन भारत में नेशनल स्पोर्ट्स डे भी मनाया जाता है। 74 साल में यानी 1979 में इस दिग्गज खिलाड़ी की मृत्यु हो गई थी।

अभिषेक चौबे ने कहा “खेल के इतिहास में ध्यान चंद सबसे बड़े खिलाड़ी थे और उनकी बायोपिक बनाना हमारे लिए गर्व की बात है। हमारे हाथ में बहुत सी अनुसंधान सामग्री है और सच कहूं तो ज़िन्दगी में उनकी हर एक सफलता पर एक अलग कहानी बननी चाहिए।”

ध्यान चंद के बेटे अशोक कुमार (Ashok Kumar) खुद एक ओलंपिक मेडल विजेता हैं और इतना ही नहीं उन्होंने वर्ल्ड कप पर भी अपने नाम की मुहर लगाई है।

अशोक कुमार ने अलफ़ाज़ साझा करते हुए कहा “तीन बार ओलंपिक गोल्ड मेडल विजेता ध्यान चंद जैसे हॉकी खिलाड़ी आज तक विश्व में नहीं आए हैं। ध्यान चंद की सफलता अब पूरी दुनिया देखेगी और ऐसे में मेरा परिवार और मैं इसका हिस्सा बनने के लिए बहुत उत्साहित हैं।”

ध्यान चंद की बायोपिक के साथ भरत की पहली महिला ओलंपिक मेडल विजेता कर्णम मल्लेश्वरी (Karnam Malleswari) पर भी बायोपिक बनने जा रही है। भारत में खिलाड़ियों पर बनीं फिल्मों की बात करें तो वह मैरी कॉम (Mary Kom), भाग मिल्खा भाग (Bhaag Milkha Bhaag) और सूरमा (Soorma) है।