एशियन मीट के रद्द होने से दुती चंद के ओलंपिक सपने को लगा झटका

डबल एशियन गेम्स की रजत पदक विजेता को अभी भी जुलाई टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई करने के लिए अपने व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ समय में सुधार करने की आवश्यकता है।

लेखक लक्ष्य शर्मा ·

भारत की 100 मीटर की धावक दुती चंद (Dutee Chand) के ओलंपिक में हिस्सा के सपने को बड़ा झटका लगा है। दरअसल कजाकिस्तान में होने वाले इंडोर ट्रैक इवेंट को आखिरी समय में रद्द कर दिया गया है

दुती चंद एशियाई बैठक में 60 मी डैश (गैर-ओलंपिक इवेंट) में साल 2021 की शुरुआत करने वाली थी। दो बार एशियाई खेलों की रजत पदक विजेता ने 2016 में विश्व इंडोर चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में पहुंचने से पहले 2016 में कांस्य पदक अपने नाम किया था।

भले ही यह ओलंपिक इवेंट नहीं था लेकिन दुती इसमें हिस्सा लेकर ओलंपिक की अपनी तैयारियों को और पुख्ता करने वाली थी। दुती आखिरी बार करीब एक साल पहले खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स (Khelo India University Games.)में दौड़ती दिखाई दी थीं।

कोविड-19 क्वारंटाइन प्रोटोकॉल के कारण दुती यूरोपियन इंडोर मीट में हिस्सा नहीं ले पाई थी, जिसकी वजह से उनका पूरा ध्यान एशियन मीट पर था, जिस में वह अच्छा प्रदर्शन कर ओलंपिक क्वालिफिकेशन के लिए तैयार होना चाहती थी।

दुती ने IANS से बातचीत में कहा कि "मैं भारत के एथलीटों के लिए सात दिनों के क्वारंटाइन दिशानिर्देश के कारण यूरोप में अन्य इनडोर इवेंट में प्रतिस्पर्धा नहीं कर सकी। इसके बाद मुझे घर पर मुकाबले का मौका नहीं मिला है। इसलिए यूरोप में हिस्सा लेना

बेहतर होता।”

कजाकिस्तान इवेंट के रद्द करने का मतलब है कि दुती को अब पटियाला में आगामी इंडियन ग्रां प्री (Indian Grand Prix) पर ध्यान केंद्रित करना होगा,  जो 18 फरवरी से शुरू होगी।

100 मीटर में नेशनल रिकॉर्ड बनाने वाली दुती ने कहा कि “मार्च में फेडरेशन कप से पहले यह एक तरह से वार्म अप इवेंट होगा।”

दुती ने रांची में हुई 59वीं नेशनल ओपन चैंपियनशिप में 100 मीटर रेस को 11.22 सेकंड में पूरी कर नेशनल रिकॉर्ड अपने नाम किया।

2021 ओलंपिक क्वालिफिकेशन टाइम कट-ऑफ 11.15 सेकंड है इसलिए दुती को अगर टोक्यो का टिकट हासिल करना है तो उन्हें अपने व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ में सुधार करना होगा।। क्वालिफिकेशन इवेंट 23 जुलाई से शुरू होने जा रहे है।

दुती ने इस बारे में कहा कि “कागजों पर ये काफी आसान लगता है लेकिन एक सेकंड का सुधार करना भी बहुत मेहनत का काम है।”

25 वर्षीय स्प्रिंटर ने यह भी खुलासा किया कि वह अपने क्वालिफिकेशन के अवसरों को बढ़ाने के लिए यूरोप पोस्ट मार्च में प्रतिस्पर्धा करने के अपने विकल्पों का पता लगाएंगी।

दुती ने बताया कि “मार्च के बाद, मैं देखूंगी कि क्या यूरोप में स्थिति बेहतर हुई या नहीं। फिर मैं यह पता लगाने की कोशिश करूंगी कि क्या मैं वहां प्रतिस्पर्धा कर पाऊंगी या नहीं। कठिन प्रतिस्पर्धा ही आगे बढ़ने का एकमात्र रास्ता है। यूरोप में कठिन प्रतिस्पर्धा करने से ना केवल मैं क्वालिफिकेशन टाइम के करीब पहुंचने की कोशिश करूंगी बल्कि ग्लोबल रैंकिंग में सुधार की कोशिश करूंगी।”

टोक्यो ओलंपिक में महिलाओं की 100 मी स्पर्धा में 56 एथलीटों को प्रवेश की अनुमति दी गई है, जिसमें 29 एथलीटों ने पहले ही स्थान हासिल कर लिया है। शेष 27 इसे अपनी रैंकिंग के आधार पर बनाएंगे।