दुती चंद ने गोल्ड के साथ की ओलंपिक साल की शुरुआत

भारत की स्टार धावक दुती चंद ने खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स में ना केवल 100 मीटर रेस जीती बल्कि नया रिकॉर्ड भी अपने नाम किया

भारतीय स्टार धावक दुती चंद ( Dutee Chand) ने शनिवार को भुवनेश्वर में चल रही खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स में शानदार प्रदर्शन करते हुए नया नेशनल यूनिवर्सिटी रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है।

नई रिकॉर्ड होल्डर दुती चंद ने अपनी रेस 11.49 सेकेंड में पूरी की और शीर्ष स्थान पर रही। इससे पहले ये रिकॉर्ड मैंगलोर यूनिवर्सिटी की एन सिमी (N Simi) के नाम था, जिन्होंने 11.56 सेकेंड में ये कारनामा किया था।

दुती चंद ने भले ही यहां रिकॉर्ड बनाया हो लेकिन वह अपने नेशनल ओपन एथलेटिक्स चैंपियनशिप (National Open Athletics Championships) में किए सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 11.22 सेकेंड से काफी दूर रहीं।

वहीं मैंगलोर यूनिवर्सिटी की एस धनलक्ष्मी (S Dhanalaxmi ) ने 11.99 सेकेंड में रेस पूरी कर रजत पदक हासिल किया, जबकि महात्मा गांधी विश्वविद्यालय के एसएस स्नेहा (SS Sneha) ने खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स में 12.08 सेकेंड में दौड़ पूरी कर तीसरा स्थान हासिल किया।

तीसरी लेन में दौड़ते हुए दुती चंद ने शुरुआत में ही बढ़त हासिल करने की कोशिश की और अपने ब्लॉक से बाहर निकलीं। यह उनके लिए अच्छा रहा और इसका फायदा उन्हें बाद में मिला। कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी Kalinga Institute of Industrial Technology (KIIT) की तरफ से हिस्सा ले रहीं दुती ने आसानी से जीत हासिल की।

24 साल की दुती ने इससे पहले कलिंगा स्टेडियम में हीट में 11.61 सेकेंड का समय निकाल जीत हासिल की थी। भारतीय धावक को अभी ओलंपिक कट हासिल करना बाकी है, जो कि ओलंपिक क्वालिफिकेशन मार्क से 0.07 सेकेंड कम है। यह 11.15 सेकेंड तय है। दुती शनिवार को 200मीटर इवेंट में हिस्सा लेंगी।

साल 2019 में, दुती चंद वैश्विक स्तर पर 100 मीटर की दौड़ जीतने वाली पहली भारतीय बनीं, जब उन्होंने नेपल्स, इटली में वर्ल्ड यूनिवर्सियाड (World Universiade) में शीर्ष पुरस्कार जीता।

इसके बाद भारतीय धावक को इंटरनेशनल लेवल पर कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ा। वह दोहा में हुई साल 2019 में हुई वर्ल्ड चैंपियनशिप ( World Championships) में किए अपने प्रदर्शन को दोहराने में असफल रही।

जैसे-जैसे ओलंपिक करीब आ रहा है वैसे वैसे दुती अपनी पुरानी लय हासिल करने की कोशिश कर रही हैं। वह भी ओलंपिक से पहले होने वाली रेस में अच्छा प्रदर्शन कर ओलंपिक के लिए सीधा प्रवेश करना चाहेंगी।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!