FIBA एशिया कप क्वालिफायर्स: भृगुवंशी के शानदार प्रदर्शन की बदौलत भारत ने इराक को हराया

भारतीय बास्केटबॉल टीम ने FIBA ​​एशिया कप के फाइनल क्वालीफाइंग टूर्नामेंट में अपनी जगह पक्की करने के लिए इराक पर 81-78 से जीत हासिल की।

लेखक लक्ष्य शर्मा ·

भारतीय बास्केटबॉल टीम के कप्तान विश्वेश भृगुवंशी ने ईराक के खिलाफ महत्वपूर्ण समय में खुद को शांत रखते हुए जबरदस्त प्रदर्शन किया और टीम को 81-78 से जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई। इस खिलाड़ी ने शनिवार को FIBA ​​एशिया कप क्वालीफायर (FIBA Asia Cup qualifiers) के एक महत्वपूर्ण ग्रुप डी मैच में इराक के खिलाफआधी लाइन से कुछ ही मीटर की दूरी पर बजर-बटर की बदौलत अपनी टीम को जीत दिलाई।

इस जीत के साथ ही भारत को ग्रुप में अपना तीसरा स्थान हासिल करने में मदद मिली और फाइनल क्वालिफाइंग की तरफ उन्होंने अपना एक कदम बढ़ा दिया। बहरीन में खलीफा स्पोर्ट्स सिटी में खेले गए इस मुकाबलें में भारतीय खिलाड़ियों ने अपनी भावना पर काबू पाते हुए इराक पर लगातार दबाव बनाए रखा।

अमज्योत सिंह गिल (Amjyot Singh Gill), अरविंद अन्नादुरई (Aravind Annadurai) और कप्तान विशेश भृगुवंशी (Vishesh Bhriguvanshi) ने शुरुआती समय में लड़खड़ाने के बाद अच्छी वापसी की और अंतिम हूटर बजने से ठीक पहले उन्होंने इराक को शिकस्त दी।

हालांकि पिछली बार FIBA एशिया कप क्वालिफायर्स में इन दोनों टीमों की भिड़ंत हुई थी तो भारत ने 19 अंक के अंतर से एक हासिल जीत दर्ज की थी। लेकिन शनिवार को इराक ने अपनी पिछली गलतियों से सबक लिया और भारतीय टीम को इस बार कड़ी टक्कर दी।T

कर्रार हमजा (Karrar Hamzah ) और केविन गैलोवे (Kevin Galloway) ने भारतीय टीम पर दबाव बनाने के मकसद से शुरुआत से ही हमले शुरू कर दिए और दोनों इसमें काफी हद तक सफल भी रहे, मैच की शुरुआती मिनटों में उन्होंने टीम इंडिया को काफी परेशान किया।h

भारतीय केज़र लगातार इराक के हमले को रोक पाने में असफल हो रहे थे और वहीं दूसरी तरफ अमज्योत सिंह गिल, अरविंद अन्नादुरई और विश्वेश भृगुवंशी भारत के लिए अंक हासिल करने के लिए संघर्ष कर रहे थे।e

केबी गैलोवे जो कि पूर्व एनबीए जी-लीग खिलाड़ी भी हैं, वह इस मैच में जबरदस्त फॉर्म में दिखे और उनके इस प्रदर्शन की बदौलत इराक ने बिना वक्त गंवाए 9 अंक की बढ़त हासिल कर ली। टाइम आउट के बाद भारतीय टीम कुछ संभली नजर आई और उन्होंने इराकी टीम द्वारा हमलों को कम किया।l

अमज्योत सिंह गिल ने भी भारतीय टीम की तरफ से हमले शुरू कर दिए, वहीं मुईन बेक हाफ़िज़ ने दिखाया कि क्यों भारतीय टीम में उनका दर्जा इतना ऊंचा क्यों है। इस खिलाड़ी ने मैच में कुल 24 अंक हासिल किए।

मुईन बेक हाफ़िज़ 24 अंकों के साथ भारत के लिए शीर्ष स्कोरर रहे। फोटो: FIBA ​​मीडिया

हालांकि मुख्य कोच वेसलिन मैटिक ने सेंकड क्वार्टर में अपने सबसे बड़े हथियार को वापस बुला लिया। भारतीय टीम ने सुनिश्चित किया कि वे अनुभवी जोगिंदर सिंह पर कुछ स्मार्ट बॉल खेलने के साथ शॉट्स लगाने का दबाव बनाए रखें।

सेंक़ड हाफ तक भारतीय टीम ने 9 अंको की बढ़त हासिल कर ली थी लेकिन इराक जैसी टीम के खिलाफ यह लीड काफी नहीं थी और हुआ भी यही कि मैच के साथ भारत की बढ़त लगातार कम होती रही।

इहाब अल-जुहिरी और हसन अब्दुल्ला दूसरे हाफ में इराक के लिए हीरो साबित हुए क्योंकि दोनों ने अपनी तेज चाल और गेंद पर नियंत्रण के साथ भारतीय डिफेंस को लगातार दिक्कत में रखा।

लेकिन अंत में जब मैच के अंतिम शॉट की बारी आई तो भारतीय टीम के कप्तान ने कमान संभाते हुए अपनी टीम को जीत दिला दी। भारत सोमवार को अपने अंतिम ग्रुप गेम में लेबनान से भिड़ेगा जबकि इराक का सामना मेजबान बहरीन से होगा।