भारतीय महिलाएं जिन्होंने ओलंपिक खेलों में ज़ंजीरो को तोड़ते हुए प्रेरित किया

ऐसे देश में जहां समाज में पुरुषों को सबसे ऊपर रखा जाता है, वहां इन ओलंपिक सितारों ने हर एक चुनौती को स्वीकार किया और आने वाली पीढ़ी के लिए मिसाल बनीं।

लेखक सैयद हुसैन ·

नई सदी की शुरुआत के बाद से ही भारतीय महिला एथलीटों में इज़ाफ़ा देखने को मिला है, जिन्होंने अंतर्राष्ट्रीय मंच पर देश को गौरान्वित किया है।

भारतीय खेलों के लिए गौरव का पहला क्षण सिडनी 2000 में आया जब महान कर्णम मल्लेश्वरी (Karnam Malleswari) ने कांस्य पदक जीता, जो आज भी ओलंपिक पदक जीतने वाली एकमात्र भारतीय वेटलिफ्टर हैं।

इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि वह ओलंपिक पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनीं।

यह एक अविश्वसनीय प्रयास था - कर्णम ने अपने ख़राब फॉर्म को पीछे छोड़ा और एक नए भारवर्ग में इतिहास रचा।

वह पोडियम के शीर्ष पायदान पर भले ही न खड़ी हों, लेकिन कर्णम मल्लेश्वरी ने देश को कुछ ज्यादा ही महत्वपूर्ण दे दिया था – और वह था भारतीय महिला एथलीटों के लिए आत्म-विश्वास जगाना।

उन्होंने भारत की महिला एथलीटों की अगली पीढ़ी को प्रेरित किया - चाहे वह एमसी मैरी कॉम (MC Mary Kom), सानिया मिर्ज़ा (Sania Mirza), साइना नेहवाल (Saina Nehwal), पीवी सिंधु (PV Sindhu) या साक्षी मलिक (Sakshi Malik) हों, खुद को आगे बढ़ाने के लिए, बाधाओं से लड़ीं और ओलंपिक पदक जीतकर दुनिया में सर्वश्रेष्ठ होने का दावा किया।

एक नज़र डालते हैं कि कैसे भारतीय महिलाओं ने अपने लक्ष्यों को हासिल किया।

साइना नेहवाल में सर्वश्रेष्ठ देने की भूख

बैडमिंटन में ओलंपिक पदक जीतने वाली साइना नेहवाल पहली भारतीय शटलर हैं।

लंदन 2012 में साइना नेहवाल के कांस्य के कारण नए रिकॉर्ड देखे गए, जो ओलंपिक खेलों में बैडमिंटन में भारत का पहला पदक था।

जब वह पदक के साथ घर लौटीं तो साइना नेहवाल भारतीय युवाओं और ओलंपिक सपने देखने वालों के लिए एक आइकन बन गईं थीं। उन्होंने राष्ट्रमंडल खेलों और एशियाई खेलों सहित कई और पदक जीते।

लेकिन ऐसा क्या है जो भारतीय शटलर को हर बार कोर्ट में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देने के लिए प्रेरित करता है?

“मैं सर्वश्रेष्ठ बनना चाहती हूं, यह रैंकिंग के बारे में नहीं है, यह दरअसल समय की अवधि के अनुरूप होने के बारे में है।“

सिर्फ पुरुषों के लिए नहीं,  मैरी कॉम ने ये साबित किया

ओलंपिक में पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला मुक्केबाज, एमसी मैरी कॉम कई मायनों में एक ट्रेलब्लेज़र रही हैं।

यह उनके छह विश्व खिताब हों या गर्भावस्था के बाद की रिंग में वापसी, यह एक ऐसी कहानी है जो कोई भी मुक्केबाज़ अपने आदर्श में ढूंढता है।

लेकिन उनकी उपलब्धियों के बावजूद, मैरी कॉम ने भी इस बयानबाजी से बचीं नहीं कि बॉक्सिंग एक मर्द का खेल है। हालांकि, इस भारतीय किंवदंती ने अपने आलोचकों को उसी चीज़ से जवाब दिया जिसे वह सबसे अच्छी तरह से जानती थीं।

“लोग कहते थे कि मुक्केबाज़ी पुरुषों के लिए है न कि महिलाओं के लिए और मैंने सोचा कि मैं किसी दिन उन्हें दिखाऊंगी। मैंने ख़ुद से वादा किया और ख़ुद को साबित किया।“

इस फ्लाईवेट मुक्केबाज़ ने 2018 के आखिरी संस्करण में एक अविश्वसनीय छह विश्व मुक्केबाजी चैम्पियनशिप स्वर्ण पदक जीते हैं। उनका 'शानदार मैरी' (Magnificent Mary) मोनिकर वह है जो खेल में अपनी विशाल हैसियत रखता है।

भारत ने अतीत में पुरुषों की श्रेणी में शानदार मुक्केबाज़ दिए हैं, लेकिन मणिपुर में जन्मीं इस खब्बू मुक्केबाज़ ने उनके सभी कारनामों को पार किया है। वह राष्ट्र के लिए एक प्रेरणा बनी हुई हैं, और विशेष रूप से महिला एथलीटों के लिए एक बड़ी प्रेरणा है।

पीवी सिंधु के लिए यह सब दिमाग़ का खेल है

कुछ ही भारतीय एथलीटों को ओलंपिक पोडियम पर गले में रजत पदक के साथ खड़े होने का सौभाग्य हासिल हुआ है।

बैडमिंटन के खेल में ऐसा करने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी पीवी सिंधु ही हैं। रियो 2016 में उनकी उपलब्धियों ने खेल को गति दी, जबकि BWF विश्व चैंपियनशिप में उनकी ऐतिहासिक जीत ने भारत को शीर्ष पर एक प्रमुख चुनौती के रूप में स्थापित किया।

ओलंपिक गोल्ड को लेकर अपने जुनून पर बोलीं पीवी सिंधु

भारत ने आखिरी बार 2008 में ओलंपिक स्वर्ण पदक जीता था। बैडमिंटन स्टार पीवी स...

पीवी सिंधु ने वर्षों से जिन पहलुओं को छुआ है, उनमें से एक है महानता हासिल करना।

“सबसे बड़ी संपत्ति एक मज़बूत दिमाग़ है। अगर मुझे पता है कि कोई मुझसे ज्यादा कठिन प्रशिक्षण कर रहा है, तो मेरे पास कोई बहाना नहीं है।“

आज, बैडमिंटन को एक ऐसे खेल के रूप में मान्यता प्राप्त है जिसमें भारत की वैश्विक प्रतिष्ठा है। और पीवी सिंधु ने साइना नेहवाल के साथ मिलकर इसे अभूतपूर्व ऊंचाइयों तक ले जाने में मदद की है।

साक्षी मलिक का हार न मानने का जज़्बा

ओलंपिक में कुश्ती और भारत का शानदार इतिहास रहा है। 1952 में केडी जाधव (KD Jadhav) हों या सुशील कुमार (Sushil Kumar) और योगेश्वर दत्त (Yogeshwar Dutt)। सदी के अंत के बाद से, यह एक ऐसा खेल है जिसने देश को कई पदक विजेता दिए हैं।

साक्षी मलिक: ओलंपिक जीत की यादों को कर रहीं ताज़ा

रियो 2016 में साक्षी मलिक अपनी लाजवाब वापसी के साथ किए गए बेहतरीन प्रदर्शन ...

लेकिन यह रियो 2016 में पहली बार हुआ कि भारत इस खेल में पहली बार महिला वर्ग में भी पदक जीता। 2016 ओलंपिक में साक्षी मलिक ओलंपिक कुश्ती पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनीं, जब उन्होंने 58 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक जीतकर इतिहास रच डाला।

अपने कांस्य पदक बाउट में किर्गिस्तान की ऐसुलु टाइनोबेकोवा (Aisuluu Tynybekova) के खिलाफ साक्षी मलिक मैच ख़त्म होने के कुछ सेकंड्स पहले तक परेशानी में थीं। लेकिन आख़िरी लम्हों में भारतीय पहलवान ने एक अंतिम चाल चली, जिसमें उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी को मात देते हुए पदक पर कब्ज़ा जमाया।

जीत के बाद साक्षी मलिक ने कहा,

“मैंने अंत तक कभी हार नहीं मानी, मुझे पता था कि अगर मैं छह मिनट तक रहती तो मैं जीत जाती। अंतिम दौर में मुझे अपना सर्वश्रेष्ठ देना था, और मुझे आत्म-विश्वास था।“

सानिया मिर्ज़ा के लिए ‘माँ’ शब्द

दिग्गज सेरेना विलियम्स से प्रेरित होकर, जो एक बच्चे के होने के बाद टेनिस सर्किट में लौटीं थीं, उन्हें ही देखकर सानिया मिर्जा ने कोर्ट में वापसी की।

भारतीय टेनिस दिग्गज ने 2018 के अंत में अपने बेटे को जन्म दिया और तब से मां की ज़िम्मेदारी संभाल रही हैं। और मां बनने के बावजूद 2020 में सानिया मिर्जा की कोर्ट में वापसी हुई।

Sania Mirza and the motherhood hustle

Sania Mirza returned from a maternity break earlier this year. Here, the In...

खेलों में भारतीय महिलाओं का भविष्य

हाल के दिनों में, भारतीय ट्रैक और फील्ड ने हिमा दास (Hima Das) और दुती चंद (Dutee Chand) में दो सितारों के रूप में नई उम्मीद जगाई है।

2018 में IAAF U-20 चैंपियनशिप और एशियाई खेलों में हिमा दास ने अपने स्वर्ण के साथ दम दिखाया। 2019 में एक समय पर उन्होंने ICC क्रिकेट विश्व कप के दौरान एक महीने में पांच स्वर्ण पदक जीतकर भारतीय क्रिकेट टीम की लोकप्रियता को चुनौती दे डाली थी।

दुती चंद ने रियो 2016 में 100 मीटर दौड़ की और तब से विश्व विश्वविद्यालय खेलों में स्वर्ण पदक जीतने की ओर अग्रसर हैं और 100 मीटर में राष्ट्रीय रिकॉर्ड धारक भी हैं।

महिला भारतीय एथलीटों की मेजबानी के लिए वे दो सबसे प्रमुख नाम हैं। उन लोगों की विरासत का हिस्सा बनने के लिए धन्यवाद जिन्होंने उनके सामने नई जमीन बनाई।