उदयन माने की ओलंपिक क्वालिफिकेशन रैंकिंग को बेहतर करने की कोशिशों पर लगा विराम

भारतीय गोल्फर इस समय टोक्यो 2020 ओलंपिक गोल्फ रैंकिंग में शीर्ष 60 खिलाड़ियों में शामिल है।

लेखक ओलंपिक चैनल ·

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के कारण पीजीटीआई टूर (PGTI Tour) स्थगित कर दिया गया है। जिसकी वजह से उदयन माने (Udayan Mane) को अपनी रैंकिंग में सुधार करते हुए टोक्यो 2020 के लिए क्वालिफाई करने की संभावना को झटका लगा है। पिछले रविवार को पूणे के गोल्फर उदयन माने को एक और झटका तब लगा जब वह बंगाल ओपन गोल्फ चैंपियनशिप (Bengal Open golf championship) में भारत के उभरते हुए युवा गोल्फर आदिल बेदी (Aadil Bedi) से हार गए।

दुनिया में 223वें स्थान पर काबिज़ उदयन माने, वर्ल्ड नम्बर 185 राशिद खान (Rashid Khan) के बाद भारतीयों में दूसरे स्थान पर हैं। वह ओलंपिक क्वालिफिकेशन की दौड़ में शामिल हैं, जिसकी कट-ऑफ तारीख 22 जून है।

ओलंपिक क्वालिफिकेशन उदयन माने के लिए क्या मायने रखता है, इसपर बात करते हुए उन्होंने टेलीग्राफ को बताया, “यह निश्चित रूप से बहुत खास (ओलंपिक के लिए क्वालिफाई करना) होगा। हर कोई खुश होगा और यह महाराष्ट्र में गोल्फ को आगे बढ़ाने में मदद करेगा।”

ओलंपिक में गोल्फ के लिए क्वालिफाई करना इस खेल में गोल्फर की वर्ल्ड रैंकिंग पर निर्भर करता है। जिसमें कुल 60 पुरुष और 60 महिलाएं इस इवेंट में जगह बनाते हैं। शीर्ष 15 पुरुष और महिलाएं खुद-ब-खुद ही ओलंपिक खेलों के लिए क्वालिफाई कर जाएंगे, जिसमें प्रत्येक देश से अधिकतम चार गोल्फर ही क्वालिफाई कर सकते हैं।

भारतीय गोल्फर उदयन माने टोक्यो 2020 ओलंपिक गोल्फ रैंकिंग में 57वें स्थान पर हैं।

बाकी बचे हुए ओलंपिक स्थानों पर उन देशों के शीर्ष क्रम के दो खिलाड़ी ओलंपिक खेलों में हिस्सा लेने के पात्र होते हैं, जिन देशों से पहले से ही दो गोल्फर क्वालिफाई नहीं किए होते हैं।

वर्तमान में टोक्यो 2020 ओलंपिक गोल्फ रैंकिंग में 57वें स्थान पर काबिज़ उदयन माने की तीन मैचों की जीत की रणनीति रविवार को टाटा स्टील पीजीटीआई में आदिल बेदी से मिली हार के बाद समाप्त हो गई। वह वर्तमान में टोक्यो 2020 के लिए क्वालिफाई करने की दौड़ में शामिल हैं।

हालांकि, उन्होंने दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण उनके टूर्नामेंट के समय को सीमित करने पर चिंता जताई है। 

उदयन माने ने इसपर कहा, “अभी खेलने के लिए कोई टूर्नामेंट नहीं होने की वजह से मेरी रैंकिंग में सुधार करना मेरे लिए काफी कठिन होगा। मैं परेशान नहीं हूं क्योंकि ​​मेरे और मेरे परिवार के लिए गोल्फ से ज्यादा महत्वपूर्ण मेरी सेहत है”।

उन्होंने आगे कहा, “मैं तैयारी के मामले में वही करता रहूंगा जो मैं अभी तक करता रहा हूं। भले ही अब से छह महीने बाद एक टूर्नामेंट क्यों न हो, मैं उसी फॉर्म में रहूंगा, जिसमें मैं रहना चाहता हूं।”

टूर्नामेंट की कमी के बावजूद उदयन माने ने जोर देते हुए कहा कि वह ओलंपिक तक पहुंचने का मजबूत इरादा रखते हैं।

उन्होंने कहा, “मैं अपने घरेलू क्लब के चार दिवसीय इवेंट में हिस्सा लूंगा। हम टी टाइम्स, पिन पोज़ीशन्स को ठीक करने और अंतरराष्ट्रीय स्तर के खेल की बराबरी करने पर ध्यान देंगे। जो 12 या 15 गोल्फर खेलेंगे वह थोड़ा-थोड़ा पैसा देगा और विजेता गोल्फर को वह सारा पैसा मिलेगा। यह खेल को निखारने और कौशल को बेहतर करने में मदद करेगा।”

COVID-19 महामारी के मद्देनज़र अब सभी पीजीटीआई टूर स्थगित कर दिए गए हैं। बंगाल ओपन के बाद अब परिस्थितियां सही होने तक कोई भी दूसरा इवेंट नहीं आयोजित किया जाएगा।