गुरप्रीत सिंह संधु और संजू यादव को मिला AIFF प्लेयर ऑफ़ द ईयर का ख़िताब

भारतीय फ़ुटबॉल टीम के गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधु और मिडफ़ील्ड़र संजू यादव को 2019-20 सीज़न में उनके बेहतरीन प्रदर्शनों के लिए AIFF ने सम्मान से नवाज़ा है।

लेखक सैयद हुसैन ·

भारतीय राष्ट्रीय फ़ुटबॉल टीम के गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधु (Gurpreet Singh Sandhu) और मिडफ़ील्डर संजू यादव (Sanju Yadav) को ऑल इंडिया फ़ुटबॉल फ़ेडरेशन (AIFF) ने साल 2019-20 के लिए क्रमश: सर्वश्रेष्ठ पुरुष और सर्वश्रेष्ठ महिला खिलाड़ी के पुरस्कार से नवाज़ा है।

पंजाब में जन्मे गुरप्रीत सिंह संधु को पहली बार AIFF के इस वार्षिक पुरस्कार से नवाज़ा गया है। गुरप्रीत भारत के सिर्फ़ दूसरे गोलकीपर हैं जिन्हें इस सम्मान से पुरस्कृत किया गया है, इससे पहले 2009 में गोलकीपर सुब्रता पाल (Subrata Pal) AIFF के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुने गए थे।

विजेताओं की घोषणा इंडियन सुपर लीग (ISL) और आई-लीग के कोचों के बीच हुए एक पोल के आधार पर किया गया था।

गुरप्रीत सिंह संधु घरेलू लीग में बेंगलुरु एफ़सी के लिए खेलते हैं, उनके लिए घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय दोनों ही स्तर पर एक शानदार सीज़न रहा है।

राष्ट्रीय टीम में आने के बाद भारतीय फ़ुटबॉल टीम की दीवार के रूप में कहे जाने वाले गुरप्रीत सिंह संधु के ही नेतृत्व में भारत ने 2019 AFC एशियन कप में थाईलैंड के ख़िलाफ़ अपनी इकलौती जीत दर्ज की थी। इसके बाद 2022 FIFA वर्ल्ड कप क्वालिफ़ायर के मुक़ाबले में क़तर के ख़िलाफ़ उन्होंने एक लाजवाब प्रदर्शन किया था, जिसकी बदौलत भारत बिना कोई गोल वाले मैच में क़तर के ख़िलाफ़ ड्रॉ करने में क़ामयाब रहा था।

घरेलू स्तर पर भी गुरप्रीत के लिए कहानी कुछ अलग नहीं है, अपनी टीम बेंगलुरु एफ़सी को तीन बार ISL के सेमीफ़ाइनल तक पहुंचाने में गुरक्रीत सिंह संधु की भूमिका अहम रही थी।

AIFF के साथ बातचीत में गुरप्रीत ने कहा, “हमेशा से ख़्वाहिश थी कि मैं इस मुक़ाम पर आऊं और ये तो वह सम्मान है जिसको पाना हमेशा से ख़्वाब था। छेत्री भाई (सुनील छेत्री) ने तो इसे कई बार जीता है और मैंने हमेशा सोचा था कि कब मैं इसके योग्य हो पाऊंगा।”

ISL में भी संधु का फ़ॉर्म कमाल का रहा है, 19 मैचों में उनके नाम 11 क्लीन शीट्स हैं जिसमें उनका सेव प्रतिशत 77.77 का रहा है।

“दोहा में एशियाई चैंपियंस क़तर के ख़िलाफ़ पिछले ISL संस्करण में 11 क्लीन शीट्स के साथ वह महत्वपूर्ण ड्रॉ और फिर गोल्डन ग्लोव पुरस्कार जीतना, ये सब टीम के बिना संभव नहीं था।”

उधर भारतीय महिला फ़ुटबॉल टीम की 22 वर्षीय मिडफ़ील्डर संजू यादव का भी ये सीज़न लाजवाब रहा था। जिसमें 2019 SAFF वुमेंस चैंपियनशिप और इंडियन वुमेंस लीग (IWL) की ख़िताबी जीत भी शामिल है।

इस अवॉर्ड को जीतने के बाद संजू यादव ने कहा, “व्यक्तिगत तौर पर मेरे लिए ये एक बड़ी उपलब्धि है। पिछले कुछ सालों से जिस तरह की मैं कड़ी मेहनत कर रही हूं ये अवॉर्ड उसी बात का सबूत है और मेरा परिश्रम का इनाम।”

इनके अलावा युवा अनिरुद्ध थापा (Anirudh Thapa) को पुरुष वर्ग में देश के बेस्ट यंग टैलेंट के ख़िताब से नवाज़ा गया जबकि महिला वर्ग में यही ख़िताब रतनबाला देवी (Ratanbala Devi) को मिला।

भारतीय फुटबॉल में पुरस्कार विजेताओं की सूची:

2019-20 AIFF पुरुष फुटबॉलर ऑफ द ईयर: गुरप्रीत सिंह संधू

2019-20 AIFF महिला प्लेयर ऑफ़ द ईयर: संजू यादव

2019-20 AIFF मेन्स इमर्जिंग फुटबॉलर ऑफ द ईयर: अनिरुद्ध थापा

2019-20 AIFF इमर्जिंग वुमेन्स फुटबॉलर ऑफ द इयर: रतनबाला देवी

2019-20 AIFF बेस्ट एसिस्टेंट रेफ़री: पी वैरामुथु

2019-20 AIFF बेस्ट रेफ़री: एल अजीत कुमार मितेई

2019-20 AIFF बेस्ट ग्रासरूट्स डेवलपमेंट प्रोगराम: पश्चिम बंगाल