अफ़गानिस्तान के खिलाफ कड़े मुकाबले के लिए तैयार हैं ब्रैंडन फर्नांडिस

इंडियन सुपर लीग में अपने प्रदर्शन के ज़रिए फर्नांडिस ने फुटबॉल की दुनिया में सुर्खियां बटोरीं और अंतरराष्ट्रीय टीम का हिस्सा बनें 

लेखक जतिन ऋषि राज ·

2022 फीफा वर्ल्ड कप क्वालिफायर का अगला मुकाबला भारत के लिए बेहद अहम है, जहां वह अफ़गानिस्तान के खिलाफ 14 नवंबर को दुशांबे, तजाकिस्तान के सेंट्रल रिपब्लिकन स्टेडियम में खेलेगा। दो ड्रॉ और एक हार के साथ भारत 5 टीमों के ग्रुप “ई” में चौथे स्थान पर है। अफ़गानिस्तान और ओमान के साथ बचे मुकाबलों में भारत अपना शत प्रतिशत देना चाहेगा और फीफा वर्ल्ड कप खेलने के एक कदम और नज़दीक जाना चाहेगा। भारतीय फुटबॉल टीम के विंगर ब्रैंडन फर्नांडिस इस बात से बख़ूबी वाकिफ हैं कि अगले कुछ दिनों में भारतीय फुटबॉल की कड़ी परीक्षा है और जीत उनके लिए हर कीमत पर ज़रूरी है।

ओलंपिक चैनेल से बात करते हुए फर्नांडिस ने बताया कि “सफल परिणाम हमारे लिए बेहद ज़रूरी हैं और कोई भी मुकाबला आसान नहीं होगा। सभी मुकाबले बेहद मुश्किल हैं।” उन्होंने आगे बात करते हुए कहा कि “हमे एक समय पर एक ही मुकाबले के बारे में सोचना होगा। हम पहले भी अफ़गानिस्तान के खिलाफ खेल चुके हैं और यह हमारे लिए मददगार भी साबित हो सकता है। लेकिन इसमें कोई दो राय नहीं है कि यह मुकाबला मुश्किल होगा।”

ब्रैंडन फर्नांडिस का इंडियन सुपर लीग से लेकर भारतीय अंतरराष्ट्रीय टीम तक का सफ़र। फोटो क्रेडिट: एआईएफएफ मीडिया 

परीक्षा की घड़ी

भारत बनाम अफ़गानिस्तान का मुकाबला आर्टिफिशियल टर्फ पर खेला जाएगा और भारतीय खेमे के लिए एक चिंताजनक बात यह है कि मुकाबले वाले दिन तापमान में गिरावट के संकेत हैं जो कि भारतीय खिलाड़ियों के लिए अनुकूल परिस्थिति नहीं होगी। हालांकि फर्नांडिस के लिए आर्टिफिशियल टर्फ पर खेलने में ज़्यादा परेशानी नहीं आएगी और वह ठंडे मौसम में खेलने से भी काफी हद तक वाकिफ हैं।

इस बाबत उन्होंने कहा “हम मौसम के ठंडे होने का अनुमान लगा रहें हैं और अगर ऐसा हुआ तो यह एक चुनौती भरा माहौल होगा और हमे इसके मुताबिक़ खुद को ढालना भी होगा।”

उन्होंने आगे कहा “यह मुकाबला हमारे लिए ख़ास है और हमारा पूरा ध्यान इस समय इसे जीतने पर है। अच्छा प्रदर्शन करना बहुत अहम है और टीम इस बात से पूरी तरह से वाकिफ है। यहां से जीत हासिल करना हमारे लिए बहुत ज़रूरी है और यह जीत आगे आने वाले मुकाबलों के लिए आत्मविश्वास भी प्रदान करेगी।”

अर्श तक पहुंचने की चाह

फर्नांडिस एक ऐसे खिलाड़ी हैं जिनमें आत्मविश्वास की कोई कमी नहीं है। 2017-18 में हुए इंडियन सुपर लीग के संस्करण में उन्हें अपनी टीम एफसी गोवा के लिए बेहद उम्दा प्रदर्शन करते हुए देखा गया। यह उनके शानदार प्रदर्शन का ही नतीजा था कि उनकी टीम सेमीफाइनल तक जाने में सफल रही। तब से लेकर अब तक फर्नांडिस का फुटबॉल सफ़र शानदार रहा है।

आईएसएल के पिछले संस्करण में गोवा की टीम में शामिल फर्नांडिस अपनी टीम को फाइनल तक ले गए। इसके अलावा उनका घरेलू प्रदर्शन भी सरहानीय रहा जिसको देखते हुए कोच इगोर स्टिमाक ने उन्हें थाईलैंड में हुए किंग्स कप के लिए टीम में शामिल किया। इसके बाद से ही इस खिलाड़ी ने पीछे मुड़कर नहीं देखा।

पिछले कुछ महीनों के प्रदर्शन के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, “अपने देश का प्रतिनिधित्व करना एक सपना था और अब मैं इस सपने को जी रहा हूं। फिलहाल सब अच्छा चल रहा है और हर कोई इसे आगे ले जाने की कोशिश में जुटा है।"

रणभूमि की रणनीति

भारतीय फुटबॉल टीम के पूर्व कोच स्टीफन कोंसटेनटाइन के कार्यकाल के मुकाबले इस भारतीय फुटबॉल टीम ने स्टिमाक के मार्गदर्शन में डिफेंसिव खेल को पीछे छोड़ एक अलग तरह का खेल अपनाया है। एक और अलग चीज़ इस ब्लू टाइगर्स कही जाने वाली टीम में देखी गई कि उन्होंने अपनी रणनीति पास-और-मूव गेम वाली बनाई है।”

स्टीफन कोंसटेनटाइन के इस्तीफा देने के बाद इगोर स्टिमाक बनें भारतीय फुटबॉल टीम के प्रमुख कोच। फोटो क्रेडिट: एआईएफएफ मीडिया 

घरेलू लीगों में एक जैसा खेल खेलती टीमों की वजह से स्टिमाक की इस रणनीति को अपनाने में खिलाड़ियों को ज़्यादा परेशानी नहीं हुई और एक-एक कर हर खिलाड़ी अपनी भूमिका में ढलता चला गया। फर्नांडिस ने बताया कि फिलहाल यह बदलाव की प्रक्रिया सही जा रही है। उनकी मानें तो उनके हिसाब से भारतीय फुटबॉल टीम के मौजूदा कोच प्रतिद्वंदियों के खेल के तरीके को बख़ूबी समझते हैं। “इगोर एक चालाक कोच हैं और वह अपने प्रतिद्वंदी के खेल को परख कर ही मुकाबले की रणनीति बनाते हैं।” फर्नांडिस ने आगे बात करते हुए बताया।

“कभी-कभी हम ठीक वैसे ही खेलते हैं जैसे अपने-अपने क्लब के लिए खेलते हैं और कभी-कभी हम सीधे रणनीति अपनाते हैं। हम कोशिश करते हैं कि कोच की बनाई रणनीति पर टिके रहें। अगर वह कहते है कि बॉल को अपने पास रखकर खेलो तो हम ठीक वैसा ही करते हैं।”

2022 फीफा वर्ल्ड कप क्वालिफायर में अफ़गानिस्तान के खिलाफ मुकाबले में अब ज़्यादा समय नहीं रह गया है और यह देखना दिलचस्प होगा कि इस अहम मुकाबले के लिए भारतीय टीम की रणनीति क्या होगी और अपने प्रतिद्वंदी के कड़े सवालों का जवाब वह कैसे देती है।

मौके पर चौका

कोलकाता में बांग्लादेश के खिलाफ हुए क्वालिफायर में फर्नांडिस एक विकल्प खिलाड़ी के तौर पर मैदान में उतरे थे। मुकाबले के बीच में टीम में शामिल हुए फर्नांडिस ने शानदार खेल का मुज़ाहिरा पेश करते हुए आदिल खान के लिए गोल बनाने में मदद की। फर्नांडिस के द्वारा दिए गए मौक़े का फायदा उठाते हुए आदिल ने गोल दागा और स्कोर को 1-1 से बराबर करने में सफल हुए। अब यह कहना गलत नहीं होगा कि अफ़गानिस्तान के खिलाफ होने वाले अहम मुकाबले में भारतीय टीम के नज़रिए से फर्नांडिस की भूमिका काफी अहम रहेगी।