एशियाई तीरंदाजी चैंपियनशिप के दूसरे दिन भी बना रहा भारतीयों का उत्साह

पुरुषों की कंपाउंड टीम ने क्वालिफाइंग में शीर्ष स्थान हासिल किया जबकि महिलाओं की टीम तीसरे स्थान पर रही।

लेखक रितेश जायसवाल ·

बैंकॉक में चल रही एशियाई तीरंदाज़ी चैंपियनशिप के पहले दिन ज़ोरदार प्रदर्शन के बाद भारतीय तीरंदाज़ों ने दूसरे दिन भी अपने शानदार प्रदर्शन को जारी रखा।

अचूक रहे वर्मा

पुरुषों के कंपाउंड इवेंट में तीरंदाज़ अभिषेक वर्मा ने 705 अंकों के साथ भारतीय दल को नेतृत्व किया। वह शीर्ष के तीरंदाज़ से केवल कुछ अंकों से पीछे रहते हुए तीसरे स्थान पर रहे। रजत चौहान महज एक अंक पीछे रहते हुए 704 अंकों के साथ पांचवें स्थान पर रहे, जबकि मोहन रामस्वरूप भारद्वाज 701 के स्कोर के साथ शीर्ष 10 में शामिल रहे। सभी 2110 के सामूहिक स्कोर के साथ टीम स्टैंडिंग में भारत शीर्ष स्थान पर रहा। पहले राउंड में बाई मिलने का फायदा उठाते हुए सभी ने शानदार प्रदर्शन किया।

कवलप्रीत सिंह 692 के स्कोर के साथ 21वें स्थान पर रहे। वह शानडेन गेंजोरिग पर 146-134 की जीत के बाद दूसरे दौर में अपने हमवतन से मुकाबला करेंगे। अब तीसरे दिन चौहान का सामना स्याहरिज़ान जाफ़र से होगा और कवलप्रीत मार्टन डे ला क्रूज़ से भिड़ेंगे। वहीं, दूसरे दौर में युगल में वर्मा मोहम्मद सोहेल राणा से और भारद्वाज आशिम कुमेर दास से भिड़ेंगे।

ज्योति सुरेखा वेनाम 693 के साथ महिलाओं के कंपाउंड इवेंट में भारत की अग्रणी स्कोरर रहते हुए छठे स्थान पर रहीं।

तीसरे स्थान पर रही महिला टीम

तीरंदाज़ ज्योति सुरेखा वेनम ने 693 के स्कोर के साथ कम्पाउंड इवेंट में भारतीय महिलाओं का नेतृत्व किया। मुस्कान किरार महज़ एक अंक से पीछे रहते हुए 692 अंकों के साथ आठवें स्थान पर रहीं। जबकि प्रिया गुर्जर 683 के स्कोर के साथ 15वें स्थान पर रहीं। सभी तीरंदाज़ों के प्रयासों ने उन्हें कुल 2068 के स्कोर के साथ टीम स्टैंडिंग में तीसरा स्थान प्राप्त करने में मदद की। इशेम्बी देवी थुनाओजम, जो 662 के स्कोर के साथ 33वें स्थान पर रहीं। वह पहले दौर में नुरुल सियाजेरा मोहम्मद से हारने के बाद प्रतियोगिता से बाहर हो गईं। अस्मी ने 142-114 का स्कोर हासिल किया।

सोमवार को दूसरे दौर में किरार शामोली रे से, वहीं वेनम अनुराधा विजेसिंघे करुणारत्ने के खिलाफ भिड़ेंगी और गुर्जर डायना मकारचुक से भिड़ेंगी। 1398 के स्कोर के साथ वर्मा और वेनम की युगल जोड़ी मिश्रित टीम स्टैंडिंग में चौथे स्थान पर रही और पहले राउंड में उसने बाई हासिल किया।

आपको बता दें, इस चैंपियनशिप में साल 2020 में टोक्यो में होने वाले ओलंपिक खेलों के लिए तीरंदाज़ों के पास 6 कोटा स्थान हासिल करने का शानदार मौका है।