ओलंपिक कोटा हासिल करने वाली 11वीं निशानेबाज़ बनीं चिंकी यादव

चिंकी यादव महिला 25 मीटर एयर पिस्टल श्रेणी में कोटा स्थान हासिल करने वालीं दूसरी निशानेबाज़ बन गईं हैं।

लेखक रितेश जायसवाल ·

भारत के निशानेबाज़ों ने दोहा के कतर में चल रही 14वीं एशियाई चैंपियनशिप में शुक्रवार को भी अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखा। चिंकी यादव ने महिलाओं की 25 मीटर एयर पिस्टल फाइनल में जगह बनाकर भारत को निशानेबाज़ी में 11वां ओलंपिक कोटा दिलाया। हालांकि उनके लिए निराशा की बात यह रही कि वह फाइनल में पदक हासिल नहीं कर सकीं।

इस वर्ष के शुरू में आईएसएसएफ म्यूनिख वर्ल्ड कप में राही सरनोबत की जीत के बाद अपनी श्रेणी में यादव ने भारत के लिए दूसरा ओलंपिक कोटा जीता है।

छठे स्थान पर रहते हुए हासिल किया कोटा

राष्ट्रीय चैंपियनशिप में रजत और जूनियर विश्व चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज़ मेडल जीतने वालीं इस भारतीय शूटर ने पहली बार एशियन चैंपियनशिप में हिस्सा लिया। क्वालिफिकेशन में उनका प्रदर्शन काफी शानदार रहा। हालांकि वह इस फार्म को फाइनल में बरकरार रखने में नाकामयाब रहीं और 16 अंकों के साथ छठे स्थान पर रहीं।

फाइनल में पहुंचने से ही चिंकी का ओलंपिक कोटा तय हो चुका था। दरअसल, फाइनल में पहुंचने वाले आठ निशानेबाज़ों में से चार खिलाड़ी पहले ही कोटा हासिल कर चुके थे। वहीं इस टूर्नामेंट में कुल चार कोटे के लिए अन्य सभी खिलाड़ी अपनी ज़ोर-आज़माइश कर रहे थे। ऐसे में फाइनल में छठे स्थान पर रहते हुए चिंकी ने अपना ओलंपिक कोटा पक्का कर लिया।

चैंपियनशिप में शानदार रही शुरुआत

अपनी पहली चैंपियनशिप में चिंकी ने शुरुआत काफी अच्छी की। फाइनल में जगह बनाने के लिए उन्होंने 97, 96, 99, 97 के स्कोर के साथ कुछ शानदार शुरुआती राउंड निकाले। इसके बाद 21 वर्षीय इस निशानेबाज़ ने एक राउंड में परफेक्ट 100 अंक स्कोर करते हुए कुल 588 के स्कोर के साथ फाइनल में जगह बना ली। 

भारत के अन्य पिस्टल शूटर्स अन्नू राज सिंह और नीरज कौर क्रमशः 21वें और 27वें स्थान पर रहे और क्वालिफिकेशन राउंड से ही बाहर हो गए।

फाइनल में चिंकी का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा और वह छठे स्थान पर रहीं। वहीं थाईलैंड की नेफ्सवान यांगपैबून ने गोल्ड मेडल जीता, जबकि मंगोलिया की गुंडेग्मा ओट्रायड और चीन की जिंगजिंग झांग ने क्रमशः सिल्वर और ब्रॉन्ज़ मेडल पर अपना कब्ज़ा जमाया।

दूसरे स्थान पर रहे सिद्धू

दोहा में भारत के निशानेबाज़ों के लिए जश्न मनाने का एक और कारण युवा उदयवीर सिद्धू बनें। वह पुरुषों की 25 मीटर स्टैंडर्ड पिस्टल श्रेणी में दूसरे स्थान पर रहे। उदयवीर चीन के याओ झाओनान से सिर्फ एक अंक पीछे रहे। याओ ने 578 के स्कोर के साथ शीर्ष पुरस्कार हासिल किया। वहीं, भारत के विजयवीर सिद्धू 572 के स्कोर के साथ चौथे स्थान पर रहे।