तेजस्विनी सावंत ने भारत की ओर से जीता वूमेंस 3 पोज़िशन कोटा

पूर्व विश्व विजेता ने चौथे स्थान पर एशियन चैंपियनशिप ख़त्म की और साथ ही ओलंपिक कोटा भी जीता।

दोहा के क़तर में चल रही 14वीं एशियन चैंपियनशिप भारत के लिए लगातार खुशियां ला रही है। भारत की जानी मानी राइफल शूटर तेजस्विनी सावंत ने 3 पोज़िशन एयर राइफल वर्ग में खेलते हुए 1171 स्कोर के साथ क्वालिफिकेशन राउंड 5वें स्थान पर रहकर पार किया। सावंत के लिए ख़ास पल सिर्फ इस जीत ने ही नहीं बुनें बल्कि 2020 ओलंपिक गेम्स का कोटा भी उनके हाथ लगा। उनका प्रदर्शन उन्हें ओलंपिक कोटा जितवाने के लिए काफी था और अब पूरा भारत वर्ष उनसे ओलंपिक गेम्स में अच्छा प्रदर्शन करने की उम्मीद लगाए बैठा है। इस कोटे के साथ ही एशियन खिलाड़ियों के लिए कोटा स्थान अब ख़त्म हो चुके हैं।

मनु भाकर, अपूर्वी चंदेला, दीपक कुमार और अन्य कुछ खिलाड़ी जो कि टोक्यो 2020 के लिए कोटा प्राप्त कर चुकें, अब इस फेहरिस्त में सावंत ने भी अपना नाम शुमार कर लिया है।

लगातार उम्दा प्रदर्शन

भारतीय शूटर सावंत ने 14वीं एशियन चैंपियनशिप में लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है और चाहे नीलिंग वर्ग हो या प्रोन या फिर स्टैंडिंग, उन्होंने तीनो ही वर्गों में अपनी साख जमाए रखी और आगे के पड़ावों में क्वालिफाई करने के साथ-साथ ओलंपिक कोटा भी जीता। पहले राउंड में सावंत ने 99, 98 और 96 जैसा अच्छा स्कोर कर फाइनल में जगह बनाने का प्रयास किया और शुरू से ही उनका मुख्य वर्ग जो कि प्रोन शूटिंग है, उसमे उन्होंने कुल मिलाकर 394 स्कोर अपने नाम किया। यही वजह है कि आज विश्व भर में वह सराहना की पात्र बन गई हैं।

स्टैंडिंग पोज़िशन में कुछ समय के लिए सावंत ने लय ज़रूर खो दी थी और 4 राउंड में उन्होंने 383 स्कोर ही हासिल किए। हालांकि इस प्रदर्शन का उनके कुल स्कोर पर ज़्यादा फ़र्क नहीं पड़ा और उन्होंने 1171 स्कोर के साथ अगले पड़ाव यानी फाइनल के लिए क्वालिफाई किया।

भारत की काजल सैनी और गयथ्री निथ्यानन्दम ने भी ज़ोरदार प्रदर्शन दिखाया लेकिन यह दोनों ही फाइनल में जगह बनाने में असफल रहीं। 13वीं और 16वीं स्थान पर रहीं इन दोनों भारतीय खिलाड़ियों का सफ़र दोहा में चल रही 14वीं एशियन चैंपियनशिप में अब समाप्त हो चुका है।

जीता ओलंपिक कोटा

फाइनल के लिए बेहद अच्छे स्कोर से क्वालिफाई कर चुकी सावंत पोडियम पर जगह नहीं बना सकीं या यूं कहें कि अच्छे प्रदर्शन के बावजूद वह मेडल जीतने में नाकामयाब रहीं। हालांकि सावंत का कुल स्कोर 435.8 रहा जिस वजह से उन्हें चौथे स्थान से संतुष्टि करनी पड़ी। चीन की मेंग्यो शि ने 457.9 स्कोर के साथ गोल्ड मेडल पर अपना कब्ज़ा जमाया और मंगोलिया की जेसुगेन ओयुनबट ने शानदार प्रदर्शन के साथ सिल्वर मेडल जीता। वहीं जापान की शियोरी हिराटा ने ब्रॉन्ज़ मेडल पर अपने नाम की मुहर लगाई। तेजस्विनी सावंत मेडल तो नहीं जीत पाईं लेकिन भारतीय दर्शकों के दिलों को जीतने के साथ उन्होंने ओलंपिक कोटा ज़रूर अपने नाम किया। इस काबिलेतारीफ़ प्रदर्शन की बदौलत वह अगले साल जापान में होने वाले ओलंपिक गेम्स का टिकट हासिल कर सकती हैं।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!