बैडमिंटन

मलेशिया मास्टर्स में नेहवाल और सिंधु के नाम दर्ज हुई एक और जीत 

मलेशिया मास्टर्स में भारतीय महिला बैडमिंटन खिलाड़ियों ने एक और जश्म मनाने का मौका दिया। 

लेखक जतिन ऋषि राज ·

कुआलालंपुर में चल रहे मलेशिया मास्टर्स में जहां एक तरफ श्रीकांत किदांबी और पारुपल्ली कश्यप जैसे भारतीय धुरंधर बाहर हो चुके हैं, वहीं भारतीय महिला बैडमिंटन खिलाड़ी अपने प्रदर्शन से सभी को प्रभावित कर रही हैं। भारतीय अनुभवी बैडमिंटन खिलाड़ी, पीवी सिंधु और साइना नेहवाल ने आज यानि गुरुवार को एक और जीत दर्ज कर अपने कारवां को आगे बढ़ाया।

दोनों ही खिलाड़ियों के लिए ओलंपिक गेम्स के साल की शुरुआत इससे बेहतर नहीं हो सकती। मलेशिया मास्टर्स के दूसरे राउंड में भी इन दोनों महिला शटलरों ने उम्दा खेल दिखाते हुए बाज़ी मारी। 

पीवी सिंधु ने ओहोरी को पछाड़ाछठी वरीयता प्राप्त पीवी सिंधु का सामना जापानी आया ओहोरी से हुआ। आपको बता दें इन दोनों खिलाड़ियों का आमना-सामना आज से पहले 8 बार हुआ है और हर जीत भारत के ही खेमे में आई है। सेकंड राउंड में भी भारतीय स्टार सिंधु ने शानदार प्रदर्शन दिखाया और अपनी प्रतिद्वंदी को 21-10, 21-15 से शिकस्त दी।

खेल की शुरुआत में ही ओहोरी को लय पकड़ने में मुश्किल हो रही थी, जिस वजह से वह सिंधु को 6-0 की बढ़त दे बैठीं। खेल आगे बढ़ा लेकिन सिंधु का स्टाइल नहीं बदला, आधे समय तक स्कोर भारत के हित में 11-5 से रहा। 

दूसरे गेम में ओहोरी ज़्यादा आत्मविश्वास के साथ खेलती दिखीं और उन्होंने आसानी से हार न मानने का फैसला कर लिया था। शुरूआती दौर में जापान की 23 वर्षीय बैडमिंटन खिलाड़ी ने सिंधु को बांधे रखा और स्कोर 6-6 से बराबर कर दिया। अपने अनुभव का फायदा उठाते हुए सिंधु ने लगातार अंक बटोरने की कोशिश की और वे इसमें सफल भी हुईं। बोर्ड पर आखिरी स्कोर भारत के हक में 21-15 से लिखा गया और इसी के साथ सिंधु ने सेकंड राउंड को पार कर मलेशिया मास्टर्स के अपने सफ़र को आगे  बढ़ाया। 

पीवी सिंधु का अगला मुकाबला ताइ ज़ू-यिंग से होगा।

ओलंपिक गोल्ड को लेकर अपने जुनून पर बोलीं पीवी सिंधु

भारत ने आखिरी बार 2008 में ओलंपिक स्वर्ण पदक जीता था। बैडमिंटन स्टार पीवी स...

साइना नेहवाल ने यंग को किया पस्त 

सिंधु के बाद अब जीत का पर्चम लहराने की बारी थी भारत की स्टार खिलाड़ी साइना नेहवाल की। मलेशिया मास्टर्स के दूसरे राउंड में नेहवाल की भिड़ंत साउथ कोरिया कएन से यंग से हुई। यह मुकाबला रोमांच से भरपूर रहा और अंतत जीत भारतीय साइना नेहवाल की हुई। नेहवाल ने यंग को 25-23, 21-12 से मात देते हुए अपने कारवां को आगे बढ़ाया।

नेहवाल के बस्ते में ओलंपिक गेम्स का मेडल भी है तो ज़ाहिर तौर पर कोई भी खिलाड़ी उन्हें हल्के में नहीं ले सकतायंग नेहवाल की क़ाबलियत से वाकिफ थीं और वे कोर्ट पर एक रणनीति के साथ उतरीं। दोनों तरफ से प्रहार हो रहे थे लेकिन नेहवाल ने गेम पर काबू करते हुए 25-23 से जीत हासिल की।

How well do you know: Saina Nehwal?

Fun facts about India's first badminton medallist .... but not all of them ...

पहले गेम में कड़ी टक्कर देने के बादयंग से उम्मीदें बढ़ चुकी थीं लेकिन दूसरे गेम में उनको लय पकड़ने में मुश्किलों का सामना करना पड़ा। भारतीय शटलर ने शानदार खेल दिखा कर इस गेम को 21-12 से अपने नाम किया और मुकाबले को जीतते हुए भारतीय खेल प्रेमियों को जश्न मनाने का मौका दिया। 

साइना नेहवाल क्वार्टरफाइनल में अपनी पुरानी प्रतिद्वंदी कैरोलिना मारिन से भिड़ेंगी। मारिन की फॉर्म पर संदेह नहीं किया जा सकता और नेहवाल जानती हैं कि वे एक महान खिलाड़ी हैं और उनके खिलाफ एक सही रणनीति से उतरना होगा। मलेशिया मास्टर्स के पिछले संस्करण में इन दोनों खिलाड़ियों का मुकाबला सेमीफाइनल में हुआ था जहां भारत के हाथ निराशा लगी थी। अब देखना यह होगा कि यह दोनों खिलाड़ी इस मुकाबले में कैसा प्रदर्शन करती हैं और जीत का सेहरा किसके सिर बंधता है।