हांग कांग ओपन के मुख्य ड्रॉ में पहुंचे सौरभ वर्मा 

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी सौरभ का अब ओपनिंग राउंड में फ्रांस के ब्रीस लेवरडेज़ से मुकाबला होगा। 

लेखक रितेश जायसवाल ·

हैदराबाद ओपन चैंपियन सौरभ वर्मा ने अपने शानदार प्रदर्शन को जारी रखते हुए अपने दोनों क्वालिफिकेशन गेम्स जीतकर 2019 हांग कांग ओपन सुपर 500 के मुख्य ड्रॉ में जगह बना ली है। इस 26 वर्षीय बैडमिंटन खिलाड़ी का अब ओपनिंग राउंड में फ्रांस के ब्रीस लेवरडेज़ से मुकाबला होगा। जबकि दूसरे राउंड में संभवतः उनका मुकाबला हमवतन श्रीकांत किदांबी से होगा।

वर्मा की जीत के अलावा भारतीय मिश्रित युगल टीमों के लिए आज का दिन परिणाम के मामले में मिला-जुला रहा। एक ओर जहां सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी और अश्विनी पोनप्पा की जोड़ी ने रोमांचक मुकाबले में सावित्री अमित्रापाई और निपिटफॉन फुआंगफुआपेत की थाई जोड़ी पर जीत दर्ज की तो वहीं दूसरी ओर प्रणॉय चोपड़ा और एन सिक्की रेड्डी की जोड़ी डेकापोल पुआवराणुक्रोह और सापसिरी ताएरात्तानाचाई की थाई जोड़ी से हार गई।

रोमांचक रहा वर्मा का प्रदर्शन

हांग कांग ओपन क्वालीफिकेशन के पहले मैच में वर्मा ने थाईलैंड के तानोनसाक सेंसोम्बोंसुक को 21-15, 21-19 से शिकस्त दी। दूसरे मुकाबले में भी उन्होंने अपना शानदार प्रदर्शन बरकरार रखते हुए फ्रांस के लुकस क्लेयरबाउट को सीधे गेमों में 21-19, 21-19 से पराजित किया।

पहले क्वालिफिकेशन मैच को जीतने में वर्मा ने 45 मिनट का समय लिया। एक समय स्कोर 8-8 से बराबर था और फिर थाईलैंड के खिलाड़ी ने बढ़त बना ली। हालांकि, ब्रेक के बाद वर्मा ने शानदार वापसी की और 21-15 से गेम जीत लिया।

दूसरे गेम में कांटे की टक्कर देखने को मिली। थाई खिलाड़ी के खिलाफ अंक हासिल करने में सौरभ को काफी मशक्कत करनी पड़ी। सौरभ ने अंतिम पलों में भी संयम बनाए रखा और मुकाबले को अपने नाम करने में सफलता हासिल कर ली।

वर्मा और लुकस क्लेयरबाउट के बीच हुए दोनों गेम दमदार रहे और मुकाबला तकरीबन 47 मिनट तक चला। पहले व दूसरे दोनों ही गेमों को वर्मा ने कड़े मुकाबले में 21-19 से जीत लिया। अब वर्मा बुधवार को पुरुष एकल वर्ग में पहले दौर का मैच खेलेंगे। आपको बता दें भारत के श्रीकांत किदांबी, बी साई प्रणीत, समीर वर्मा, एचएस प्रणय और पारुपल्ली कश्यप भी इस टूर्नामेंट में हिस्सा ले रहे हैं।

युगल जोड़ी में मिले-जुले रहे परिणाम

एकल के बाद भारतीय मिश्रित युगल जोड़ी भी जीत का डंका बजाने में कामयाब रही। रंकीरेड्डी और पोनप्पा की जोड़ी ने थाईलैंड की अमित्रापाई और फुआंगफुआपेत के खिलाफ खेलते हुए अपना पहला गेम 16-21 से गंवा दिया। लेकिन इसके बाद खेल में शानदार वापसी करते हुए इस जोड़ी ने दूसरा और तीसरा गेम क्रमशः 21-19, 21-17 से जीत लिया। इस भारतीय जोड़ी का अब अगला मुकाबला या तो जापान के युता वातनाबे और अरिसा हिगाशिनो से या फिर हांग कांग की मिंग नोक युंग और नग तज़ याउ की जोड़ी से होगा।

वहीं, चोपड़ा और रेड्डी की युगल जोड़ी डेकापोल पुआवराणुक्रोह और सापसिरी ताएरात्तानाचाई की तीसरी वरीयता प्राप्त थाई जोड़ी को टक्कर देने में नाकाम रही। हालांकि भारतीय जोड़ी ने पहले गेम में पांच अंकों की बढ़त के साथ अच्छी शुरुआत की। लेकिन थाई शटलरों ने दोबारा मैच में वापसी करते हुए भारतीय जोड़ी को 21-10 से हराकर पहला गेम अपने नाम कर लिया। दूसरे गेम में मुकाबला कांटे का रहा, लेकिन इसे भी भारतीय जोड़ी 18-21 से हारकर टूर्नामेंट से बाहर हो गई।