हांग कांग ओपन के दूसरे राउंड में पहुंची सिंधु, नेहवाल को हाथ लगी निराशा 

भारत के समीर वर्मा को पहले राउंड में मिली हार जबकि एचएस प्रणॉय ने जीता अपना पहला मुकाबला।

लेखक अरसलान अहमर ·

भारत की शीर्ष वरीयता प्राप्त महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने अपना हांग कांग ओपन का आगाज़ जीत के साथ किया। बुधवार को हुए मुकाबले में उन्होंने दक्षिण कोरिया की शटलर किम गा युन को दो सीधे गेमों में 21-15, 21-16 से मात देते हुए इस मुकाबले को अपने नाम किया। इस जीत के साथ ही सिंधु ने 2019 हांग कांग ओपन के दूसरे राउंड में अपनी जगह पक्की कर ली।

एक तरफ जहां सिंधु को जीत नसीब हुई वहीं बुधवार की सुबह साइना नेहवाल और समीर वर्मा के लिए निराशा लेकर आई। दरअसल, पहले ही राउंड में हारकर यह दोनों ही भारतीय शटलर टूर्नामेंट से बाहर हो गए।

भारत के शीर्ष वरीयता प्राप्त पुरुष एकल खिलाड़ी श्रीकांत किदांबी भी इस टूर्नामेंट के अगले राउंड में प्रवेश कर चुके हैं। दिलचस्प बात यह रही कि किदांबी को पहले राउंड में बिना कोई मुकाबला खेले ही दूसरे राउंड में जगह मिल गई। वह इसलिए क्योंकि उनके प्रतिद्वंद्वी खिलाड़ी जापान के केंटो मोमोटा ने इस मैच से वॉकओवर किया जिसके कारण किदांबी दूसरे राउंड में प्रवेश कर गए। इसके अलावा भारत के एचएस प्रणॉय के लिए भी अच्छी ख़बर यह रही कि उन्होंने अपने पहली ही मुकाबले में जीत हासिल की। अब अगले राउंड में उनका सामना इंडोनेशिया के जोनाथन क्रिस्टी से होगा।

सिंधु ने दिखाया दम

वर्ल्ड चैंपियन सिंधु के मुकाबले की बात करें तो अपने नतीजे के विपरीत उन्होंने मुकाबले के पहले गेम की शुरुआत की। विरोधी दक्षिण कोरियन शटलर किम गा युन ने पहले गेम में बढ़त बनानी शुरू की और वह स्कोर को 11-10 से अपने अपने हक़ में ले गई। यह वह समय था जब सिंधु अपने शॉट के चयन में कुछ गलतियां करती हुए दिखाईं दे रही थीं। लेकिन यहां से 24 वर्षीय भारतीय शटलर ने गेम का रुख़ अपने हक़ में पलटना शुरू किया। शानदार खेल का मुज़ाहिरा पेश करते हुए सिंधु ने गा युन को पूरे गेम में सिर्फ 4 और अंक हासिल करने दिए। अपनी विरोधी खिलाड़ी को कोर्ट के चारों ओर छकाते हुए सिंधु ने पहले गेम को 21-15 से अपने नाम किया।

दूसरे गेम के शुरुआत में इन दोनों ही खिलाड़ियों के बीच कड़ा मुकाबला देखने को मिला। एक समय स्कोर 3-3 से बराबर चल रहा था लेकिन तभी भारतीय शटलर ने आक्रामक रुख़ इख़्तियार करते हुए कुछ लाजवाब शॉट्स खेलने शुरू किए। इसके साथ ही सिंधु ने अपनी ख़ास रणनीति के तहत नेट के पास रहकर खेलना शुरू किया और देखते ही देखते उन्होंने लगातार 7 अंक हासिल करते हुए 12-5 की बढ़त बना ली। यहां से गा युन पर दबाव बढ़ता चला गया और फिर सिंधु ने मुकाबले में पीछे मुड़कर नहीं देखा। इस मौक़े का फायदा उठाते हुए उन्होंने दूसरे गेम को 21-16 से जीतकर मुकाबले को अपने नाम किया। आपको बता दें अब सिंधु का दूसरे राउंड में अगला मुकाबला थाईलैंड की बुसानान ओन्गब्रामंगफान से होगा।

साइना नेहवाल को हांग कांग ओपन के पहले ही मुकाबले में चीन की काई यानयान के हाथों दो सीधे गेमों में शिकस्त मिली।

नेहवाल और वर्मा ने किया निराश

फ्रेंच ओपन क्वार्टरफाइनल तक पहुंचने वाली भारतीय शटलर साइना नेहवाल के लिए बैडमिंटन कोर्ट में पिछले कुछ महीनें बेहद ही निराशाजनक रहे हैं। साइना की हार का सिलसिला हांग कांग ओपन में भी जारी रहा जब उन्हें इस टूर्नामेंट के पहले ही राउंड में हार का सामना करना पड़ा। 2012 लंदन ओलंपिक की ब्रॉन्ज मेडल विजेता को चीन की काई यानयान के हाथों दो सीधे गेमों में शिकस्त का सामना करना पड़ा।

चीनी शटलर ने पहले ही गेम की शुरुआत शानदार अंदाज़ में की और 11-2 की बढ़त बनाकर उन्होंने मुकाबले के शुरूआती दौर में ही साइना पर दबाव बनाना शुरू कर दिया। इसके बाद साइना ने गेम में वापसी की काफी कोशिश करते हुए कुछ बेहतरीन शॉट्स ज़रूर खेले। लेकिन यह प्रयास यानयान के लिए काफी नहीं थे। इस गेम में ऐसा एक भी समय नहीं आया जब भारतीय शटलर ने बढ़त बनाई हो। नतीजे के तौर पर, पहले गेम को यानयान ने 21-13 से जीता।

दूसरे गेम में अच्छी शुरुआत करते हुए साइना ने 3-0 की बढ़त बनाई। लेकिन एक बार फिर से चीनी खिलाड़ी ने अपना दम दिखाया और गेम में अपनी पकड़ बनानी शुरू कर दी। हालांकि दूसरे गेम में साइना ने पहले से बेहतर खेल दिखाया। लेकिन यह कोशिश उनकी विरोधी खिलाड़ी के लिए नाकाफी साबित हुई। लगातार 7 अंक हासिल करते हुए चीनी शटलर ने साइना पर अपना दबाव बनाया और दूसरे गेम को 22-20 से जीतकर मुकाबले को अपने नाम किया। यानयान का अब अगले राउंड में अमेरिका की बेईवेन झांग से सामना होगा।

साइना की हार के बाद भारतीय खेमे को समीर वर्मा की शिकस्त के साथ ही एक और निराशा हाथ लगी। वर्मा को चीनी ताइपे वैंग त्ज़ू वेइ ने 11-21, 21-13 और 8-21 से मात दी। पहला गेम हारने के बाद हालांकि वर्मा ने वापसी करते हुए दूसरा गेम जीता लेकिन आख़िरी और निर्णायक गेम में उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा।

प्रणॉय बढ़े एक कदम आगे

भारतीय शटलर एचएस प्रणॉय ने भी हांग कांग ओपन का आगाज़ जीत के साथ किया है। उन्होंने चीन के हुआंग युक्सियांग को 44 मिनट चले मुकाबले में दो सीधे गेमों में 21-17, 21-17 से मात दी।