बैडमिंटन

मलेशिया मास्टर्स में भारतीय पुरुष एकल की उम्मीदों पर लग गया विराम

एच एस प्रणॉय और समीर वर्मा दोनों ही अपने अपने मुक़ाबले सीधे सेटों में हारकर मलेशिया मास्टर्स से हुए बाहर

लेखक सैयद हुसैन ·

भारत के स्टार शटलर एच एस प्रणॉय जिन्हें जाना जाता है दिग्गजों का शिकार करने के लिए, मलेशिया मास्टर्स सुपर 500 इवेंट में वह इस कारनामे को नहीं दोहरा पाए और दूसरे दौर में ही हारकर बाहर हो गए। प्रणॉय को वर्ल्ड नंबर-1 केंटो मोमोटा ने 21-14, 21-16 से महज़ 45 मिनटों में शिकस्त दे दी।

इसके बाद पुरुष एकल में भारत की ओर से सिर्फ़ एक ही उम्मीद बची थी और वह थे समीर वर्मा, लेकिन वह भी अगले ही मैच में ली ज़ी जिया के हाथों 19-21, 20-22 से हार गए।

प्रणॉय ने हार से पहले बहादुरी से मोमोटा का किया सामना

दुनिया के नंबर-1 शटलर के सामने एच एस प्रणॉय जब कोर्ट में उतरे थे, तो मोमोटा का फ़ॉर्म देखते हुए सभी को लग रहा था कि जीत के दावेदार तो मोमोटा ही हैं। इससे पहले भी केंटो मोमोटा और प्रणॉय 6 बार आमने सामने हुए थे और सभी बार जीत जापानी शटलर को ही मिली थी।

केंटो मोमोटा, अपराजेय खिलाड़ी

दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी और दो बार के विश्व चैंपियन ने 2019 में शानदार प्र...

हालांकि प्रणॉय ने मैच की शुरुआत सकारात्मक तरीक़े से की थी, शुरुआत में वह 4-1 से आगे भी थे। लेकिन तुरंत ही जापानी स्टार ने अपने खेल को बदलते हुए पहले 5-5 से स्कोर बराबर किया फिर ब्रेक तक 11-8 की बढ़त हासिल कर ली।

दिल्ली के रहने वाले 27 वर्षीय भारतीय शटलर ने बहादुरी के साथ सामना करते हुए एक समय 12-13 का स्कोर कर दिया था, लेकिन इसके बाद भारतीय खिलाड़ी को सिर्फ़ दो ही अंक मिले और मोमोटा ने 21-14 से पहला गेम अपने नाम कर लिया था।

मैच में 0-1 से पीछे होने के बाद भारतीय खिलाड़ी से पलटवार की उम्मीद थी, और ठीक वही हुआ। दूसरे गेम में प्रणॉय ने मोमोटा पर 6-0 की बढ़त हासिल कर ली थी, लेकिन मोमोटा को वापसी करने में ज़रा भी देर नहीं लगी और वह 9-9 से स्कोर को बराबरी पर ले आए, ब्रेक टाइम तक हालांकि भारतीय शटलर 11-9 से आगे हो गए थे।

लेकिन मोमोटा को इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ा, और वह भी कमाल का खेल खेलते हुए स्कोर 16-16 तक ले आए थे। एक बेहद रोमांचक मैच की अब उम्मीद दिखने लगी थी, मोमोटा ने सारी उम्मीदों को तोड़ डाला और यहां से लगातार 5 प्वाइंट्स अपनी झोली में डालते हुए दूसरा गेम 21-16 से जीतते हुए तीसरे दौर में प्रवेश कर लिया जबकि भारतीय शटलर का सफ़र ख़त्म हो गया।

मलेशिया के ली ज़ी जिया शानदार फ़ॉर्म थे, उन्होंने भारत के समीर वर्मा को सीधे गेम्स में दी मात

रोमांचक मुक़ाबले में समीर वर्मा की हार

दूसरे दौर के मुक़ाबले में समीर वर्मा के सामने थी बराबरी के प्रतिद्वंदी ली ज़ी जिया की चुनौती, और शुरुआत से ही दोनों ही शटलरों के बीच ज़ोरदार जंग हो रही थी। भले ही भारतीय शटलर ने ब्रेक टाइम तक 11-8 की बढ़त बनाई रखी थी, लेकिन जिया भी ज़बर्दस्त वापसी करते हुए स्कोर 19-19 तक ले आए थे।

इसके बाद जिया ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और अगले दो प्वाइंट्स जीतते हुए पहला गेम 21-19 से जीत लिया।

उम्मीद थी कि समीर वर्मा इस करो या मरो के गेम में वापसी करेंगे, लेकिन ये भी ठीक पहले ही गेम की तरह रहा। जहां ब्रेक टाइम तक एक बार फिर बढ़त 11-8 से समीर वर्मा के पास रही, और जिया ने दोबारा मैच में वापसी की।

आख़िरकार दूसरा गेम 20-20 पर आ गया था, लेकिन यहां से मलेशियाई शटलर ने अगले दो प्वाइंट्स जीतते हुए 22-20 से गेम और मुक़ाबला अपने नाम कर लिया।