मलेशिया मास्टर्स में रंकीरेड्डी और शेट्टी को करना पड़ा हार का सामना

मलेशिया मास्टर्स में ओंग येव सिन और तियो ई यी ने भारतीय स्टार जोड़ी सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी को शिकस्त दी। 

लेखक जतिन ऋषि राज ·

साल 2020 ओलंपिक खेलों का साल है और सभी देशों के खिलाड़ी इसमें हिस्सा लेने लिए बेहद उत्सुक है। बैडमिंटन की बात करें तो भारत की स्टार जोड़ी के लिए साल की शुरुआत अच्छी नहीं हुई। मलेशिया मास्टर्स 500 इवेंट के दौरान सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी को हार का सामना करना पड़ा।

मेंस डबल्स में खेलते हुए इस भारतीय जोड़ी का सामना ओंग येव सिन और तियो ई यी से हुआ और वे इस मुकाबले को अपने हक में करने में असफल रहे। ओंग येव सिन और तियो ई यी ने बेहतरीन खेल प्रदर्शन दिखाते हुए 21-15, 21-18 और 21-15 से जीत हासिल कर अपने भविष्य का प्रमाण पेश किया।

साल 2019 की बात करें तो रंकीरेड्डी और शेट्टी की जोड़ी कई उपलब्धियां हासिल करने में सफल रही, जिसमे थाईलैंड ओपन जैसी बड़ी प्रतियोगिताएं भी शामिल हैं। हालांकि वे इस फॉर्म को लम्बे वक्त तक बरकरार रखने में असफल रहे, नतीजतन साल 2020 की शुरुआत हार के साथ की।

कुआलालंपुर में चल रहे मलेशिया मास्टर्स 500 इवेंट में इस मुकाबले की मलेशियाई टीम ने बेहतरीन तरीके से शुरुआत कर अपनी दृढ़ता का सबूत दिया। पहली गेम के आधे समय तक वे भारतीय जोड़ी से 11-8 से आगे चल रहे थे।

हालांकि भारतीय जोड़ी ने अच्छा खेल खेला और स्कोर को 12-12 से बराबर कर दिया। लेकिन इसके बाद भारतीय खिलाड़ियों ने लय खो दी और उनके प्रतिद्वंदियों ने इसका भरपूर फायदा उठाया। इस गेम को मलेशियाई जोड़ी ने 21-15 से अपने हक में कर लिया।

हालांकि भारतीय जोड़ी ने अच्छा खेल खेला और स्कोर को 12-12 से बराबर कर दिया। लेकिन इसके बाद भारतीय खिलाड़ियों ने लय खो दी और उनके प्रतिद्वंदियों ने इसका भरपूर फायदा उठाया। इस गेम को मलेशियाई जोड़ी ने 21-15 से अपने हक में कर लिया।

दूसरे गेम मरंकीरेड्डी और शेट्टी ने धावा बोला और 4-1 की बढ़त बना ली। हालांकि मलेशिया की जोड़ी भी पीछे नहीं रही और उन्होंने आधे समय तक 11-10 के स्कोर से अंतर को कम कर दिया।

खेल आगे बढ़ रहा था और दोनों ही जोड़ियां एक-दूसरे को कड़ी टक्कर दे रहीं थीं। भारतीय खेमे ने एक ओर इस गेम में लय पकड़ी तो आखिर तक उसके साथ ही रहे। अंरंकीरेड्डी और शेट्टी ने इस गेम को 21-15 से जीत लिया।

सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी ने जीता 2019 थाईलैंड ओपन 

अब बारी थी तीसरे गेम की और दोनों ही जोड़ियों को एक दूसरे की रणनीति का अंदाजा हो गया था। इस गेम में बाज़ी पलटी औओंग और तियो ने 4-0 से बढ़त बना ली। आधे समय तक अंतर ज़रूर कम हुआ लेकिन बढ़त अभी भी मलेशिया के खेमे में ही थी। खेल दोबारा शुरू हुआ और स्कोर 11-9 था। भारत ने भी वापसी करने की कोशिश की और अब स्कोर 17-5 से भारत के विपक्ष में था। दोनो ही जोड़ियों ने शानदार खेल प्रदर्शन दिखाया, लेकिन विपक्षी खेमे ने इस बार बाज़ी मारी और 21-15 से गेम अपने नाम कर लिया।

महिला युगल में भी भारत को हार का सामना करना पड़ा। पूजा दंडु और संजना संतोष की जोड़ी सितफादिया सिल्वा रामाधंती और रिबका सुगतिर्तो से भिड़ती दिखी। इस जोड़ी का प्रदर्शन निराशाजनक रहा और इन्हें 15-21, 10-21 से हार को स्वीकार करना पड़ा।

शुभांकर डे ने खोई लय

मलेशिया मास्टर्स में भारत के शुभांकर डे ने भी हिस्सा लिया और उनका सामना हुआ लोकल डैरन लिऊ से। शुरुआत में ही शुभंकर अपनी लय से लड़ते दिखे जिस वजह से उन्हें इस मुकाबले को अपने हाथों से गवाना पड़ा। पहली गेम में तो हश्र यह था कि शुभंकर डे ने लिऊ को लगातार 4 अंक बटोरने के मौके दो बार दिए। इस नतीजन उन्होंने इस गेम को 21-15 से अपने हक में किया।

पहले गेम के बाद शुभांकर डे से उम्मीद थी कि वे वापसी करेंगे, लेकिन वह 8-4 की बढ़त बनाने के बाद मैच पर पकड़ बनाए रखने में नाकामयाब रहे। इस गेम को भी भारतीय शटलर ने 2-15 से गंवा दिया और साथ ही मुक़ाबले को भी।जीत के लक्ष्य से भटके लक्ष्य सेन

लक्ष्य सेन वह नाम है, जिसने बांग्लादेश ओपन जीतकर अपने भविष्य का प्रमाण पेश किया। सभी इनसे उम्मीदें लगाए बैठे थे, लेकिन परिणाम इस शटलर के हक में नहीं रहे। हालांकि सेन ने कुछ अच्छे शॉट दिखाए लेकिन मुक़ाबले को बचा न सके। यह कहना गलत नहीं होगा कि डेनमार्क के हैंस-क्रिस्टियन विटिन्गस के सामने खेलना आसान नहीं है, लेकिन फिर भी सेन ने हिम्मत न हारते हुए पूरा ज़ोर लगाया और पहला गेम 21-11 से अपने नाम कर लिया।विटिन्गस भी कहां शांत बैठने वालों में से थे, उन्होंने पलटवार कर दूसरा गेम 21-17 से अपने नाम कर लिया। अब बारी थी तीसरे गेम की और मुकाबले को जीत के साथ ख़त्म करने की। मुकाबला तो ख़त्म हुआ लेकिन सेन के हाथ सिर्फ निराशा हाथ लगी और विटिन् ने इसे 21-14 से जीत कर मुक़ाबले को फतह कर लिया।