एफआईएच प्रो लीग में खेलते हुए दिखेंगे चिंगलेनसाना, एक साल बाद हुई टीम में वापसी

भुवनेश्वर में होने वाले पहले मैच के लिए भारतीय टीम में सुमित भी शामिल होंगे।

लेखक ओलंपिक चैनल ·

नीदरलैंड के खिलाफ एफआईएच प्रो लीग के पहले मैच के लिए हॉकी इंडिया ने सोमवार को पुरुष हॉकी टीम की घोषणा कर दी है। इस टीम में अनुभवी मिडफील्डर चिंगलेनसाना सिंह कंगुजाम और युवा सुमित गुना ने वापसी की है। 18 और 19 जनवरी को नीदरलैंड के खिलाफ भारतीय टीम का नेतृत्व मनप्रीत सिंह करेंगे, जबकि ड्रैग फ्लिकर हरमनप्रीत सिंह उप-कप्तान होंगे।

टीम में युवा और अनुभव खिलाड़ियों का एक अच्छा मिश्रण है जिसमें कृष्ण बी पाठक, गुरिंदर सिंह, अमित रोहिदास, सुरेंद्र कुमार और बीरेंद्र लाकड़ा के साथ गोलकीपर पीआर श्रीजेश के नाम शामिल हैं। इसके अलावा रूपिंदर पाल सिंह, विवेक सागर प्रसाद और नीलकांत शर्मा जैसे कुछ बड़े नाम भी इस टीम को और मजबूती प्रदान कर रहे हैं।

फॉरवर्ड खिलाड़ी गुरजंत सिंह को हाल ही में राष्ट्रीय कोचिंग शिविर में एक अच्छे प्रदर्शन के बाद टीम में जगह मिली है। वह एसवी सुनील, ललित कुमार उपाध्याय, मनदीप सिंह, आकाशदीप सिंह, गुरसाहिबजीत सिंह और कोथाजीत सिंह खडंगबम के साथ टीम में शामिल होकर टीम के लिए ज़ोर-आज़माईश करते हुए दिखाई देंगे।

चोट की वजह से चिंगलेनसाना सिंह एक साल के लिए बाहर हो गए थे

चोट से वापसी

चिंगलेनसाना सिंह आखिरी बार फरवरी 2019 में फील्ड पर खेलते हुए नज़र आए थे। जहां वह 9वीं हॉकी इंडिया सीनियर पुरुष राष्ट्रीय चैंपियनशिप (ए डिवीजन) में रेलवे की ओर से नेतृत्व कर रहे थे। उनकी टीम ने फाइनल मुकाबला तो जीता लेकिन उस मैच में टखने के फ्रैक्चर के बाद वह पूरे साल मैदान से दूर रहे।

वहीं सुमित को जून 2019 में चोट लगी थी, जब वह एफआईएच मेंस सीरीज़ फाइनल में राष्ट्रीय टीम में खेल रहे थे। उस टूर्नामेंट में भारत की दक्षिण अफ्रीका पर जीत के दौरान वह घायल हो गए थे।

एफआईएच प्रो लीग में मनप्रीत सिंह करेंगे टीम का नेतृत्व

रीड को है बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद

भारतीय पुरुष हॉकी टीम के मुख्य कोच ग्राहम रीड ने कहा, “भुवनेश्वर में इस सप्ताह के अंत में हमने नीदरलैंड से खेलने के लिए अपेक्षाकृत अनुभवी टीम चुनी है। वरुण कुमार ओलंपिक क्वालिफायर के दौरान नर्व इंजरी से जूझने के बाद इस सप्ताह ट्रेनिंग में वापसी करेंगे।”

हालांकि हमें पूरे एक साल के बाद चिंगलेनसाना को अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में वापसी करते हुए देखने का मौका मिलेगा और सुमित 6 महीने की हाथ की चोट के बाद वापसी करेंगे। दोनों अच्छी तरह से प्रशिक्षण ले रहे हैं और शारीरिक रूप से फिट हैं। गुरजंत ने ट्रेनिंग में भी शानदार फॉर्म दिखाया है और टीम में अपनी जगह वापस हासिल की है।

रीड ने आगे कहा, "दुनिया की शीर्ष 3 टीमों के खिलाफ हमारे पहले 3 मुकाबलों के साथ प्रो लीग में मजबूत और तेज शुरुआत करना महत्वपूर्ण होगा। हम अपनी टीम को सही क्रम व लय में लाते हुए अपने ओलंपिक अभियान की शानदार शुरुआत के लिए तैयार रहेंगे।”

भारत के आगे का सफर

भारत 18 जनवरी को नीदरलैंड के खिलाफ अपने एफआईएच प्रो लीग अभियान की शुरुआत करेगा। भारत जनवरी और फरवरी में छह मैचों और मई में दो मैचों के साथ कुल आठ घरेलू मैच खेलेगा।

18 और 19 जनवरी को नीदरलैंड के खिलाफ भारत के शुरुआती दो मुक़ाबलों के बाद, भारत 22 और 23 फरवरी को ऑस्ट्रेलिया का दौरा करने से पहले 8 और 9 फरवरी को बेल्जियम की मेज़बानी करेगा।

23 और 24 मई को भारतीय हॉकी न्यूज़ीलैंड का स्वागत करने से पहले पुरुष टीम 25 और 26 अप्रैल को जर्मनी में दो मैचों के दौरे पर जाएगी, और 2 व 3 मई को ग्रेट ब्रिटेन से मुकाबला करेगी। इसके बाद भारत अपने एफआईएच प्रो लीग रॉउंड रॉबिन मैचों के दौरे का समापन 13 और 14 जून को स्पेन में करेगा.

एफआईएच पुरुष हॉकी टीम: पी आर श्रीजेश, कृष्ण बहादुर पाठक, हरमनप्रीत सिंह (उप कप्तान), गुरिंदर सिंह, अमित रोहिदास, सुरेंद्र कुमार, बीरेंद्र लकड़ा, रुपिंदर पाल सिंह, मनप्रीत सिंह (कप्तान), विवेक सागर प्रसाद, चिंगलेनसाना सिंह, नीलकंठ शर्मा, सुमित, गुरजंत सिंह, एस वी सुनील, ललित कुमार उपाध्याय, मनदीप सिंह, आकाशदीप सिंह, गुरसाहिबजीत सिंह, कोथाजीत सिंह खडंगबम